प्रधान आरक्षक रामकुमार शुक्ला ने क्यों की आत्महत्या, जानें....
| Rainbow News - Oct 3 2017 12:11PM

भिंड। जिले के रौन थाने में पदस्थ एक प्रधान आरक्षक ने अपने अधिकारियों की प्रताड़ना से तंग आकर जहर खाकर खुदखुशी कर ली। मरने से पहले प्रधान आरक्षक ने अपने साथ हुई ज्यादती की पूरी दास्तान कैमरे पर बताई और फिर दुनिया को अलविदा कह गया।

दरअसल, रौन थाने में पदस्थ प्रधान आरक्षक रामकुमार शुक्ला ने एक स्टेटमेंट में बताया कि सोमवार के दिन रौन थाने में सफाई अभियान के दौरान टीआई सुरेंद्र सिंह गौर ने उसके साथ मारपीट कर दी। जब रामकुमार शुक्ला ने अपनी आपबीती एसपी अनिल कुशवाह को सुनाई तो एसपी ने उल्टा रामकुमार को फटकार लगाते हुए लाइन में उपस्थित होने का मौखिक आदेश सुना दिया।

इस बात से व्यथित होकर प्रधान आरक्षक ने थाने में जहर खा लिया। रामकुमार शुक्ला को पहले भिंड जिला हॉस्पिटल और फिर ग्वालियर के जेएएच हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन रामकुमार शुक्ला ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

प्रधान आरक्षक रामकुमार शुक्ला ने अपनी आपबीती कैमरे के सामने पहले ही बता दी थी लिहाजा एसपी ने रामकुमार की मौत की खबर सुनते ही डीएसपी राकेश छारी को जांच के लिए रात में ही रौन थाने भेज दिया। अब एसपी अपना बचाव करने के लिए थाना स्तर पर ही मामला टालते नजर आ रहे हैं।



Browse By Tags



Other News