अम्बेडकरनगर : पत्रकार उत्पीड़न के खिलाफ दूर-दराज से आए पत्रकारों ने किया धरना-प्रदर्शन
| Rainbow News - Oct 5 2017 2:51PM

अम्बेडकरनगर। पुलिस द्वारा पत्रकारों के उत्पीड़न से नाराज देश के कोने-कोने से जुटे पत्रकारों ने एक सुर में पुलिसिया कार्रवाई को लेकर जमकर नारेबाजी करते हुए भड़ास निकाली। कहा कि यदि पत्रकारों का उत्पीड़न न रुका तो पत्रकार संघ प्रदेश स्तर पर अम्बेडकरनगर पुलिस की कार्यशैली को लेकर आंदोलन तेज करेगी। धरने के कारण अकबरपुर कोतवाल बृजेश मिश्रा पत्रकारों को धमकाने के लिए पीएससी के जवानों के साथ तैनात रहे।  बुधवार 4 अक्टूबर 2017 को पटेल नगर तिराहे पर आयोजित धरने को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार संदीप अग्रवाल ने कहा कि पुलिस इन दिनों अपनी कमियों को छुपाने के लिए पत्रकारों का उत्पीड़न कर रही हैं। जिसका जीता-जागता उदाहरण इब्राहिमपुर थाना क्षेत्र के पत्रकार अरविंद यादव है।

कहा की पुलिस सिर्फ गाल बजा रही है। बीते दिनों NTPC निर्माणाधीन विद्युत प्लांट की कार्यदायी संस्था के ऊपर जानलेवा हमला करने के मामले में पुलिस की थ्योरी यह कह रही है कि पत्रकार द्वारा मुखबिरी की गई। लेकिन पुलिस आखिर क्यों नहीं वह नंबर सार्वजनिक करती जिससे तत्कालीन थाना अध्यक्ष रहे राजेश यादव को आरोपी ने गोली कांड की जिम्मेदारी ली थी, घटना के तुरंत बाद दूरभाष पर फोन कर, कहा की अगर पुलिस सही है तो क्यों नहीं कॉल डिटेल को सार्वजनिक करती। कंचन खरे सेवा संस्थान के अध्यक्ष, प्रमुख समाजसेवी, पत्रकार प्रफुल्ल श्रीवास्तव ने कहा कि पुलिस मनगढ़ंत कहानी बनाकर जिस तरीके से एक पत्रकार को माफिया बनाने का काम कर रही है निश्चित तौर से वह अपनी कमियों को छुपाने का काम कर रही हैं।

कहा की घटना के दौरान डायल यूपी सौ 1672 की गाड़ी घटना की कुछ दूर पर खड़ी थी। कहां की काफी दिनों से यह गाड़ी कार्यदाई संस्था के इर्द-गिर्द घूमती दिखी। डायल 100 पर तैनात सिपाही आप का ननिहाल इसी गांव में है। कहा की पुलिस अधीक्षक के दरोगा तत्कालीन PRO रहे बृजेश मिश्रा ने माफियाओं से सांठगांठ कर अरविंद यादव को मुखबिरी का आरोप लगाते हुए केस डायरी में दर्ज किया। श्रीवास्तव ने कहा कि निश्चित तौर से दरोगा की कार्यशैली को लेकर भी विशेष एजेंसी से जांच करवानी चाहिए। जिले की पुलिस अपनी कमियों को छुपाने के लिए अब पत्रकारों को फर्जी मुकदमे में फंसाने का काम कर रहे है। वरिष्ठ पत्रकार शिव शंकर गुप्ता ने कहा कि पत्रकारों का उत्पीड़न अगर बंद नहीं हुआ तो प्रदीप भर के पत्रकार संगठन के सदस्य अंबेडकरनगर में अनशन करने का काम पुलिस के कार्यशैली को लेकर करेंगे।

सुल्तान रिजवी ने कहा कि निश्चित तौर से चौथे स्थान पर यह आघात है। जिसे एक कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। धरने के अंत में मुख्यमंत्री संबोधित ज्ञापन पुलिस अधीक्षक को रोकने के साथ जिलाधिकारी को भी भेजा गया। कहां की वरिष्ठ पत्रकार उत्पीड़न को बंद करने के साथ पत्रकार अरविंद यादव के ऊपर विशेष एजेंसी से जांच करवा कर कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। इसके साथ ही कहां की अगर उत्पीड़न बंद ना हुआ तो आने वाले दिनों में पत्रकार संगठन अनशन करने का काम करेगी। इस मौके पर गोंडा जिले की संजीव द्विवेदी, मूसा हसन, प्रभाकर यादव, सुरेंद्र जायसवाल, सुशील कुमार, राहुल कुमार, शेर बहादुर यादव, हर्षित सिंह आदि पत्रकार मौजूद रहे।



Browse By Tags



Other News