मोदी से नहीं हो पा रहा, हमें सत्ता दें छह माह में सब ठीक कर देंगे : राहुल
| Rainbow News - Oct 5 2017 3:37PM

अमेठी। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अगर 'किसान और रोजगार' जैसे दो बड़े मुद्दों का समाधान नहीं कर सकते तो कह दें, हम ये काम छह महीने में करके दिखा देंगे। राहुल अपने लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र अमेठी के ​तीन दिवसीय दौरे पर आये हैं। प्रशासन ने पहले उनके दौरे की अनुमति नहीं दी थी लेकिन बाद में मंजूरी दे दी। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने दौरे के पहले दिन मंगलवार को जगदीशपुर के कठौरा गांव में चौपाल लगायी। राहुल ने कहा, 'दो मुद्दे हैं हिन्दुस्तान में.... किसान और रोजगार का मसला। इनका समाधान सरकार को करना चाहिए। मोदी जी इनका समाधान नहीं कर सकते तो कह दें कि वह नहीं कर सकते। कहें कांग्रेस पार्टी आ जाए और वो मेरा काम कर दे तो हम वो काम छह महीने के अंदर करके दिखा देंगे।' उन्होंने कहा कि युवाओं को रोजगार देना सबसे अहम मुद्दा है लेकिन प्रधानमंत्री मोदी रोजगार नहीं दे पाये। ये सच्चाई है और इसका पूरे देश को पता है कि मोदी ने कहा था कि दो करोड़ युवाओं को हर साल रोजगार मिलेगा। 'लेकिन ये इस व्यक्ति के बस की नहीं है...गुस्सा बढ़ता जा रहा है। युवाओं को लग रहा है कि वे देश के लिए काम करना चाहते हैं लेकिन मौका ही नहीं है। किसान आत्महत्या कर रहे हैं तो इससे देश को फायदा नहीं है।'

राहुल ने कहा कि मोदी ने स्वयं अमेठी में कहा कि दो करोड़ युवाओं को हर साल रोजगार देंगे। हिन्दुस्तान में हर रोज 30 हजार युवा रोजगार ढूंढने निकलते हैं लेकिन इनमें से केवल 450 लोगों को ही रोजगार मिलता है। भाजपा और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोग पहले इसका जवाब दें। उन्होंने कहा कि हमारा मुकाबला चीन के साथ है। चीन और भारत की आबादी में ज्यादा फर्क नहीं है और दोनों ही बड़े देश हैं। चीन में हर रोज 50 हजार नये युवाओं को रोजगार मिलते हैं लेकिन हिन्दुस्तान में रोज केवल 450 युवा रोजगार पाते हैं। उन्होंने कहा कि चीन से मुकाबले की आवश्यकता है। मोबाइल फोन हो, वस्त्र हों या चप्पल, सब पर ‘मेड इन चाइना’ लिखा होता है। 'जब तक हम मेड इन इंडिया, मेड इन अमेठी और मेड इन उत्तर प्रदेश नहीं करेंगे, तब तक ये देश आगे नहीं जा सकता और मोदी जी को देश का समय बर्बाद करना बंद करना चाहिए और युवाओं को रोजगार देना शुरू करना चाहिए।' कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि संप्रग सरकार के समय अमेठी में काफी काम हुआ। राजमार्ग का काम हुआ, अस्पताल, पेट्रोलियम संस्थान एवं अन्य संस्थान बने। उन्होंने कहा कि फूड पार्क का काम कांग्रेस ने किया था लेकिन भाजपा सरकार ने इसे आगे नहीं बढ़ाया। अमेठी के लिए फूड पार्क सबसे जरूरी चीज थी। फूड पार्क में 40 कारखाने अमेठी में लग जाते। खाद्य प्रसंस्करण, चिप्स, टमाटो सास, आंवला के अलग अलग कारखाने लगते।

राहुल ने कहा कि इससे किसान अपना माल सीधे फूड पार्क में बेच पाते और उनको सही दाम मिल पाता लेकिन 'मुझे काफी दुख हुआ है कि अमेठी के लोगों को भाजपा ने चोट पहुंचायी है। ये गलत है। मगर ये तरीका है इनका (भाजपा)। इनकी सोच ही ऐसी है...मगर हम आपके लिए लड़ेंगे। जैसे पहले काम किया था, उससे दोगुना काम करके दिखायेंगे।' उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने स्वयं कहा था कि किसानों की मदद करेंगे, उन्हें उनकी उपज का सही दाम दिलाएंगे लेकिन हर प्रदेश में किसान आत्महत्या कर रहा है। जीएसटी के बारे में राहुल ने कहा कि सरकार को कर कम करना चाहिए और इसका सरलीकरण करना चाहिए। सरकार को छोटे व्यापारियों से उनकी मुश्किल पूछना चाहिए और बातचीत कर तय करना चाहिए कि किस तरह उनकी मदद की जा सकती है। उन्होंने मोदी को जीएसटी पर पुनर्विचार करने का सुझाव देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि एक कर होना चाहिए और 18 प्रतिशत से अधिक कर नहीं होना चाहिए। इसके बारे में सरकार को सोचना चाहिए। राहुल ने कहा, 'मैं सुझाव दे रहा हूं, पता नहीं (मोदी) सुझाव लेंगे या नहीं मगर विपक्ष का नेता हूं, इसलिए थोड़ा सुझाव दे सकता हूं।' उन्होंने कहा कि भाजपा ने जीएसटी को लागू किया मगर जीएसटी को वो समझी नहीं। हर प्रदेश में अलग अलग कानून बना दिये। छोटे से दुकानदार को हर महीने तीन फार्म भरने पड़ते हैं। राहुल ने कहा कि भाजपा ने जीएसटी को समझा नहीं है और 'गलत जीएसटी लागू कर दी है।' छोटे और मंझोले दुकानदार एवं कारोबारी रो रहे हैं। लाखों का कारोबार बंद हो गया और बेरोजगारी बढ़ती जा रही है।

भट्टा पारसौल का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि वहां की लड़ाई कांग्रेस ने लड़ी। उस समय किसी से भी जमीन छीन ली जाती थी। हमने लड़ाई लड़ी और आज शायद किसान खुशी से अपनी​ जमीन देना चाह रहे हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जब योजना बनाती है, तो वो जनता के बीच जाकर बनाती है। भाजपा के लोग ये काम नहीं करते हैं। 'जैसे मोदी जी स्वच्छ भारत की बात करते हैं....एक दिन सुबह उठेंगे तो कहेंगे कि मुझे स्वच्छ भारत चाहिए तो चलो पूरे हिन्दुस्तान को झाडू पकड़ा दो और शुरू कर दो मगर इससे बात बनती नहीं।' उधर, भारतीय जनता पार्टी ने राहुल गांधी के अमेठी में दिए गए बयान को रटा रटाया बताया। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि राहुल अपने निर्वाचन क्षेत्र में आठ महीने की लम्बी अवधि के बाद गए थे। अमेठी की जनता उनसे स्थानीय मुद्दों और समस्याओं पर समाधान चाह रही थी लेकिन राहुल ने नोटबंदी और जीएसटी पर रटा-रटाया, घिसा-पिटा बताया। त्रिपाठी ने कहा कि भाजपा ने अमेठी और रायबरेली में जिस तरह से सक्रियता बढ़ाई है उससे राहुल घबरा गए हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के अमेठी जाने की चर्चा से राहुल का तनाव और बढ़ गया है। स्मृति ईरानी अमेठी में लगातार सक्रिय हैं और विकास की योजनाओं को लेकर समर्पित दिख रही हैं। इससे अमेठी की जनता बड़े पैमाने पर भाजपा के साथ जुड़ रही है। भाजपा की बढ़ती लोकप्रियता से घबराये राहुल अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं।



Browse By Tags



Other News