मुम्बई हादसा : अफवाहों की बलि चढ़ते बेगुनाह लोग
| Rainbow News - Oct 7 2017 11:36AM

-प्रभुनाथ शुक्ला/ मुंबई के एलफिस्टन रेलवे स्टेशन पर पिछले दिनों मची भगदड़ में 22 रेल यात्रियों की जान चली गई जबकि 35 लोग घायल हुए। हलांकि अभी यह पता नहीं चल सका है कि बरसात की वजह से ओवरव्रिज पर जमा यात्रियों की भीड़ में भगदड़ क्यों मची। लेकिन इसकी वजह अफवाह के सिवाय कुछ नहीं दिखती है, हलांकि यह बात जांच के बाद साफ होगी कि आखिर यह घटना हुई कैसे। यह बात भी सामने आ रही है कि बारिश की वजह से शार्ट सर्किट हुई इसी दौरान अफवाह से भगदड़ मच गई और बेगुनाह यात्रियों की मौत हो गयी, जिसमें महिला यात्री भी शामिल हैं, जो लोग अपनी ड्यूटी पर जा रही थी। जिस समय यह घटना हुई वह सुबह 10ः40 का समय था। मुंबई और दूसरे महानगरों में यह वक्त  नौकरी और आफिस के अलावा दूसरे कार्र्याे पर जाने वालों का होता है, इस दौरान लोकल टेनों में भीड़ का दबाब अधिक रहता है। भगदड़ क्यों मची इस बात का खुलासा नहीं हो पाया है। लेकिन निश्चित तौर पर बेसिर पैर की अफवाह ने रेल यात्रियों की मौत का कारण बनी। रेल विभाग ने मुंबई में 30 ओवरब्रिज बनाने का फैसला किया है। लेकिन सबसे अहम सवाल है कि इस तरह की घटनाओं को ओवरव्रिज बना कर नहीं रोका जा सकता है। क्योंकि अफवाहों को सिरपैर नहीं होता है। भीड़ में अगर लोग संयम से काम लें तो इस तरह के हादसों पर रोक लगायी जा सकती है।

देश में धार्मिक आयोजनों या भीड़ भाड़वाले स्थानों पर इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी हैं। चार साल पूर्व बिहार की राजधानी पटना में दशहरा उत्सव के दौरान गांधी मैदान में मची भगदड़ में 33 लोगों की अफवाह की वजह से मौत हो गयी थी। दक्षिण भारत के सबरीमाला मंदिर में भी एक धार्मिक उत्सव के दौरान पटाखे के ढेर में आग लग जाने से कई लोग जहां मारे गए थे वहीं विस्फोट की वजह से मंदिर को को भी क्षति पहुंची थी। इंटर नेशनल जर्नल आफ डिजास्टर रिस्क रिडक्शन में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार देश में 79 फीसदी हादसे धार्मिक अयोजनों मंे मची भगदड़ और अफवाहों से होते हैं। कुछ साल पहले एक सर्वे के अनुसार 15 राज्यों में पांच दशकों में 34 घटनाएं हुई हैं।  जिसमें हजरों लोगों को जान चली गयी। रिपोर्टक के अनुसार दूसरे नम्बर पर जहां अधिक भीड़ जुटती हैं वहां 18 फीसदी घटनाएं भगदड़ की वजह से हुई। तीसरे पायदान पर राजनैतिक आयोजन हैं जहां भगदड़ और अव्वस्था से तीन फीसदी लोगों की जान जाती है। नेशनल क्राइम ब्यूरो के अनुसार देश में 2000 से 2012 तक भगदड़ में 1823 लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ी। चार साल पूर्व 2013 में तीर्थराज प्रयाग में आयोजित महाकुंभ के दौरान इलाहाबाद स्टेशन पर मची भगदड़ के दौरान 36 लोगों को अपनी जान गवांनी पड़ी थी। जबकि 1954 में इसी आयोजन में 800 लोगों की मौत हुई हो गई थी। उस दौरान कुंभ में 50 लाख लोगों की भीड़ आयी थी।

2005 से लेकर 2011 तक धार्मिक स्थल पर अफवाहों से मची भगदड़ में 300 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। राजस्थान के चामंुडा देवी, हिमांचल के नैना देवी, केरल के सबरीमाला और महाराष्ट के मंडहर देवी मंदिर में इस तरह की घटनाएं हुई हैं। हलांकि भीड़ और अफवाहों की वजह से मचने वाली भगदड़ का संबंध सिर्फ भारत से नहीं बल्कि विदेशोें भी इस तरह की घटनाएं हुई हैं। यहां मरने वालों को संख्या सबसे अधिक रही है। 1980 से 2007 तक दुनियां में भगदड़ की 215 घटनाएं हुईं। जिसमें 7,000 से अधिक लोगों की मौत हुई। घटनाओं में दुगुने से अधिक लोग जख्मी हुए। 2005 में बगदाद मंे एक धार्मिक जुलूस के के दौरान तकरीबन 700 लोग मारे गए थे जबकि 2006 में मीना घाटी में हज के दौरान लगभग 400 लोगों की मौत हुई। हमारे पास भीड़ को नियंत्रित करने का कोई सुव्यवस्थित तंत्र नहीं है। जिसकी वजह है कि आए दिन इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं। सरकार की ओर से लोगों को मुआवजा देकर अपने दायित्वों की इतिश्री कर ली जाती है। लेकिन सरकार या व्यवस्था से जुड़े लोगों का ध्यान फिर इस ओर से हट जाता है। यहीं लापरवाही हमें दोबारा दूसरे हादसों के लिए जिम्मेदार बनाती है। हादसे कई परिवारों को ऐसे मोड़ पर  ला खड़ा करते हैं जहां से वे पुनः अपनी दुनिया में नहीं लौट पाते हैं। अकारण परिवार का मुखिया, बेटी, पत्नी, मां, या पिता शिकार हो जाते हैं। जिन पर घर समाज की पूरी होती है।

आम तौर राजनीति रैलियां हों या फ़िर धार्मिक आयोजन भीड़ जुटाने के लिए तरह - तरह के हथकंडा अपनाया जाता है । भीड़ तो जमा हो जाती है लेकिन उसे नियंत्रण के लिए आयोजकों और प्रशासन के पास इंतजाम नहीँ होते। जिसका नतीजा होता है कि इस तरह की अफवाह की वजह से लोगों में अपने को सुरक्षित रखने की होड़मच जाती है। जिसका नतीजा होता है बेकाबू भीड़ की भेंट बेगुनाह लोग चढ़ जाते हैं। कहा जाता है कि अफवाह को सिर पैर नहीँ होते हैं। इस स्थिति में लोगों में सोचने समझने की क्षमता खो देते हैं। जिसका नतीजा है भीड़ के आपा खोने की वजह से लोग मारे जाते हैं। हादसे के बाद उतनी व्यवस्था नहीँ होती जहाँ पीडितों को तत्काल इलाज की सुविधा उपलब्ध हो और उनकी जान बचाई जा सके। हादसा महिलाओं और मासूम बच्चों के लिए बेहद दु:खद होती है क्योंकि हादसे के दौरान लोग भाग नहीँ पाते जिसकी वजह से लोगों की मौत हो जाती है। क्योंकि भगदड़ के दौरान महिलाएँ और मासूम दब जाते हैं। मौत की वजह खुद आयोजक होते हैं। आम तौर पर धार्मिक आयोजन के लिए प्रशासनिक अनुमति नहीँ ली जाती है। आगर अनुमति ली भी जाती है तो वह औपचारिक होती है। क्योंकि आदेश से अधिक लोग जुटते हैं जबकि दूसरी सुविधाएँ उस तरह की नहीँ होती हैं। सरकारें और अफसर भी इस तरह के आयोजनों से मुँहबंद कर लेते हैं । किसी भी प्रकार की अनहोनी और मीडिया की खींचाई के बाद सरकार जागती है। हरियाणा का पंचकुला कांड, जाट आंदोलन गलत सरकारी नीति का नतीजा है। कोर्ट के बार-बार दखल के बाद खट्टर सरकार वोट बैंक बनाती रही जबकि भीड़ जमा होती रही। जबकि अदालत इस मसले पर हर रोज सरकार को चेतावनी दे रही थी। हादसे होने के सरकारें चुप हो जाती हैं। इस तरह की घटनाओं से सबक नहीँ लेती हैं। देश के लिए यह शर्म की बात है। विदेशों में इस तरह की घटनाएँ कम होती हैं। मुम्बई के एल्फिस्टन रेलवे स्टेशन पर हुआ हादसा हमारे लिए चुनौती है। एक तरफ़ हम बुलेट रेल चलाने जा रहे हैं दूसरी तरफ़ रेलवे स्टेशन पर जमा होने वाली यात्री सुरक्षित नहीँ हैं। भविष्य में इस तरह की वारदात न हो हमें विचार करना होगा। भीड़ से बचने के लिए और लोकल ट्रेनो और सुविधाओं को बढ़ना होगा। रेल यात्रियों को भी अफवाह और भीड़ में संयम बरतने की आवश्यकता है। इस घटना कि सही जाँच के बाद दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।



Browse By Tags



Other News