अकबरपुर नगर पालिका क्षेत्र के अधिकांश हिस्सों में नहीं हो रही है सुचारू जलापूर्ति
| By- Reeta Vishwakarma - Oct 10 2017 5:10PM

अम्बेडकरनगर। अकबरपुर नगर पालिका क्षेत्र के कई वार्डों में पेयजलापूर्ति की घोर किल्लत के चलते नगर जनों में गहरा रोष व्याप्त होने लगा है। पानी की इस किल्लत में तब और इजाफा हो जाता है जब विद्युत अनापूर्ति की स्थिति होती है। अकबरपुर नगर जो जिला मुख्यालयी शहर है इसके कई हिस्सों में कभी भी सुचारू रूप से जलापूर्ति न होने की शिकायतें बराबर मिलती रहती हैं। प्रथम तल, द्वितीय तल व तृतीय तल को कौन कहे भवनों के अन्डर ग्राउण्ड/बेसमेन्ट कक्षों में भी पानी की एक बूंद के लिए वहाँ रहने वाले लोग तरसते हैं।

अकबरपुर का मुरादाबाद वार्ड एक ऐसा मोहल्ला है जहाँ के लोगों को कभी भी सुचारू रूप से नगर पालिका द्वारा की जाने वाली जलापूर्ति का लाभ मिला ही नहीं। कमोवेश इसी तरह के हालात अब पूरे नगर क्षेत्र में हो देखने को मिल रहे हैं। रेलवे स्टेशन रोड, होटल साईं प्लाजा के पीछे मुरादाबाद मोहल्ला वासियों के अनुसार इस समस्या के बावत अनेकों बार नगर पालिका परिषद के जिम्मेदार, ओहदेदारों को बताये जाने के बावजूद भी जलापूर्ति की समस्या इस समस्या का समाधान नहीं हो सका। धनी वर्गीय लोगों ने अपनी सुविधा के लिए जेट/टुल्लू पम्प लगवा रखा है जो कम दाब पर की जाने वाली जलापूर्ति को उन घरों की तरफ नहीं जाने देता जहाँ टुल्लू या जेट पम्प नहीं लगा है। ऐसे में गरीब व सामान्य तबके के लोगों की दिनचर्या सुचारू जलापूर्ति के अभाव में प्रभावित होकर रह जाती है।

क्या कहते हैं अधिशाषी अधिकारी 

इस सम्बन्ध में अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका अकबरपुर सुरेश कुमार मौर्य ने पूछने पर बताया कि कई जगहों पर नए कनेक्शन दिए जा रहे हैं जिससे जलापूर्ति का दाब नहीं बन पा रहा है, साथ ही आबादी व बढ़ती हुई जनसंख्या घनत्व के अनुपात में जलापूर्ति की कम क्षमता की वजह से भी समस्या हो रही है। वे भी प्रयास में हैं कि नगर की पेयजलापूर्ति समस्या अविलम्ब समाप्त हो इसके लिए उन्होंने उ.प्र. जलनिगम व जिलाधिकारी के संज्ञान में बात डाली है उनके स्तर एवं प्रयास से पेयजलापूर्ति की समस्या पर जल्द ही काबू पा लिया जाएगा।

अधिशाषी अधिकारी मौर्य के कथन में भले ही सच्चाई हो परन्तु प्रतीत ये हो रहा है कि अब नगर निकाय चुनाव उपरान्त नए परिषद के गठन पश्चात ही नगरजनों की अहम समस्या का समाधान सम्भव हो सकेगा। यहाँ बताना आवश्यक है कि विगत लगभग 3 माह से नगर पालिका परिषद अकबरपुर नेतृत्व विहीन चल रहा है, इसमें कार्यरत सभी जिम्मेदार लोग, ठेकेदार, अभियन्ता, कर्मचारी/अधिकारी सभी जन समस्याओं की तरफ ध्यान न देकर नगर निकाय चुनाव, उसका परिणाम व परिषद गठन होने तक 'राम नाम की लूट है, लूट सको तो लूट' को चरितार्थ करते हुए अनियंत्रित व बेलगाम होकर मनमाना कर रहे हैं। 

वरिष्ठ नगरजनों के अनुसार

वरिष्ठ नगर जनों के अनुसार अधिशाषी अधिकारी, अभियन्ता, ठेकेदार व पुराने घाघ किस्म के प्रभावशाली पालिका कर्मी मनमाने तरीके से नगरजनों के हितार्थ मिलने वाले सरकारी धन का उपयोग स्वयं की जेबें भरने के लिए कर रहे हैं साथ ही ई.ओ. सुरेश कुमार मौर्य की कार्यप्रणाली भी कोई उत्कृष्ट नही कही जा रही है, जिसे देखकर यह कहा जा सके कि ये बहैसियत अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका अकबरपुर शहर के वासिन्दों को नगरीय सुविधाएँ मुहैय्या कराने के प्रति सचेष्ट हैं।



Browse By Tags



Other News