बीएचयू : लाठीचार्ज के बाद फिर भड़की आग, छात्र नेता नेहा यादव पर जानलेवा हमला
| -Rajeev Kumar Gupta/ - Oct 12 2017 12:00PM

वाराणसी। विगत दिनों वाराणसी जहां बीएचयू की छात्राओं द्वारा किए गए रोष प्रदर्शन पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज से जलता  रहा, वहीं बुधवार को फिर से हिंसक आग भड़की है। जिसमें पशु तस्करों, ग्रामीणों व छात्रों की जमकर भिड़ंत देखने को मिली है। इस हिंसक भिड़ंत में बीएचयू की छात्र नेता नेहा यादव पर भी जानलेवा हमला होने की बात सामने आई है। उल्लेखनीय है कि पीएम मोदी के वाराणसी के दौरेे के दौरान बीएचयू में छात्राओं ने छेड़छाड़ से परेशान होकर आंदोलन व प्रदर्शन किया था। जिसमें पुलिस ने छात्राओं पर ही लाठीचार्ज कर दिया था। बावजूद इसके शासन प्रशासन और आमजनों ने सबक नहीं ली और  फिर से छात्र नेता पर हमले की बात सामने आई है। दरअसल इस घटना के विरोध में ग्रामीणों और छात्रों ने भदोही हाइवे जाम कर दिया।

जिनका आरोप है कि पुलिस की मौजूदगी में पशु तस्करों ने छात्र नेता छात्रा पर हमला किया है। फिर भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उधर पीड़िता की निशानदेही पर पुलिस ने करीब 20 पशु तस्करों को गिरफ्तार किया है। वहीं छात्रों का आरोप है कि डाफी चौकी इंचार्ज के सामने छात्र नेता पर जानलेवा हमला किया गया। पुलिस के सामने पशु तस्करों ने वारदात को अंजाम दिया। आरोप है कि बजाए पशु तस्करों को पकड़ने के, पुलिस बस तमाशा देखती रही। बता दें कि पशुओं से भरे ट्रक रोककर छात्रों ने पुलिस को सूचना दी थी। ग्रामीणों और छात्रों ने 5 ट्रकों और 9 तस्करों को पकड़ा था। लेकिन इसके बाद पशु तस्कर छात्र नेता नेहा यादव से मारपीट कर मौके से फरार हो गए। इस हमले के बाद आक्रोशित ग्रामीण और छात्र नेता ने लंका थाना क्षेत्र में हाईवे जाम कर दिया।

बीएचयू की छात्र नेता नेहा यादव ने पशु तस्करों के खिलाफ अभियान  छेड़ रखा है। अभी गत सप्ताह चंदौली जनपद के अलीनगर थानाक्षेत्र में भी एक बाउंड्री के अंदर वध के लिए रखे गए सैकड़ों पशुओं को नेहा ने आज़ाद कराया था। उक्त मामले में मुगलसराय के कसाब महाल स्थित शौकत नामक पशु तस्कर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। वाराणसी में डाफी टोल प्लाजा पर मंगलवार की देर रात छात्रों ने वाहनों में पशु लादकर ले जा रहे पांच ट्रकों को रोक लिया। छात्रों ने पशु तस्करी किए जाने का आरोप लगाते हुए हंगामा कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने ट्रक चालकों समेत 21 लोगों को हिरासत में ले लिया। मामला उस समय और बिगड़ गया जब पशु वाहन को रोकने वालों में बीएचयू की पूर्व छात्रा नेहा यादव से बदतमीजी की। यह देख छात्र भड़क उठे और हाइवे पर चक्का जाम कर दिया।

नेहा यादव शोध छात्रा हैं और पशुओं को बचाने का साथियों के साथ मिलकर बीड़ा उठाया है। नेहा को किसी ने पशु तस्करी के लिए जा रही तहत गाड़ियों के बारे में बताया। जिसके बाद उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी और वह खुद टोल प्लाजा पर अपने साथियों के साथ देर रात पहुंच गई। उन्होंने पशुओं से भरे 5 ट्रक को पकड़ा। इसके बाद गाड़ियों में सवार 21 लोगों पुलिस के हवाले कर दिया। लेकिन कुछ लोगों ने नेहा के साथ बदतमीजी कर दी जिसके बाद वह सड़क पर लेट गई। इससे जाम लम्बा जाम लग गया। नेहा ने आरोप लगाया कि पुलिस के शह पर ही लोगों ने बदतमीजी की। मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी लंका संजीव मिश्रा ने ट्रक चालकों समेत 21 लोगों को हिरासत में लेकर थाने भेज दिया। वहीं देर रात तक छात्रा को समझाकर शांत कराया तब जाकर जाम छूटा।

छात्रा पर भी हुआ केस

वाराणसी। लंका थानाक्षेत्र में पशु तस्करी मामले में पुलिस ने बुधवार को 21 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। वहीं,मारपीट और नेशनल हाइवे जाम करने के मामले में छात्रा नेहा यादव और अन्य लोगों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया गया है।

क्या है पूरा मामला?

लंका थाना क्षेत्र के डाफी बाईपास पर मंगलवार की देर रात खुद को बीएचयू की पूर्व छात्रा बताने वाली नेहा यादव ने पशु तस्करी का मामला पकड़ा। 5 ट्रकों से कई पशु तो बरामद हुए ही,साथ में 9 से ज्यादा तस्कर भी पकड़े गए। आरोप था कि रात करीब 11.30 बजे कुछ लड़कों ने नेहा पर हमला कर दिया,जिसके बाद नेहा चौकी इंचार्ज डाफी पर तस्करी कराने का आरोप लगते हुए बाईपास पर ही लेट गई और हाइवे जाम कर दिया। आरोप था कि पुलिस की मिलीभगत से ये सब हो काम हो रहा है। रोकने पर बीएचयू के छात्रों पर हमला किया है। इस तरह देर रात तक हंगाामा चलता रहा।



Browse By Tags



Other News