राजपूत संगठनों को रिलीज से पहले फिल्म पद्मावती दिखाने पर राजी हुए भन्साली
| Rainbow News - Nov 13 2017 2:34PM

मुम्बई। राजपूत समाज के सामाजिक संगठन राजपुताना सेवासंघ की महिला एवं पुरूष कार्यकर्ताओ ने महिला प्रकोष्ठ की प्रमुख सुमित सुमन सिंह के नेतृत्व, पुरूषों का नेतृत्व मुंबई अध्यक्ष रामविलास सिंह, युवाओं का नेतृत्व मुंबंई युवाध्यक्ष धर्मेन्द्र सिंह, नितेश सिंह, दीपक सिंह और संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आर पी सिंह और संरक्षक हरगोवविंद सिंह के मार्गदर्शन में रविवार को जुहू में फ़िल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के घर और कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर फ़िल्म पद्मावती का विरोध किया। इस दौरान महिला कार्यकर्ताओं ने जमकर भन्साली के खिलाफ नारेबाजी की और फ़िल्म पद्मावती को रिलीज नही होने देने की चेतावनी दी।

चूंकि पुलिस को विरोध प्रदर्शन की पहले से संस्था को लिखित जानकारी संस्था के द्वारा दी गई थी और संस्था कि तैयारी देखते हुए पुलिस ने इलाके में धारा 144 लगा दिया था और विरोध प्रदर्शन करनेवाली महिला प्रदेश अध्यक्षा सुमिता सुमन सिंह एवं मुंबई अध्यक्ष राविलास के साथ सैकड़ों महीला एवं पुरूष कार्यकर्ताओ सहीत राष्ट्रीय अध्यक्ष आर पी सिंह के साथ सभी संगठन के पदाधिकारियों को गिरफ्तार कर जुहू पुलिस स्टेशन ले गई। बाद में सभी को छोड़ दिया गया।

इस बीच अखण्ड राजपुताना सेवासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आर पी सिंह ने बताया है कि फ़िल्म निर्माता संजय लीला भन्साली रिलीज से पूर्व फ़िल्म पद्मावती राजपूत समाज के संगठनों के प्रतिनिधियों को दिखाने के लिए सहमत हो गए है और यही कारण था कि सभी कार्यकर्ताओं को अपने जगह से ही निकलने से संगठन की तरफ से रूकने की सलाह दी गयी परंतु मुंबई के कई अलग अलग पोलिस स्टेशन मे हमारे सैकड़ों कार्यकर्ताओं को बैठाया गया और फिर छोड़ा गया जो सरासर ग़लत और निंदनीय है।

आर पी सिंह ने कहा कि फ़िल्म देखने के बाद ही पता चलेगा कि फ़िल्म में राजपूत समाज और रानी पद्मावती की मर्यादा और मान-सम्मान का कितना ख्याल रखा गया है जैसा कि भंसाली दावा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि फ़िल्म में कुछ भी तथ्य से परे, राजपूत समाज की मर्यादा के विपरीत और आपत्तिजनक हुआ तो उसे फ़िल्म से हटाना ही होगा तभी फ़िल्म रिलीज होगी ।बता दें कि संजय लीला भन्साली की फिल्म पद्मावती 1 दिसम्बर को रिलीज होगी।

Report- शशिकांत सिंह



Browse By Tags



Other News