फसलों मे सम सामयिक कीट एवं रोग प्रबंन्धन करे किसान : डा. रवि प्रकाश
| Rainbow News - Jan 1 2018 3:01PM

नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज फैजाबाद द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र पाँती अंबेडकर नगर  के कार्यक्रम समन्वयक डॉ रवि प्रकाश मौर्य ने किसान भाइयों को सम सामयिक खेती बारी की जानकारी दी है, बताया कि किसान भाई इस समय फसलो पर विशेष ध्यान दें ।सरसों में माहू कीट के प्रकोप होने की संभावना हो सकती है इस कीट के शिशु एवं प्रौढ़ दोनों हरे रंग के होते हैं जो पत्तियों फूलों नयी फलियो का रस चूस कर कमजोर कर देते हैं।

इसके नियंत्रण के लिए डाईमेथोएट 30% ईसी 2 50 मिलीलीटर को 150 लीटर पानी मे घोल बनाकर प्रति बीघा की दर से छिड़काव करें। सरसों में सफेद गेरूई रोग का प्रकोप होने की संभावना है पत्तियो की नीचली सतह पर सफेद फफोले बनते है। जिससे पत्तियां पीली होकर सूखने लगती हैं फूुल आने की अवस्था में पुष्पक्रम विकृत हो जाता है ।जिससे कोई भी फली नहीं बनती है।

इसकी रोकथाम के लिए मैंकोजेब 75 डब्लू.पी. 500ग्राम को 150लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति बीघा की दर से छिड़काव करें। अरहर में फली छेदक कीट का प्रकोप हो सकता है फली छेदक कीट की सुडियां फली मे छेद कर नुकसान करती हैं। यहअरहर के अतिरिक्त चना एवं टमाटर की फसल को भी नुकसान करता है।

रोकथाम के लिए स्पीनोसेट45 एस.सी.50 मिली को 150से 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति बीघा की दर से छिड़काव करे। आलू में झुलसा रोग की प्रकोप होने की संभावना है किसान भाई इसकी रोकथाम के लिए मैंकोजेब75 डब्लू.पी. 500 ग्राम को 150 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति बीघा की दर छिड़काव करें।



Browse By Tags



Other News