प्रभावी संचार के लिये सृजनात्मकता आवश्यक : प्रो. तबरेज
| -Ramjee Jaiswal - Feb 4 2018 3:32PM

पूविवि में आयोजित चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम सम्पन्न

जौनपुर। व्यवसाय प्रबंध विभाग वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर एवं अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित शैक्षणिक नेतृत्व प्रशिक्षण कार्यक्रम का शनिवार को समापन हो गया। इस मौके पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रबंध अध्ययन संकायाध्यक्ष प्रो. परवेज तालिब ने कहा कि संचार के प्रभावी होने के लिये उसमें सृजनात्मकता होनी चाहिये।

बोलते व लिखते समय हम जिन शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं, उसके भाव को समझना चाहिये। इस दौरान प्रतिभागियों के लेखन क्षमता की वृद्धि के लिये काउन्सलिंग सत्र का आयोजन हुआ जहां अंतिम सत्र में प्रतिभागियों ने अपने अनुभवों को साझा किया। समापन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि प्रो. रंजना प्रकाश ने कहा कि शिक्षकों के व्यवहार में नम्रता होनी चाहिये, क्योंकि विद्यार्थी अपने शिक्षकों से ही सीख लेते हैं। शिक्षकों को सदैव विद्यार्थियों के हित को ध्यान में रखकर कार्य करना चाहिये। विशिष्ट अतिथि इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रो. हरि प्रकाश ने सहित अन्य वक्ताओं ने अपना विचार व्यक्त किया तो समन्वयक मुराद अली ने चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की रिपोर्ट प्रस्तुत किया।

इस अवसर पर प्रो. अजय प्रताप सिंह, प्रो. अजय द्विवेदी, प्रो. अविनाश पाथर्डीकर, डा. विनोद सिंह, प्रो. वन्दना राय, डा. प्रदीप कुमार, डा. पुष्पा सिंह, डा. नूपुर तिवारी, डा. संजीव गंगवार, डा.ॉ सौरभ पाल, डा. रसिकेश, डा. संतोष कुमार, डा. मनोज मिश्र, डा. दिग्विजय सिंह राठौर, डा. सुशील सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।



Browse By Tags



Other News