बूचड़खाने बंद करने से पहले माफ हो किसानों का कर्जा : राजपूत
| Rainbow News - Apr 28 2017 12:27AM

किसानों से वादाखिलाफी न करे भाजपा

नोएडा। फाइट फॉर राइट के राष्ट्रीय अध्यक्ष चरण सिंह राजपूत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तो उत्तर प्रदेश में सरकार बनने पर सबसे पहले किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही थी। अब जब भाजपा की सरकार बन गई है तो सबसे पहले किसानों का कर्जा माफ हो। छोटे किसानों का सारा कर्जा माफ कराकर प्रधानमंत्री अपनी बात पर खरा उतरें। शुरुआती फैसले में ही बूचड़खाने बंद करने पर तो ऐसा लग रहा है कि भाजपा को किसानों की समस्याओं से ज्यादा चिंता अपने कट्टर हिन्दुत्व एजेंडे को आगे बढ़ाने की है।

उन्होंने कहा कि योगी सरकार की शुरुआत से समझ में आ गया है कि यह सरकार किस ओर जा रही है। भाजपा को किसानों व मजदूरों की ङ्क्षचता नहीं है, उसे तो बस धार्मिक मुद्दों सुलगाकर अपना हिन्दू वोटबैंक मजबूत करना है। राजपूत ने कहा कि मुख्यमंत्री आवास में ऐसा क्या हो गया था कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को वहां पर शुद्धिकरण कराना पड़ा। मुख्यमंत्री की इस तरह के गतिविधियों से साम्प्रदायिक सौहार्द बिगड़ने की आशंका है। राजपूत ने मंत्रियों व अधिकारियों को संपत्ति का ब्योरा देने के आदेश की सराहना की।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक परेशान किसान व निजी संस्थाओं मेंं काम करने वाले नौकरीपेशा लोग हैं। बुंदेलखंड में आए दिन किसानों की आत्महत्या करने की बातें सामने आती रही हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री भावनाओं से जुड़े मुद्दों पर कम और जमीनी मुद्दों पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार के गठन में ही पश्चिमी उत्तर प्रदेश व बुंदेलखंड की अनदेखी की गई है। मुख्यमंत्री व उप मुख्मयंत्री दोनों पूर्वांचल से हैं। एक उप मुख्यमंत्री अवध क्षेत्र से है। दलितों के वोट लेने वाली भाजपा ने उनकी भी उपेक्षा की है।

राजपूत ने कहा कि योगी आदित्यनाथ को लेकर राजनीतिक दल मुस्लिमों में भय पैदा कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें ऐसे फैसलों से बचना चाहिए जिसमें मुस्लिमों के लिए गलत संदेश जाए। बूचड़खाने बंद करने का निर्णय बाद में भी हो सकता था। इस तरह के मुद्दों से ज्यादा जरूरत लोगों को रोजी-रोटी दिलाने की है। उन्होंने कहा कि किसानों को हर सरकार ठगती रही है। कभी कर्जा माफी के नाम पर तो कभी फसल बीमा के नाम पर। किसानों से जुड़ी योजनाओं का फायदा या तो बैंक उठाते हैं या फिर दलाल। हां कर्जा माफी में डिफाल्टर किसानों को जरूर फायदा मिल जाता है। तो यह माना जाए कि भाजपा भी बस किसानों को ठगेगी ही। वैसे तो भाजपा की जब केंद्र में सरकार है तो पूरे देश के ही किसानों का कर्जा माफ कर देना चाहिए।



Browse By Tags



Other News