सैफ अली खान के पिता टाइगर पटौदी ने भी किया था काले हिरण का शिकार
| Rainbow News - Apr 6 2018 5:09PM

जोधपुर। 20 साल पुराने काला हिरण शिकार मामले में 5 साल की सजा पा चुके सलमान खान को शुक्रवार को जोधपुर की अदालत से जमानत नहीं मिल पाई। उन्हें आज भी अपनी रात जोधपुर जेल में ही काटनी होगी। जिस मामले में सलमान खान दोषी करार हुए हैं, उसी मामले के अन्य आरोपियों को गुरूवार को कोर्ट ने बरी कर दिया है, वो आरोपी थे, बॉलीवुड अभिनेता सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम, जिनके खिलाफ कोर्ट में सबूत नहीं मिले। सलमान को बेल मिलेगी या नहीं, इस बारे में पता शनिवार सुबह 10:30 बजे ही चलेगा, जिस वक्त इस मसले पर फैसला सुनाया जाएगा।

वैसे सलमान खान ही अकेले ऐसे सेलिब्रेटी नहीं हैं, जिनके ऊपर काले हिरण के शिकार का मामला दर्ज हुआ है। इससे पहले भारत के मशहूर क्रिकेटर और एक्टर सैफ अली खान के अब्बाजान यानी कि मंसूर अली खान पटौदी भी काले हिरण के शिकार के आरोपी रह चुके हैं। यह घटना साल 2005 की है, जब मंसूर अली खान पटौदी हरियाणा के झज्जर जिले में शिकार पर गये थे। इस पूरे प्रकरण में खास बात ये थी कि जिस लाइसेंसी बंदूक से हिरण का शिकार हुआ था, वो बंदूक का लाइसेंस पटौदी की छोटी बेटी सोहा अली खान के नाम पर था। पुलिस को मौके से22 बोर की राइफल भी मिली थी।

इस मामले का खुलासा तब हुआ जब विश्व पर्यावरण दिवस यानी की 5 जून को झज्जर के जंगलों में काले हिरण को मारने की खबर आई और उसके बाद झज्जर के एसएचओ ने पूर्व क्रिकेटर मंसूर अली खान और उनके शिकार टीम में शामिल रहे 6 लोगों को पकड़ा था। पुलिस ने इनकी गाड़ियों से एक मादा काला हिरण और खरगोश के शव बरामद किये थे। फैसला आने से पहले ही पटौदी का हो गया निधन इस मामले में पटौदी समेत 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज हुआ था।

बाद में साल 2009 में गुड़गांव डीएम ने सोहा के राइफल के लाइंसेस को रद्द कर दिया था और कहा था कि सोहा ने नियमों का उल्लंघन किया है। इस मामले की सुनवाई फरीदाबाद के स्पेशल पर्यावरण कोर्ट में हो रही थी, इस बारे में साल 2015 में फैसला आया था, जिसमें सभी आरोपियों को दोषी करार दिया गया था और सबको तीन साल की सजा हुई थी लेकिन फैसले से पहले ही साल 2011 में ही नवाब पटौदी का देहांत हो गया, जिसके बाद, उनका नाम आरोपियों की लिस्ट से हटा दिया गया था।



Browse By Tags



Other News