दिन बहुरेंगे पचनद के, अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन क्षेत्र के रूप में संवरेगा
| -K.P. Singh - Apr 14 2018 12:12PM

उरई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आरोप लगाया है कि पिछले डेढ़ दशक में उप्र में जो सरकारें रहीं उनमें से ज्यादातर ने विकास और योजनाओं में जाति, धर्म और क्षेत्र के आधार पर भेदभाव किया। उनकी सरकार के एक वर्ष के कार्यकाल में इस कुरीति को पूरी तरह खत्म किया गया है जिससे कि पूरी 22 करोड़ जनता को सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके।

स्थानीय राजकीय इंटर कालेज मैदान में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया। उन्होंने कहा कि उप्र में 885000 झोपड़ी वालों को पक्के आवास दिए जा चुके हैं। 40 लाख व्यक्तिगत शौचालय बनाए गए हैं। 32 लाख गरीबों को नि:शुल्क विद्युत कनेक्शन दिए गए हैं और 65 लाख से अधिक लोगों को उज्ज्वला योजना से लाभान्वित किया गया है। प्रदेश में विकास रथ तेज रफ्तार से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने बुंदेलखंड के लिए उठाए गए कदमों का भी अपने भाषण में जोरशोर से उल्लेख किया। बताया कि चित्रकूट से जालौन होते हुए आगरा तक जोडऩे के लिए एक्सप्रेस वे को जोडऩे की मंजूरी दी गई है जिससे बुंदेलखंड के पिछड़े इलाके की तस्वीर ही बदल जाएगी।

उन्होंने बताया कि गत 21-22 मार्च को उप्र इन्वेस्ट समिट का आयोजन लखनऊ में किया गया था जिसमें प्रधानमंत्री ने रक्षा सामग्री निर्माण गलियारा बुंदेलखंड में बनाने की मंजरी दी है। उन्होंने कहा कि बुंदेलखंड में सबसे गंभीर समस्या पेयजल की है जिसके ठोस निदान के लिए अभी तक किसी सरकार ने कोई प्रयास नहीं किया। उन्होंने बुंदेलखंड के दो दिन के दौरे में इस पर गंभीर मंथन किया है। बुंदेलखंड के प्रत्येक गांव में पाइप लाइन के जरिए पेयजल आपूर्ति की व्यवस्था की जाएगी। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उप्र की स्थापना 24 जनवरी 1950 को हुई थी। इसकी वर्षगांठ मनाने की परंपरा की जरूरत पर कोई ध्यान नहीं दिया गया था।

इस बार पहली बार उप्र स्थापना दिवस मनाया गया जिसमें वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट की योजना के तहत जालौन में कालपी हाथ कागज उद्योग के विकास को हाथ में लिया गया। हाथ कागज उद्योग इकाइयों के अपद्रव्यों के निस्तारण के लिए उद्यमियों ने व्यक्तिगत तौर पर ट्रीटमेंट प्लांट लगाने का खर्चा वहन करने में असमर्थता जाहिर की थी। उनकी मांग थी कि सरकारी खर्चे पर कामन ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर इसका निदान किया जाए। उनकी इस मांग को आगे बढ़ाने का संकल्प सरकार ने लिया है। योगी ने कहा कि बुंदेलखंड में पर्यटन उद्योग के विकास की भी बहुत संभावनाएं हैं। संगम में केवल दो नदियां मिलती हैं लेकिन जालौन के माधौगढ़ क्षेत्र में पांच नदियों का अनूठा संगम है। इसे संवारने से जिले में पर्यटन को काफी बढ़ावा मिलेगा। उनकी सरकार सैद्धांतिक सहमति दे दी है।

योगी ने कहा कि अब उप्र में कोई वीआईपी जिला नहीं रहा। उन्होंने उप्र के सभी 75 जिलों के जिला मुख्यालयों पर 24 घंटे और ग्रामीण क्षेत्र में 20 घंटे विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था कर दी है। उन्होंने कहा कि गरीबों के राशन कार्ड बड़े आदमियों के पास थे। इस विसंगति को दूर करने के लिए प्रदेश भर में राशन कार्डों का नए सिरे से सत्यापन कराया गया है। किसी अति निर्धन परिवार को अंत्योदय राशन कार्ड से वंचित नहीं रहने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए बहुत अधिक काम किया है। जालौन में 46781 किसानों का 280 करोड़ का कर्जा माफ किया गया।

पहली बार तिलहनी व दलहनी फसलों का समर्थन मूल्य घोषित किया जाएगा। गेहूं के केंद्र द्वारा घोषित समर्थन मूल्य में उप्र सरकार दस रुपए कुंटल अपना बोनस जोड़ रही है। 2 अप्रैल से प्रदेश में स्कूल चलो अभियान शुरू किया गया है जो 30 अप्रैल तक चलेगा। किसी बच्चे को इस दौरान स्कूल से बाहर नहीं छोड़ा जाएगा। उन्होंने लोगों से इसमें सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही समृद्धि की कुंजी है इसलिए हर अभिभावक को बच्चे की शिक्षा पर ध्यान देना होगा। उन्होंने दावा किया कि बुंदेलखंड में अन्ना पशु प्रथा सबसे अधिक है जिसका समाधान कई जिलों में किया जा चुका है।

ललितपुर में जनसहयोग से जो अभ्यारण बनाया गया है जिसमें 5 हजार गायों को रखने की व्यवस्था है। जालौन जिले में भी गायों के संरक्षण के लिए लोगों को आगे आने की जरूरत है। एेसे प्रयास में सरकार भी मदद देने से पीछे नहीं हटेगी। उन्होंने कहा कि आज जिन कार्यों का शिलान्यास उन्होंने किया है वे इस मंच के माध्यम से अधिकारियों को निर्देश देना चाहते हैं कि उन्हें गुणवत्ता पूर्ण ढंग से समयबद्धता के साथ पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जनता को भी इनकी निगरानी पर ध्यान देना होगा। अगर कोई गड़बड़ी होती है तो वह जनप्रतिनिधियों को बताएं जिससे विकास कार्यों में पहले की तरह कोई डकैती न पड़ पाए।

उन्होंने कहा कि नौजवानों को रोजगार के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। विभिन्न विभागों में 4 लाख से अधिक भर्तियों की प्रक्रिया शुरू की जाने वाली है जो पूरी तरह पारदर्शी होगी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने 149 निर्मित परियोजनाओं का एकसाथ लोकार्पण किया और 126 नई परियोजनाओं का एकमुश्त शिलान्यास किया। मंच पर सिंचाई राज्य मंत्री धर्मपाल सिंह, परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्र देव सिंह, पंचायती राज विकास मंत्री डा. महेंद्र सिंह, जेल राज्य मंत्री जय कुमार जैकी, सांसद भानुप्रताप वर्मा, हमीरपुर महोबा के सांसद पुष्पेंद्र सिंह चंदेल, कालपी विधायक नरेंद्र पाल सिंह जादौन, माधौगढ़ विधायक मूलचंद्र निरंजन, उरई विधायक गौरीशंकर वर्मा और भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष उदयन पालीवाल उपस्थित रहे।



Browse By Tags



Other News