रक्सौल में आरओबी निर्माण मामले में एनएचएआई ने दिया जवाब
| Rainbow News - May 8 2018 4:46PM

पीएमओ में दाखिल किया गया एक और रिमाइंडर

रक्सौल में प्रस्तावित ओवरब्रिज निर्माण के मामले में पीएमओ द्वारा भेजे गए पत्र के जवाब में एनएचएआई ने बताया है कि रक्सौल शहर में आरओबी का निर्माण एनएच 28ए की कार्य योजना के अंतर्गत नहीं है। प्रो. डा. स्वयंभू शलभ द्वारा दर्ज सार्वजनिक शिकायत के आलोक में यह जानकारी एनएचएआई के महाप्रबंधक आर के श्रीवास्तव ने पत्र भेजकर दी है।
वहीं डा. शलभ ने बीते सोमवार को पीएमओ में एक रिमाइंडर दाखिल करते हुए इस अवरोध को शीघ्र दूर किये जाने की मांग की। बताया कि यह निर्माण कार्य अभी तक किसी एजेंसी को नहीं सौंपा गया है। एनएचएआई को जिस एनएच 28 ए का निर्माण करना है उसके अंतर्गत यह आरओबी नहीं आता। राज्य सरकार द्वारा भी  अनुमति पत्र लंबित है।

विदित है कि इस विषय में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गत 17.7.2017 एवं 17.1.2018 को पथ निर्माण विभाग के सचिव को मेल भेजा था। इससे पूर्व गत 24.5.2017 को पूर्व मध्य रेलवे, हाजीपुर के जीएम द्वारा भेजे गए मेल में बताया गया कि एल सी 33 34 (रक्सौल यार्ड के दोनों किनारे पर स्थित एल सी गेट्स नं 33 34) रेलवे ओवरब्रिज सैंक्शन हो गया है। इन दोनों आरओबी का निर्माण एनएचएआई के द्वारा आरंभ किया जाना है।

गौरतलब है कि इस मामले में डा. शलभ द्वारा  दर्ज अपील के आलोक में गत 30.6.2015 को पीएमओ द्वारा बताया गया था कि रक्सौल आरओबी के निर्माण में राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार दोनों के द्वारा बराबर राशि खर्च किया जाना है परंतु अभी तक राज्य सरकार द्वारा 50% देय राशि की स्वीकृति प्राप्त नहीं हो पाई है। इस विषय में राज्य सरकार से कई बार उक्त आधी राशि निर्गत करने का आग्रह किया गया है। साथ ही पथ निर्माण विभाग के साथ मीटिंग में भी कई बार राज्य सरकार का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराया गया है। चूंकि यह ओवरब्रिज नेशनल हाईवे पर बनाया जाना है अतः केंद्र सरकार की नई नीति के तहत इस निर्माण कार्य को रेलवे बोर्ड द्वारा सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय को सौंप देने का निर्देश दे दिया गया है।

भारत नेपाल सीमा पर अवस्थित अंतरराष्ट्रीय महत्व के शहर रक्सौल स्थित नरकटियागंज-सीतामढ़ी रेलखंड पर गाड़ियों की निरंतर आवाजाही एवं शंटिंग की वजह से रेलवे क्रासिंग गेट 24 घण्टे में 14 घण्टे से अधिक समय तक बंद रहते हैं जिसके कारण हमेशा ट्रैफिक जाम की समस्या बनी रहती है। यह समस्या वर्षों से यहां की प्रमुख समस्या बनी हुई है। आयेदिन दुर्घटना होती रहती है। अब तक एक दर्जन से अधिक लोग इस जाम की भेंट चढ़ चुके हैं। इस अंतरराष्ट्रीय सीमा से गुजरनेवाले देश विदेश के पर्यटक भी हर रोज इस भीषण भीड़गर्दी से दो चार होते हैं।



Browse By Tags



Other News