विधार्थियो ने सीखे संगीत के गुर व अपनी अपनी संगीत विधा की दी प्रस्तुतियाँ
| Rainbow News - Jun 8 2018 12:12PM

होशंगाबाद। वीणा-पाणि संगीत एवं सामाजिक संस्था द्वारा संचालित वीणा-पाणि संगीत विद्यायल द्वारा 2 माह से आयोजित विशेष ग्रीष्मकालीन संगीत प्रशिक्षण का समापन किया गया, इस आयोजन मे सुर-वाणी संस्था द्वारा विशेष सहयोग दिया। कार्यक्रम प्रारम्भ में नगर के ख्याति प्राप्त तबला वादक पंडित राम सेवक शर्मा व संगीतकार राम परसाई जी द्वारा माँ सरस्वती पूजन व दीप प्रज्वलन के साथ हुआ।

संस्था संचालक आनंद नामदेव व संस्था सचिव अमित नामदेव ने बताया की कई वर्षो से हम संगीत की सेवा के साथ साथ समाजिक स्तर पर के कार्यक्रमो का आयोजन इस संस्था द्वारा किया जाता रहा है, सामाजिक गतिविधियो के साथ साथ संगीत में भी हमारी संस्था का विशेष योगदान नगर के लिए होता है उस श्राखला मे संगीत मे भी  निरंतर साल भर हमारी संस्था द्वारा संगीत प्रशिक्षण दिया जाता है।

गर्मियों की छुट्टी मे हमारी संस्था द्वारा ग्रीष्म कालीन संगीत प्रशिक्षण भी दिया जाता है, इस बार हमारे द्वारा 2 माह का ग्रीष्म कालीन संगीत प्रशिक्षण दिया गया। संगीत की विधाओ मे गायन वादन, नृत्य के साथ चित्रकला और मूर्तिकला का विशेष प्रशिक्षण दिया गया। करीबन 70 बच्चों ने हमारे प्रशिक्षण शिविर का लाभ लिया जिसमे बच्चों  ने शास्त्रीय गायन, मूल गीत, भजन/गीत, वादन मे तबला, हारमोनियम, सिंथेसाइज़र, गिटार के साथ साथ शास्त्रीय नृत्य मे कथक की आधारभूत जानकारी के साथ बच्चों को लोक नृत्य मे गरबा, राजस्थानी, वेस्टर्न, व अन्य नृत्य का प्रशिक्षण दिया गया। 

कार्यक्रम मे आमंत्रित अतिथि श्री राम सेवक शर्मा जी ने बच्चों को संगीत विधा की बड़ी रोचक जानकारी दी उन्होंने कहा हमारा भारतीय संगीत सीधे ईस्वर से जोड़ने वाला संगीत है, इसे हम रुचि के अनुसार सीखते है और यह कब हमारा आजीविका का साधन बन जाता है संगीत एक व्यावसायिक शिक्षा का रूप ले चुका है, कलाकारों को सम्मान के साथ साथ रोजगार भी प्राप्त होता है।

नगर के ही प्रतिष्टित संगीत कर श्री राम परसाई ने कहा की संगीत से बहुत जल्दी ध्यानवस्था मे पहुचा जा सकता है व आत्मीय शान्ति भी प्राप्त होती है संगीत भगवान की उपासना का  माध्यम है। शिविर मे शिविर प्रभारी सत्यम् दीक्षित के साथ संगीत प्रशिक्षक के रूप मे नृत्य का प्रशिक्षण कु. वैशाली तिवारी, गायन का प्रशिक्षण उदित  तिवारी,जीत वेश, गिटार व सिंथेसाइज़र का प्रशिक्षण आदित्य नारायण परसाई द्वारा किया गया एवं तबला वादन का प्रशिक्षण आनंद नामदेव द्वारा एवं विशेष सहयोगी विशाल सगर के द्वारा दिया गया।

प्रस्तुति देने वाले छात्र छात्राओं मे कु, कुमकुम, राधिका यादव, संतोष काहर, ईसू चौरे, मयंक, आयुष नामदेव, मनस्वी नामदेव, अंतरा शुक्ल, सूलक्ष्य जैन, राजीव पांडे, चिरंजीव मालवीय, यश मालवीय, धनलक्ष्मी काहर, उन्नती ताम्रकार, भव्या पाठक, जिसा गुप्ता मयंक माछिया, मयंक यादव, विपुल दुबे, सक्षम पाठक, कु.सुर्या, यश परसाई, ऋषभ परसाई, श्रीम दुबे, दीक्षांत अग्रवाल एवं अन्य सभी ने अपनी अपनी संगीत विधा की सुन्दर प्रस्तुतिया दी साथ ही एक दिवस पूर्व सभी ने सहभोज का आयोजन भी रखा गया।

श्रोताओ के साथ बच्चों के पालक अभिवावक ने बच्चों द्वारा दी गई  प्रस्तीतियो का आनंद लिया। संस्था की सक्रिय सदस्य आशीष नामदेव, रेणुका जैन, सुरभि सोम्या वशिष्ठ  श्रीमती रामवती नायर प्रिंस जैन, पंकज गुप्ता, आकाश जैन संस्था परिवार के समस्त सदस्यों की गरिमामय  उपास्थिति मे सम्पन्न हुआ।          

-आनंद कुमार नामदेव, 9806668883



Browse By Tags



Other News