यूपी की जिला जेलों में योगी सरकार खोलेगी गोशाला
| Agency - Jun 27 2018 5:18PM

इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद आई योगी सरकार का गौ प्रेम किसी से छिपा नहीं है और सत्ता के अपने शुरूआती दिनों में ही सीएम योगी ने यह ऐलान किया था कि वह हर जिले में गोशाला का निर्माण करायेंगे, जहां गौ सेवा होगी। उसी दिशा में योगी सरकार यूपी की जिला जेलों में गोशाला खोलेगी। इस कड़ी में पहली जिला जेल गोशाला कौशांबी शहर में बनेगी। बीते मई माह में ही सरकार ने कौशांबी जिला जेल अधीक्षक से गोशाला के लिये प्रस्ताव मांगा था। जिस पर जिला कौशांबी के अनुमोदन के बाद गोशाला के लिये जमीन चिह्नित की गई और अब गोशाला निर्माण के लिए सरकार को प्रस्ताव भेज दिया गया है। अब सरकार की ओर से मात्र औपचारिक आदेश जारी होगा और गोशाला निर्माण के लिये बजट भेजा जायेगा।

सनातन धर्मशास्त्र-वेद- पुराण में महिमामंडित गौ की सेवा का सार बहुत ही विस्तृत है। बड़े-बड़े पाप व शारीरिक रोग को हरने वाला पुण्य गौ सेवा में संगर्भित हैं। सैकड़ों कहानियां, किवदंतियां आज भी गौ सेवा के लिये लोगों को प्रेरित करती हैं और अब उन्हीं पौराणिक मान्यता के अनुक्रम में जेल में बंद अपराधियों को भी गौ सेवा कर पाप मुक्ति का मौका दिया जा जायेगा। हालांकि गौ सेवा से पाप मुक्ति का ध्येय आध्यात्मिक होगा, गौ सेवा करने वालो को किसी विशेष तरह की न्यायिक प्रक्रिया का लाभ नहीं दिया जायेगा।

उन्हीं पौराणिक मान्यता के अनुक्रम में जेल में बंद अपराधियों को भी गौ सेवा कर पाप मुक्ति का मौका दिया जा जायेगा। हालांकि गौ सेवा से पाप मुक्ति का ध्येय आध्यात्मिक होगा, गौ सेवा करने वालो को किसी विशेष तरह की न्यायिक प्रक्रिया का लाभ नहीं दिया जायेगा। इस तरह होगी गोशाला जिलाधिकारी कौशांबी मनीष वर्मा ने बताया कि गोशाला निर्माण के लिए प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। जिला कारागार में 150 फीट लंबा और 60 फीट चौड़ी गोशाला बनेगी। इस गोशाला में तस्करी के दौरान पुलिस द्वारा बरामद गाय व आवारा घूमते गोवंश को भी रखा जाएगा। इस गोशाला की सबसे खास बात यह है कि गोशाला की प्रत्येक जिम्मेदारी यानी सेवा संबंधी जिम्मेदारी जेल में निरुद्ध बंदी और सजायाफ्ता कैदियों को दी जाएगी।

कौशांबी जिला जेल में बंद कैदियों के लिये पिछले कुछ समय से कयी मानविक संवेदना के बदलाव किये जा रहे हैं। जिसमे योगा, साक्षरता पाठशाला, रोजगार के लिए तकनीकी प्रशिक्षण आदि की मुहिम भी शुरू की जा रही है। उसी दिशा में गोशाला भी एक तरह से बदलाव की मुहिम का हिस्सा है। जिससे कैदियों के जीवन में परिवर्तन लाने का प्रयास किया जा रहा है। फिलहाल सरकार इस तरह की गोशाला का निर्माण सूबे के सभी 75 जिलो में करने की योजना को अमलीजामा पहना रही है।



Browse By Tags



Other News