दास्तां सुन कर क्या करोगे दोस्तों ...!!
| -Tarkesh Kumar Ojha/ - Sep 2 2018 5:10PM

आपबीती पर पेश है खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा की चंद लाइनें

बचपन में कहीं पढ़ा था
रोना नहीं तू कभी हार के
सचमुच रोना भूल गया मैं
बगैर खुशी की उम्मीद के
दुख - दर्दों के सैलाब में
बहता रहा - घिसटता रहा
भींगी रही आंखे आंसुओं से हमेशा
लेकिन नजर आता रहा बिना दर्द के
समय देता रहा जख्म पर जख्म
नियति घिसती रही जख्मों पर नमक
 मैं पीता रहा गमों का प्याला दर प्याला
बगैर  शिकवे - शिकायत के
छकाते रहे सुनहरे सपने
डराते रहे डरावने सपने
नाकाम रही हर दर्द की दवा
इस दुनिया के बाजार के
खुशी मिली कम , गम ज्यादा
न कोई प्रीति , न मन मीत
चौंक उठा तब - तब जब मिली जीत
गमों से कर ली दोस्ती
बगैर लाग - लपेट के

 

 



Browse By Tags



Other News