अब जल्द ही मैत्रीपुल हो सकता है मोटरेबुल
| Rainbow News - Sep 7 2018 5:16PM

राष्ट्रीय राजमार्ग पर रक्सौल स्थित भारत और नेपाल को जोड़ने वाले 'मैत्री पुल' और उसके एप्रोच रोड की बदहाली देश के लिए शर्मिंदगी का विषय बन गई है। इसके रिनोवेशन के लिए आज  मुख्यमंत्री ने पथ निर्माण विभाग को फिर से मेल भेजा। इसकी जानकारी सीएमओ ने डा. शलभ को मेल भेजकर दी।

इस मामले में कस्टम असिस्टेंट कमिश्नर (मुंबई) अजय कुमार सिन्हा ने डा. शलभ को फोन पर बताया कि इस मामले की गंभीरता से कस्टम ऑथोरिटी को अवगत कराया गया है। वहीं आज डा. शलभ ने पुल निर्माण निगम, पटना के एसडीओ अजय कुमार से मुख्यमंत्री द्वारा भेजे गए मेल के आलोक में आरसीडी द्वारा की जा रही कार्यवाही के विषय में जानकारी उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

विदित है कि गत 29 अगस्त को मुख्यमंत्री ने गृह सचिव और पथ निर्माण विभाग के सचिव को मेल भेजा था। उससे पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा गत 15 जनवरी 2018 एवं 1 जुलाई 2018 को पथ निर्माण विभाग के सचिव को मेल भेजा गया था। इस मामले में पीएमओ द्वारा एनएचएआई और एनएच विंग को भी निर्देश दिया गया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी एवं उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को भी पुल की दुर्दशा से अवगत कराया गया था।

पिछले 4 सितंबर को अनुमंडल पदाधिकारी रक्सौल ने डा. शलभ के ज्ञापन के आलोक में डीएम मोतिहारी को पुल की वस्तुस्थिति बताते हुए मरम्मत कराये जाने का प्रस्ताव भी भेजा। बावजूद इसके अभी तक किसी विभाग ने इसकी जिम्मेदारी नहीं ली। डा. शलभ ने उम्मीद जतायी है कि बहुत जल्द विभागीय जिम्मेदारी तय होगी और रिनोवेशन का कार्य आरंभ होगा।

-स्वयंभू शलभ



Browse By Tags



Other News