सेक्स लाइफ को इंज्वाय करने के लिए अपनाएँ ये सुझाव
| Agency - Sep 15 2018 1:23PM

सेक्‍स दांपत्‍य जीवन का आधार है। पर एक समय बाद यह बहुत नीरस और बोझिल लगने लगता है। जोड़े इसमें शामिल तो होते हैं पर मानसिक रूप से संतुष्‍ट नहीं हो पाते। जबकि विभिन्‍न शोधों में यह बात सामने आई है कि वही जोड़े खुशहाल जीवन व्‍यतीत करते हैं, जो एक-दूसरे से शारीरिक और मानसिक दोनों स्‍तर पर संतुष्‍ट होते हैं।

ये होते हैं कारण

एक-दूसरे से शारीरिक और मानसिक रूप से संतुष्‍ट होने के लिए दोनों का एक-दूसरे के प्रति आकर्षित होना ही काफी नहीं है, बल्कि एक-दूसरे के प्रति यह आकर्षण लगातार बना रहे यह जरूरी है।

अभी तक यह माना जा रहा था कि महिलाओं की बाहरी सुंदर और पुरुषों का क्षमता इसमें बड़ी भूमिका निभाती है। परंतु किंसले इंस्टिट्यूट में हुए शोध में यह बात भी सामने आई कि परफेक्‍ट सेक्‍स लाइफ के लिए एक-दूसरे के कम्‍फर्ट के साथ माहौल बहुत बड़ी भूमिका अदा करता है। जानें और भी कारण जिससे प्रभावित होती है ज्‍यादातर जोड़ों की सेक्‍स लाइफ।

वातावरण का भी पड़ता है असर

शोध के दौरान 50 फीसदी महिलाओं ने स्‍वीकार किया कि संभोग के दौरान अनुकूल मौसम व वातावरण न होने की वजह से वे चरम तक नहीं पहुंच सकीं। महिलाओं ने माना कि दरअसल पुरुषों के ठंडे पांव की वजह से उन्‍हें ज्‍यादा तकलीफ होती है। शोध का निर्देशन कर रहे डॉ. होल्‍सटेज ने कहा कि सेक्‍स के दौरान वातावरण भी काफी मायने रखता है। अगर कमरे का तापमान अनुकूल रहता है, तो यह सेक्‍स का मजा बढ़ा देता है।

समझौता नहीं आनंद हो 

सेक्‍स संबंध बनाने के दौरान पोजिशन का भी ख्‍याल रखना बेहद जरूरी होता है। कुछ पॉजीशन्‍स ऐसी होती हैं, जिनमें पुरुषों तो आकर्षण महसूस करते हैं परंतु महिलाएं अनकम्‍फर्टेबल फील करती हैं। शोध में शामिल महिलाओं ने कहा कि अपने पार्टनर की  खुशी के लिए उन्‍होंने उस तरह की पॉजीशन्‍स में साथ तो दिया पर उन्‍हें अच्‍छा फील नहीं हुआ।

समय लें

सर्वे में शामिल महिलाओं में से केवल पचास फीसदी ने कहा कि वे 10 मिनट या इससे कम वक्‍त में ही चरम तक पहुंच जाती हैं। सेक्‍स मेडिसिन के एक जर्नल में प्रकाशित स्‍टडी के मुताबिक, सेक्‍स में जल्‍दबाजी दिखलाने पर पुरुष तो संतुष्‍ट हो जाते हैं, पर महिलाएं चरम तक नहीं पहुंच पाती हैं। ऐसे में पुरुषों की जिम्‍मेदारी होती है कि वे बिना हड़बड़ी दिखलाए अपनी पार्टनर को लंबे गेम में साथ लेकर चलें।



Browse By Tags



Other News