जौनपुर के जुहू में आवारा पशुओं का कब्जा
| -Ramjee Jaiswal - Sep 29 2018 12:29PM

जौनपुर। तुम्हारी जगह हम रहेंगे लेकिन तुम मेरी जगह मत रहो। निरंतर बढ़ती जनसंख्या इस बात का चरितार्थ है कि पशुओं के रहने के स्थान पर मनुष्य निवास कर रहे हैं और उनको सड़कों पर छुट्टा छोड़ रहे हैं। बता दें कि नगर के सद्भावना पुल को लोग जुहू कहते हैं।

यहां पर लोग सुबह-शाम सैर करने के लिये आते हैं। इस जगह की सबसे अच्छी बात यह है कि यहां पर मनुष्य व पशुओं को समानता का अधिकार है। दोनों सुबह-शाम सैर कर सकते हैं। राहगीरों को पशुओं से कोई समस्या नहीं होती लेकिन यदि कोई वाहन चालक किसी पशु से टकराकर गिर जाता है तो उठकर फिर वे अपने गंतव्य की ओर बढ़ जाता है। नगर पालिका के साथ पशुपालक भी मजे में हैं। दूध दुहने के समय गाय को पकड़ लेते हैं, फिर चरण-विचरण के लिये छोड़ देते हैं।

स्वच्छ भारत अभियान भी इस जगह लागू नहीं है, क्योंकि पशुओं के लिये शौचालय का निर्माण करवा पाना संभव नहीं है। नगर पालिका भी बेचारी पशुओं सहित उनके मालिकों पर कब तक रहम करे। जब तक कोई बड़ी दुर्घटना न हो जाय? फिर उसके बाद बड़ा आदेश आयेगा कि अब पशुओं को छुट्टा छोड़ने पर होगी कार्यवाही।



Browse By Tags



Other News