टाण्डा का हकीम फील्ड बना सार्वजनिक शौचालय
| Rainbow News - Oct 23 2018 2:31PM

अजय सिंह उर्फ कप्तान सिंह

कप्तान सिंह ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर समस्या से निजात दिलाने की मांग किया

अम्बेडकरनगर। स्वच्छता के दृष्टिगत तमाम प्रचार-प्रसार व सरकार के लाख प्रयास के बावजूद भी खुले में शौच की परम्परा समाप्त होने का नाम नहीं ले रही है। खुले में शौच से जहाँ इधर-उधर भयंकर गन्दगी व दुर्गन्ध से साँस लेना दूभर होता है वहीं इससे जानलेवा/संक्रामक बीमारियों के फैलने की सम्भावना भी बनी रहती है। इस तरह का एक मामला जिले के टाण्डा नगर पालिका क्षेत्र में प्रकाश में आया है जहाँ के नेहरूनगर वार्ड में स्थित हकीम फील्ड (मैदान) में अब भी पूर्व की भाँति दलित एवं अहीर बस्तियों के लोगों द्वारा खुले में शौच किया जा रहा है। एक तरह से हकीम फील्ड सार्वजनिक रूप से खुला शौचालय जैसा बन गया है। इससे उठने वाली दुर्गन्ध से आस-पास के लोगों का जीना दूभर हो गया है तथा लोगों में संक्रामक बीमारियाँ फैलने लगी हैं।

इस समय जब केन्द्र व प्रदेश सरकार स्वच्छता पर विशेष ध्यान दे रही है। खुले में शौच पर रोकथाम के लिए शौचालय निर्माण कराए जाने पर विशेष बल दे रही है। इसके लिए आर्थिक रूप से कमजोर एवं पात्रों को सरकारी अनुदान भी दिया जा रहा है जिससे हर कोई अपने घरों में शौचालय का निर्माण कराये और खुले में शौच की परम्परा समाप्त करने में अपना योगदान दे। बावजूद इसके टाण्डा नगर पालिका क्षेत्र के नेहरू नगर वार्ड के दलित एवं अहीर बस्ती के लोग अभी भी शौचालय निर्माण की तरफ ध्यान नहीं दे रहे हैं, और वर्षो से चली आ रही खुले में शौच करने की परम्परा को बदस्तूर जारी रखे हुए हैं। इसी के चलते हकीम फील्ड सार्वजनिक खुला शौचालय बनकर रह गया है।

इस समस्या को गम्भीरता से लेते हुए वरीय काँग्रेस नेता सचिव/प्रभारी- मऊ जनपद, काँग्रेस कमेटी, लखनऊ अजय सिंह उर्फ कप्तान सिंह ने उत्तर प्रदेश शासन के मुखिया योगी आदित्य नाथ को पत्र प्रेषित किया है जिसमें उन्होंने टाण्डा नगर पालिका के नेहरू नगर वार्ड स्थित चिन्तौरा चौराहा के दलित व अहीर बस्ती के लोगों द्वारा हकीम फील्ड (मैदान) में खुले में शौच करके गन्दगी फैलाने का जिक्र किया है। काँग्रेस नेता कप्तान सिंह ने पत्र में लिखा है कि उन्होंने इसकी शिकायत कई बार मुख्यमंत्री के जन-सुनवाई पोर्टल पर भी किया जिसके बाद दो बार समस्या समाधान के बावत फोन कॉल आई और कहा गया कि आपकी समस्या का समाधान हो चुका है। फोनकर्ता द्वारा यह भी पूछा गया कि क्या नगर पालिका टाण्डा से कोई अधिकारी आया था? किन्तु हकीकत यह है कि टाण्डा नगर पालिका से न तो कोई अधिकारी कर्मचारी आया और न ही समस्या का समाधान हुआ। शिकायत के बावत फर्जी रिपोर्ट तैयार कर शासन को भेज दी गई जबकि समस्या अब भी जस की तस बनी हुई है।

काँग्रेस नेता सिंह ने पत्र में लिखा है कि इसके अलावा उनके द्वारा मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, अपर मुख्य सचिव नगर विकास, मण्डलायुक्त फैजाबाद मण्डल, जिलाधिकारी अम्बेडकरनगर को भी इस आशय का पत्र भेजा जा चुका है। किन्तु अभी तक कोई ठोस कार्यवाही नही हो सकी है जिससे हकीम फील्ड के आस-पास रहने वाले लोगों का जीवन नारकीय हो गया है। उन्होंने कहा कि एक तरफ जहाँ केन्द्र व प्रदेश सरकार खुले में शौच पर रोक लगाने व स्वच्छता अभियान के प्रचार-प्रसार में पूरा जोर लगा दे रही है वहीं उनके ही अधिकारी/कर्मचारी फर्जी रिपोर्ट भेजकर स्वच्छता अभियान को ठण्डे बस्ते में डाल अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर ले रहे हैं।

वरीय कांग्रेस नेता कप्तान सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ को भेजे गए पत्र में मांग किया है कि इस समस्या को गम्भीरता से लेकर हकीम फील्ड को गन्दगी मुक्त कराने की दिशा में आवश्यक कदम उठाया जाए, जिससे मैदान के आस-पास रहने वाले लोगों को भारी दुर्गन्ध व प्रदूषण की समस्या से निजात मिल सके। अजय सिंह उर्फ कप्तान सिंह ने उक्त पत्र की प्रतिलिपि मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, अपर मुख्य सचिव नगर विकास, मण्डलायुक्त फैजाबाद मण्डल, जिलाधिकारी अम्बेडकरनगर को भी भेजा है।



Browse By Tags



Other News