अपना हिंदोस्तान रौशन है...
| Rainbow News - Nov 29 2018 11:58AM

अंबेडकरनगर। नगर के मोहल्ला मीरानपुर स्थित इमामबारगाह में पैगम्बर हजरत मोहम्मद साहब की याद में ईद मीलादुन्नबी का कार्यक्रम अंजुमन अकबरिया द्वारा आयोजित किया गया। जिसमें अनेक शायरों ने कलाम प्रस्तुत कर लोगों को प्रशंसा करने पर विवश कर दिया।

रेहान अकबरपुरी व हसन अब्दुल्लाहपुरी के संयुक्त संचालन में रात्रि के तीसरे पहर तक चले कार्यक्रम में शायरों के कलाम पर श्रोता झूमते रहे। तिलावते कलाम पाक के बाद नाते पाक का क्रम आरंभ करते हुए महफूज अकबरपुरी ने कहा यहां सब आशिकाने मुस्तफा हैं, यहां छोटा बड़ा कोई नहीं। वारिस जलालपुरी ने कहा यह जमीं मोहम्मद की आसमां मोहम्मद का, साफ-साफ या कह दो कुल जहां मोहम्मद का। हाजी आले हसन अब्दुल्लाहपुरी ने कहा बशर क्या करेगा सनाये मोहम्मद, हुआ और न होगा सिवाये मोहम्मद। अहसन जलालपुरी ने कहा रोते हैं शह के गम में मोहर्रम के बाद भी, मौसम अजा का हमने बदलने नहीं दिया। 

मशहद जलालपुरी ने कहा आका जो तेरा नक्शे कफे पा नहीं मिलता, जन्नत तो बड़ी बात है रस्ता नहीं मिलता। मीसम अकबरपुरी ने कहा ऐ मदीना चिराग से तेरे, अपना हिंदोस्तान रौशन है। इर्शाद लोरपुरी का फरमान था जमीं महकने लगी आसमां महकने लगा, हुजूर आए तो सारा जहां महकने लगा। साहिल जौनपुर ने कहा जश्ने मौला है रात रौशन है, चांद उतरा है रात रौशन है... आमदे मुस्तफा मुबारक हो, नूर बिखरा है रात रौशन है। फरहान अकबरपुरी ने कहा सताये मां को जो अपनी, बिछाए फर्शे अजा... वह शख्स फात्मा जहरा को घर बुला न सका

कार्यक्रम में फिजा जौनपुरी, पैगाम जौनपुरी, हाजी अली हसन, जहबी, मिनहाल, जर्रार, सज्जाद, दानिश आदि ने भी कसीदा भी  कसीदा पढ़ा। अंजुमन के सचिव हसन अस्करी मजलिसी ने मेहमानों का स्वागत किया और कार्यक्रम के समापन पर संस्था के अध्यक्ष आबिद हुसैन मुच्छन ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। उक्त अवसर पर मौलाना जफर अली रिजवी मौलाना मोहम्मद अब्बास रिजवी तथा मौलाना शाहिद हुसेन रिजवी ने सरवरे कायनात के दिशा निर्देशों चलने अपील किया।



Browse By Tags



Other News