गन्ना क्रय केन्द्रों पर हुई घटतौली तो की जाएगी कार्रवाई: डी.सी.ओ.
| Rainbow News - Dec 10 2018 5:32PM

औचक निरीक्षण कर क्रय केन्द्र प्रभारियों को दी जा रही है हिदायतें

इस समय अम्बेडकरनगर जनपद की एक मात्र चीनी मिल अकबरपुर चीनी मिल्स मिझौड़ा द्वारा गन्ने की पेराई (14 नवम्बर 2018 से) की जा रही है, जिसके लिए जिले के गन्ना किसानों से उनके उत्पाद गन्ना को क्रय करने के लिए जगह-जगह क्रय केन्द्रों की स्थापना की गई है। गन्ना क्रय केन्द्रों पर किसान अपनी सुविधानुसार उत्पाद ले जाकर उसकी बिक्री कर रहे हैं। उनके समक्ष किसी प्रकार की समस्या न आए, घटतौली न की जाए, उनके उत्पाद का सही तौल हो ताकि वे सरकार द्वारा समर्थित मूल्य पा सकें, इसके दृष्टिगत जिला प्रशासन, गन्ना विभाग के जिम्मेदार ओहदेदार तथा गन्ना सहकारी समिति के पदाधिकारी काफी सक्रिय हो गए हैं। जिलाधिकारी के निर्देश पर जिला गन्ना अधिकारी के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया है जो जगह-जगह स्थापित गन्ना क्रय केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा ले रही है।

जिलाधिकारी सुरेश कुमार के निर्देश पर जिला गन्ना अधिकारी एवं ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक ने जिले में स्थापित गन्ना क्रय केन्द्रों का औचक निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान क्रय केन्द्र प्रभारियों को सख्त हिदायत दी गई कि यदि किसी भी दशा में घटतौली आदि की कोई शिकायत पाई गई तो उन पर वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। 

इस समय जबकि अकबरपुर चीनी मिल्स लि. मिझौड़ा द्वारा गन्ने की पेराई चल रही है और जिले में मिल ने क्रय केन्द्रों की स्थापना कर रखी है जहाँ गन्ना किसान सुविधा अनुसार अपने उत्पाद गन्ना की बिक्री कर रहे हैं। गन्ना क्रय केन्द्रों पर घटतौली न हो, कृषकों का शोषण न हो इसके दृष्टिगत जिला गन्ना अधिकारी ए.पी. सिंह व ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक मिझौड़ा, अम्बेडकरनगर रामजी द्वारा जिले में स्थापित गन्ना क्रय केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया जा रहा है।

गन्ना क्रय केन्द्रों पर उपस्थित गन्ना कृषकों की समस्याओं का निस्तारण करते हुए जिला गन्ना अधिकारी ने क्रय केन्द्र प्रभारियों को निर्देशित किया कि गन्ना किसानों की समस्याओं को गम्भीरता से लिया जाए, उनकी समस्याओं को नोट कर तत्काल उसका समाधान किया जाए। डी.सी.ओ. सिंह ने कहा कि गन्ना खरीद में किसी भी किसान को कोई समस्या नहीं आने पाएगी। विभाग किसानों के हितों को लेकर काफी गम्भीर है। 

वर्ष 2018-19 में गन्ना सर्वेक्षण से लेकर पर्ची निर्गमन तक का कार्य विभाग द्वारा किया जा रहा है। गन्ना किसानों को ससमय निर्धारित पक्ष कालम के अनुसार पर्ची निर्गत की जा रही है। सप्ताह के भीतर ही डाटा आनलाइन कर दिया जाएगा जिससे किसान अपने गन्ने का आंकडा ऑनलाइन देख सकेंगे। 

ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक रामजी ने बताया कि किसी भी प्रकार की समस्या आने पर किसान परिषद कार्यालय/समिति कार्यालय एवं आन लाइन इन्क्वायरी टर्मिनल पर सम्पर्क कर समाधान पा सकते हैं। सचिव सहकारी गन्ना समिति लि. कुलदीप द्विवेदी ने बताया कि गन्ना किसान पर्ची/सट्टा से सम्बन्धित समस्या के लिए समिति कार्यालय में किसी भी समय सम्पर्क कर सकते हैं। गन्ना किसान मोबाइल पर एस.एम.एस. प्राप्त होने पर पहचान-पत्र दिखा कर गन्ना तौल करा सकते हैं। 



Browse By Tags



Other News