पुलिस अधीक्षक शालिनी क्या ऐसा करेंगी.....?
| Rainbow News - Dec 27 2018 5:11PM

अम्बेडकरनगर। उत्तर प्रदेश के जनपद अम्बेडकरनगर में पुलिस कप्तान के रूप में महिला आई.पी.एस. आफिसर शालिनी की तैनाती है। इनकी तैनाती के शुरूआती दिनों से ही जनपद वासियों खासकर सम्भ्रान्त जनों एवं महिलाओं में इस बात को लेकर काफी उत्सुकता रही कि कथित तेज-तर्रार युवा आई.पी.एस. उनकी सुरक्षा के लिए विशेष कदम उठाएँगी। परन्तु इस बावत इन्होंने अब तक के लगभग एक माह (30 नवम्बर 2018 से) के कार्यकाल में कोई ऐसा कार्य नहीं किया जिसे कुछ अलग और विशेष कहा जा सके। आज भी शोहदे, मनचले, शराबियों और मनबढ़ दबंगों का लगने वाला जमघट महिलाओं व शान्तिप्रिय, सीधे-सादे लोगों के लिए सिरदर्द बना हुआ है। 

दीपक तले अंधेरा होता है, ठीक उसी तरह की स्थिति मुख्यालयी शहर अकबरपुर के दोनों उपनगरों में बनी हुई है। यहाँ बता दें कि इन उपनगरों की दूरी एस.पी. आवास से मात्र तीन किलोमीटर और शहर कोतवाली से सटी हुई है। इसके बावजूद भी यहाँ निवास करने वाले शान्ति प्रिय लोग एवं महिलाएँ उपरोक्त तत्वों की वजह से खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। असमाजिक तत्वों, गुण्डों, मवालियों, शराबियों, लोफर-लफंगों पर श्रीमती शालिनी (आई.पी.एस.) के तेज-तर्रार पुलिस आफिसर होने का कोई असर नहीं पड़ रहा है। फिर भी श्रीमती शालिनी से जनपद वासियों को काफी उम्मीदें हैं, और लोग इनकी तेज-तर्रार कही जाने वाली छवि व पुलिसिया हनक देखने के लिए लालायित हैं। इन लोगों ने आशा नहीं छोड़ी है। 

सार्वजनिक स्थानों, नुक्कड़ों, चौराहों व सरकारी विभागीय कार्यालय गेटों व आस-पास मनचलों का जमावड़ा दिन और रात किसी भी समय अपनी हरकतों से अराजकता फैलाता देखा जा सकता है। अकबरपुर-शहजादपुर जुड़वा उपनगरों में सार्वजनिक स्थानों व आबादी के निकट सड़क व नुक्कड़ों पर स्थित ठेला, अण्डा की दुकानों पर युवा वर्ग नशे की हालत में ऐसी हरकतें करता देखा जा सकता है जिसे अराजकता ही कहा जाएगा। उदाहरण के तौर पर अकबरपुर के पटेलनगर तिराहे, हाइडिल के आस-पास, कृषि भवन से लेकर पी.डब्ल्यू.डी. और बस स्टेशन क्षेत्र, रेलवे क्रासिंग, पुरानी तहसील तिराहा, शहजादपुर, फौव्वारा तिराहा, फैजाबाद रोड आदि अनेकों जगहों पर अण्डा, आमलेट, बिरयानी का स्वाद चखने वालों द्वारा मदिरा का सेवन करके जमकर उत्पात मचाया जाता है, जिससे इर्द-गिर्द के लोगों, सड़क पर चलने वाले महिला-पुरूषों, कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को काफी दिक्कतें पेश आती हैं। 

टाण्डा रोड स्थित बस स्टेशन के उत्तर डाक बंगला क्षेत्र में इस तरह की हरकतें कुछ ज्यादा ही होती हैं। क्योंकि यहाँ अण्डा-आमलेट व फास्ट फूड के कई ठेले, दुकानें लगती हैं, साथ ही इन क्षेत्रों में अंधेरा भी रहता है। डाक बंगला गेट, सर्किट हाउस मुख्य द्वार इन ठेलों की वजह से अदृश्य सा हुआ रहता है। अपरान्ह से लेकर देर रात तक इन क्षेत्रों में शराब के नशे में धुत बेखौफ मनबढ़ तत्वों द्वारा हुड़दंग मचाया जाता है। इन क्षेत्रों में कभी भी कोई भी अप्रिय घटना हो सकती है। किसी भी व्यक्ति की हिम्मत नहीं कि इन तत्वों का विरोध कर सके, क्योंकि कुछ भी कहने पर ये तत्व आमादा फौजदारी हो जाते हैं और गाली-गलौज करते हुए मारपीट करने लगते हैं। इन क्षेत्रों में रहने वाले शान्तिप्रिय लोगों को पुलिस अधीक्षक श्रीमती शालिनी से उम्मीद है कि वह इस तरफ जरूर ध्यान देंगी और इन क्षेत्रों में पुलिस गश्त बढ़ाकर अराजक तत्वों पर नकेल कसेंगी। 



Browse By Tags



Other News