सपा की पहली सूची में यादव परिवार को '50 फीसदी आरक्षण'
| Rainbow News - Mar 8 2019 5:24PM

मौसम में बढ़ रही गर्मी के साथ-साथ देश की सियासत का पारा भी अब धीरे-धीरे चढ़ने लगा है। शुक्रवार को सपा मुखिया अखिलेश यादव ने यूपी में अपनी पार्टी के लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी, जिसमें 6 सीटों पर टिकटों का ऐलान किया गया है। इससे ठीक एक दिन पहले ही कांग्रेस भी अपने 11 उम्मीदवारों की सूची जारी कर चुकी है। समाजवादी पार्टी की सूची में यूपी की जिन 6 लोकसभा सीटों पर टिकटों की घोषणा की गई है, उनमें से तीन सीटें आरक्षित हैं, जबकि बाकी तीन सीटों पर यादव परिवार के सदस्यों को ही टिकट दिए गए हैं। इस तरह से सपा की पहली सूची में यादव परिवार को 50 फीसदी आरक्षण दिया गया है।

मुलायम परिवार के 3 लोगों को टिकट 

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद रामगोपाल यादव की ओर से शुक्रवार को यूपी की 6 सीटों पर पार्टी प्रत्याशियों के नाम की घोषणा की गई। इन 6 सीटों में से मैनपुरी लोकसभा सीट से मुलायम सिंह यादव, बदायूं लोकसभा सीट से धर्मेंद्र यादव और फिरोजाबाद लोकसभा सीट से अक्षय यादव को टिकट दिया गया है। धर्मेंद्र यादव, सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के भाई अभय राम यादव के बेटे हैं, जबकि अक्षय यादव, सपा महासचिव रामगोपाल यादव के बेटे हैं। इनके अलावा इटावा (सुरक्षित) लोकसभा सीट से कमलेश कठेरिया, रॉबर्ट्सगंज (सुरक्षित) लोकसभा सीट से भाईलाल कोल और बहराइच (सुरक्षित) लोकसभा सीट से शब्बीर बाल्मिकी को प्रत्याशी बनाया गया है।

समाजवादी पार्टी का गढ़ है मैनपुरी 

मुलायम सिंह यादव 2014 के लोकसभा चुनाव में भी मैनपुरी से सांसद चुने गए थे। इन चुनावों में मुलायम यूपी की दो सीटों मैनपुरी और आजमगढ़ से चुनाव लड़े और दोनों ही सीटों पर जीत हासिल की। मैनपुरी में मुलायम ने 364666 वोटों के भारी अंतर से जीत हासिल की थी। इसके बाद मैनपुरी सीट से उन्होंने इस्तीफा दे दिया और उपचुनाव में यहां से मुलायम सिंह यादव के भाई रणवीर सिंह यादव के बेटे तेज प्रताप यादव चुनाव जीतकर सांसद बने। मुलायम सिंह यादव इससे पहले मैनपुरी से तीन बार 1996, 2004 और 2009 में लोकसभा सांसद के तौर पर चुने जा चुके हैं।

लगातार तीसरी बार धर्मेंद्र यादव को टिकट 

बदायूं सीट से घोषित किए गए सपा उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव, मुलायम सिंह यादव के भतीजे हैं और वर्तमान में बदायूं से मौजूदा सांसद हैं। धर्मेंद्र यादव ने 2009 के लोकसभा चुनाव में बाहुबली नेता डीपी यादव को हराकर जीत हासिल की थी। हालांकि उनकी जीत का अंतर महज 32542 वोट था। इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में धर्मेंद्र यादव ने बदायूं सीट पर भारतीय जनता पार्टी के वागीश पाठक को 166347 वोटों के अंतर से हराया। इससे पहले 2004 में भी यहां समाजवादी पार्टी का ही कब्जा था और सलीम इकबाल शेरवानी लोकसभा सांसद थे, जो बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए।

रामगोपाल यादव के बेटे को फिरोजाबाद से टिकट 

इनके अलावा सपा की सूची में तीसरा टिकट अखिलेश यादव के चाचा राम गोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव को दिया गया है। पार्टी ने उन्हें फिरोजाबाद लोकसभा सीट से उम्मीदवार घोषित किया है। अक्षय यादव 2014 के लोकसभा चुनाव में फिरोजाबाद सीट पर भारतीय जनता पार्टी के एसपी सिंह बघेल को 114059 वोटों से हराकर सांसद बने थे। इससे पहले इस सीट पर कांग्रेस का कब्जा था और अभिनेता से नेता बने राज बब्बर यहां से लोकसभा सांसद थे। आपको बता दें कि महागठबंधन के तहत सपा के खाते में यूपी की 37 लोकसभा सीटें आई हैं।



Browse By Tags



Other News