मछलीशहर से बसन्त कुमार की दावेदारी ने लाया भूचाल
| -Ramjee Jaiswal - Mar 14 2019 4:49PM

पत्रकारिता जगत से भी सम्बन्ध रखते हैं बसंत कुमार

भारत सरकार के उप सचिव पद से ली है स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

जौनपुर। आगामी लोकसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है जिसको लेकर सभी पार्टियां अपने प्रत्याशियों की घोषणा में जातीय गुणा-भाग में व्यस्त हो गयीं लेकिन इस विषय में सबसे महत्वपूर्ण सीट मछलीशहर (सु.) बनी हुई है।

इस सीट पर भाजपा की ओर से भारत सरकार के पूर्व उप सचिव बसन्त कुमार सबसे प्रबल दावेदार के रूप में सामने नजर आ रहे हैं। वे शिक्षित हैं तथा उनके पास लगभग 3 दशक का प्रशासनिक अनुभव है। वे एक अच्छे लेखक हैं जिन्होंने हिन्दुत्व एक जीवनशैली, एकात्म, मानववाद, भाजपा संकल्प, राष्ट्रवादी, कर्मयोगी जैसी किताबें लिखी हैं। इतना ही नहीं, नयी दिल्ली से प्रकाशित वीर अर्जुन, अमर भारती जैसे दैनिक समाचार पत्रों में प्रत्येक सप्ताह श्री कुमार के स्तम्भ भी प्रकाशित होते हैं।

उल्लेखनीय है कि वीर अर्जुन के सम्पादक के रूप में भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी व लाल कृष्ण आडवाणी भी काम कर चुके हैं। इस दौरान दूरभाष पर हुई बातचीत में श्री कुमार ने बताया कि वह स्पेक्ट्रम मूवीज द्वारा निर्माणाधीन फिल्म युगपुरूष अटल के पटकथा लेखक हैं। एनडीए सरकार के गठन पर राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम में सलाहकार के रूप में उत्तरदायित्व का निवर्हन करने के साथ ही सूक्ष्म व लघु उद्यमियों को उद्यमिता के क्षेत्र में और अधिक अवसर प्रदान करने हेतु सराहनीय काम कर चुके हैं।

भारत सरकार से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के पश्चात भाजपा के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्र के कई वर्षों से सहयोगी रहे हैं। क्षेत्र में युवाओं की बेरोजगारी, युवाओं का महानगरों की ओर पलायन, क्षेत्र में मूलभूत सुविधाओं की कमी को दूर करने के लिये वे सदैव चिन्तित रहते हैं। उन्होंने बताया कि उनके मछलीशहर से उनकी दावेदारी ने प्रदेश में राष्ट्रीय पार्टियों के गैरयादव-गैरजाटव नीति को विराम लगा दिया है। बसपा व सपा के उत्थान से राष्ट्रीय पार्टियों की यही नीति हो गयी थी। इसी कारण सन् 1990 के पश्चात भाजपा ने रामसागर को कभी भी अपना प्रत्याशी नहीं बनाया जबकि आज भी क्षेत्र में रामसागर की शालीनता, ईमानदारी, समर्पण के किस्से लोगों की जुबान पर हैं।

क्षेत्रीय लोगों के अनुसार जिले में लगभग 25 वर्षों के पश्चात रामसागर, राम समझावन, माता प्रसाद के पश्चात इस समाज से ऐसा नेता आया है जो शिक्षित है। जातीय संकीर्णता से कोसों दूर है तथा सामाजिक सौहार्द में विश्वास रखता है। मछलीशहर की जनता वर्षों बाद ऐसा भी प्रत्याशी चाहती है। मछलीशहर से सर्वांगीण विकास के लिये बसन्त कुमार को प्रत्याशी बनाया जाना चाहिये। दूसरे दावेदारों में पूर्व सांसद विद्यासागर सोनकर व अनीता रावत 2017 के विधानसभा चुनावों में मोदी लहर में भी क्रमशः सैदपुर एवं मछलीशहर सीट से चुनाव हार चुके हैं।



Browse By Tags



Other News