बुजुर्गो की आह, मोदी-शाह जोड़ी के लिए अपशकुन
| - K. P. Singh - Apr 9 2019 12:22PM

भारतीय जनता पार्टी को राजनीति में ऊंचाइयों पर ले जाने का जिनका श्रेय निर्विवाद है, वे लालकृष्ण आडवाणी जीते जी अपने को व्यतीत घोषित किये जाने के प्रयास के चलते इतने आहत हैं कि अंदर ही अंदर उनके मन में प्रतिशोध फुंफकारने लगा है। 90 वर्ष की उम्र पार करके भी आडवाणी जी अभी चुके नही हैं। उम्र से चुकना तय होता भी नही है। कोई-कोई 50 वर्ष की उम्र में ही श्लथ हो जाता है तो कोई सैकड़ा की दहलीज पर पहुंचने के बाद भी ठंडा नही पड़ता। आडवाणी जी के ऊर्जा भंडार पर ढक्कन लगाकर विस्फोट को निमंत्रण दे दिया गया है। उनका टवीट इसकी भूमिका है जिससे सृजित विमर्श ने मोदी एंड कंपनी का संतुलन खराब कर दिया है।

आडवाणी जी के चहकने का अंदाज

टवीट पर आडवाणी जी कुछ इस अंदाज में चहके कि उन्होंने कह दिया कि मैनें अपने राजनीतिक विरोधियों को कभी राष्ट्रद्रोही नहीं माना। अंध भक्ति के घटाटोप में हर अनर्थ को नजरअंदाज किया जा रहा है। मोदी जी अगर आडवाणी जी को संतुष्ट रख सके होते तो वे भी इस मुददे पर शायद चुप ही बने रहते। जबकि असहमति के हर स्वर को राष्ट्रद्रोह करार देने के अनिष्टकारी प्रभाव को तत्काल समझ लेने की पर्याप्त सूझ-बूझ आडवाणी जी में सदा विद्यमान है।

कोई कैसे करे राष्ट्र भगवान के खिलाफ कुछ कहने का पाप

जिम्मेदार पार्टियां अगर राष्ट्रद्रोह कर सकती हैं तो न यह देश सुरक्षित रह सकता है और न ही लोकतंत्र। प्रतिपक्ष को राष्ट्रद्रोही के रूप में प्रस्तुत करने का हथकंडा अविश्वास का ऐसा संकट पैदा कर सकता है जिससे लोकतंत्र ही बेमानी हो जाये। इंदिरा इज इंडिया की तर्ज पर एक व्यक्ति को राष्ट्र भगवान के रूप में स्थापित करने से चुनाव का औचित्य ही समाप्त हो जायेगा क्योंकि भगवान के विरुद्ध किसी को चुनने का कुफ्र लोग क्यों करना चाहेगें।

विकल्प सोचना देशद्रोहियों की गोद में जाकर बैठना

लोकतंत्र में पक्ष और विपक्ष के अलग-अलग ध्रुव अनिवार्य हैं तांकि सत्ता पक्ष को यह डर रहे कि अगर उसने जन भावनाओं के अनुरूप कार्य करने में कोताही बरती तो लोगों के पास दूसरी जगह चले जाने का विकल्प है। लेकिन दूसरी जगह अगर देशद्रोही बैठे है तो.................कुछ कहने की आवश्यकता नही है। लोकतंत्र में सत्ता की अदला-बदली सामान्य और सहज प्रक्रिया है। जिसके कारण इस व्यवस्था में नेता राज सिंहासन से उतरकर नीचे की पंक्ति में बैठने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहता है।

जब तक नेताओं में यह भावना है तभी तक लोकतंत्र सुरक्षित है। लेकिन सत्ता में पहुंचने के बाद गददी से नीचे उतरने की कल्पना तक दुश्वार लगने लगे तब वही होता है जो आज हो रहा है। दरअसल कर्णधारों के मानस में लोकतंत्र नहीं चक्रवर्ती सम्राट का बिंब बसा है। भाजपा का लक्ष्य था कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त करना। अन्य दल इसके विरोध में थे जिन्हें जनता भी अभी कुछ समय पहले तक अनुमोदित करती रही। लेकिन जरूरी नही है कि एक दल या संगठन जिसे सही समझे वही सही हो। 370 बनाये रखकर जिन्होंने काम किया वे कश्मीर समस्या को नियंत्रित नही कर पाये। लोगों ने फैसला लिया कि अब उन्हें मौका दिया जाये जो 370 के समाप्त होने से घाटी में नया आगाज होने का सपना दिखा रहे हैं।

चक्रवर्ती सम्राट बनने का भूत गड़बड़ी की जड़ में

इस हिसाब से जब भाजपा को सत्ता मिली तो उसे यह काम करना चाहिए था। भाजपा के इस कदम से परीक्षण हो जाता कि 370 को लेकर उसका दृष्टिकोण कितना फलदायी है। लेकिन चक्रवर्ती सम्राट का भूत आड़े आ गया। कश्मीर में पीडीएफ को सहयोग देकर सरकार बनाने से अनुच्छेद 370 के बारे में कोई प्रतिकूल फैसला नही किया जा सकता यह बात भाजपा के नीति-नियंता जानते थे फिर भी उन्होंने सब्र नही किया। चक्रवर्ती बनने की हसरत में उन्होंने मुफ्ती के साथ बेमेल गठबंधन में शामिल होकर सरकार गठित कराई जिससे 370 हटाने के नाम पर फरेब करने की तोहमत उनके खाते में जमा हो गई है। जो लोग आज ऐसा नही मान रहे वे ही कल इस बात को कहेगें।

विपक्षी सरकारों को रोकने के मामले में कांग्रेस का बेहद कंलकित इतिहास रहा है। मीडिया में कांग्रेस के इस रवैये को कितनी बेरहमी से बेनकाब किया इसकी गवाही उस समय के अखबारों में मिल जायेगी। कांग्रेस के समय मंहगाई बढ़ी, गरीबी बढ़ी, भ्रष्टाचार बढ़ा, बेरोजगारी बढी तो क्या निष्पक्ष मीडिया ने उस पर कोई रहम किया था। लेकिन भक्तों को सोशल मीडिया पर पढ़ों तो ऐसा लगता है जैसे समीक्षक कांग्रेस पर तो फूल बरसाते रहे हों और अब मासूम मोदी सरकार को कोसने में लग गये हों। मीडिया का काम तो सत्ता की बखिया उधेड़ना है। कल कांग्रेस सत्ता में थी तो उसके प्रति मीडिया का वही रुख था जो आज मोदी सरकार के प्रति है। लेकिन मोदी सरकार के लिए मीडिया के दायित्व की परिभाषा बदली जा रही है और मीडिया की इस भूमिका को भी देशद्रोह के खाने में डाला जा रहा है।

कांग्रेस की लीक पर चलने की कोशिश क्यों

बात हो रही थी हर जगह अपनी सरकार देखने के लिए बेईमानी करने की। अगर कांग्रेस का इतिहास ऐसा करने का रहा है तो भाजपा को उसकी लीक पर चलने से बचना चाहिए था। गोवा देश के पैमाने पर नगर महापालिका स्तर का राज्य है। अगर ऐसे राज्य में अनैतिक हथकंडे अपनाकर भाजपा सरकार न बनाती तो उसका दबदबा गिरने वाला नही था बल्कि उसका नैतिक तेज और बढ़ता जो विपक्ष पर बढ़त बनाने में उसे महत्वपूर्ण योगदान देता। यह दूसरी बात है कि चक्रवर्ती बनने का अरमान वर्तमान सत्ताधारियों पर इस कदर तारी है कि वे हर किसी को रौंदने के लिए अश्वमेघ यज्ञ का घोड़ा दौड़ाने को तैयार बैठे रहते हैं।

शतायु होने की ओर अग्रसर आडवाणी को विदाई देने में किसी को आपत्ति न होती बशर्ते गरिमापूर्ण ढंग से यह काम किया जाता। लेकिन राष्ट्रपति चुनाव से लेकर हर अवसर पर उन्हें निर्वासन में धृष्टतापूर्ण ढंग से धकेलने का उपक्रम उजागर होता रहा। जिससे उनके साथ षड़यंत्र किये जाने की धारणा बन गई। आडवाणी जी के साथ ही क्यों पार्टी के अन्य कददावर नेताओं की भी जबरन छुटटी करने में पूरा जोर दिखाया गया। चक्रवर्ती सम्राट नही चाहता कि उससे बड़े या बराबर के कद को कोई उनके सामने न रह जाये। इसीलिए तमाम बुजुर्ग नेता पार्टी के फैसले को स्वीकार नही कर पा रहे। डा. मुरली मनोहर जोशी ने आडवाणी जी के आवास पर जाकर उनसे आधा घंटे तक मंत्रणा की वरना एक जमाने में डा. जोशी भी कम अकड़ू नही थे। कई और ऐसे ही नेताओं के आडवाणी के दरबार में पहुंचने की खबर है। लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की भी आक्रोश भरी पार्टी को लिखी गई चिटठी सामने आ चुकी है। बुजुर्गों की आह मोदी-शाह जोड़ी के लिए बड़ा अपशकुन है।



Browse By Tags



Other News