लोस चुनाव- 2019 : जिला प्रशासन ने कसी कमर, कड़े सुरक्षा घेरे में होगा नामांकन
| Rainbow News - Apr 13 2019 1:44PM

लोकसभा चुनाव में अत्यंत कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच नामांकन प्रक्रिया होगी। 14 थाना प्रभारी, 24 सब इंस्पेक्टर तथा 100 पुलिस कर्मियों के सुरक्षा घेरे के बीच नामांकन की पूरी प्रक्रिया निपटाई जाएगी। प्रत्याशी के साथ कुल पांच लोगों को ही कलक्ट्रेट परिसर में प्रवेश की अनुमति होगी। परिसर के मुख्य गेट से लेकर नामांकन कक्ष के बाहर व भीतर की पूरी गतिविधि को कैमरे में कैद करने के लिए सीसीटीवी का इंतजाम रहेगा। कलक्ट्रेट के पास तक प्रत्याशी समेत कुल अधिकतम तीन वाहन ही आ सकेंगे।

कलक्ट्रेट में नामांकन की तैयारियों की जानकारी देते हुए डीएम सुरेश कुमार ने कहा कि नामांकन की पूरी प्रक्रिया कुशलतापूर्वक तथा शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए सभी जरूरी इंतजाम कर लिए गए हैं। तय किया गया है कि कलक्ट्रेट के पास नामांकन अवधि में भीड़ नहीं आने दी जाएगी। प्रत्याशी के वाहन समेत अधिकतम तीन वाहन कलक्ट्रेट के गेट नंबर एक तक आ सकेंगे। इसके बाद यहां से प्रत्याशी समेत अधिकतम पांच लोग ही कलक्ट्रेट के भीतर नामांकन के लिए प्रवेश कर सकेंगे। गेट नंबर एक से लेकर नामांकन कक्ष के बाहर व नामांकन कक्ष के अंदर की पूरी गतिविधि रिकार्ड करने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। अलग से भी वीडियो कैमरे से निगरानी होती रहेेगी।

16 अप्रैल को कार्यक्रम की अधिसूचना जारी होगी। इसी दिन से ही नामांकन शुरू कर 23 अप्रैल तक रविवार के अवकाश को छोड़ किया जा सकेगा। नामांकन पूर्वान्ह ग्यारह बजे से अपराह्न तीन बजे तक ही होगा। एसपी वीरेंद्र कुमार मिश्र ने बताया कि सुरक्षा घेरे को अत्यंत पुख्ता बनाए रखने के लिए 14 थाना प्रभारी नामांकन अवधि में कलक्ट्रेट के भीतर व आसपास लगाए जा रहे हैं। 24 सब इंस्पेक्टर तथा 100 पुलिस कर्मी भी नामांकन व्यवस्था के लिए लगेंगे। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि नामांकन के दौरान कोई दो अलग अलग जुलूस एक साथ नामांकन स्थल तक न पहुंचने पाएं।

दिव्यांग मतदाताओं की सुविधाओं पर प्रशासन ने पूरा जोर लगा दिया है। डीएम सुरेश कुमार ने बताया कि जिले में कुल 13 हजार 237 दिव्यांग मतदाता हैं। इन्हें सभी जरूरी सुविधा प्रदान की जाएगी। दिव्यांगों की श्रेणी बूथवार तैयार कर ली गई है। जो दिव्यांग मतदाता पूरी तरह नहीं देख पाते उनके लिए ब्रेल लिपि में मत पत्र उपलब्ध रहेंगे। इसमें प्रत्याशियों के निशान व क्रमांक आदि वे हाथों से छू कर एहसास कर सकते हैं। समझ सकते हैं। इसके बाद वे मतदान करने ईवीएम तक जाएंगे, जिससे अपनी पसंद के अनुरूप मतदान कर सकें।

दृष्टि से कमजोर मतदाताओं की सुविधा के लिए मतदान केंद्रों पर मैग्नीफाइड ग्लास उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके माध्यम से वे आसानी से चुनाव चिन्ह आदि पहचान सकेंगे। निष्पक्ष मतदान के लिए ही यह प्रबंध किए जा रहे हैं। सभी केंद्रों पर दिव्यांगजनों के लिए व्हील चेयर का प्रबंध हो रहा है। जिन केंद्रों पर मतदाताओं के पास व्हील चेयर नहीं है। वहां अलग से इंतजाम हो रहा है। 62 व्हील चेयर विभाग के पास है, जबकि 95 व्हील चेयर खरीदने का आर्डर हो चुका है। सीडीओ अनूप कुमार श्रीवास्तव, एडीएम अमरनाथ राय, एएसपी अशोक कुमार राय व जिला सूचना अधिकारी जेपी सिंह ने भी मतदान से जुड़ी तैयारियों पर प्रकाश डाला।

मतदान में लगे कर्मचारियों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो इसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है। डीएम ने बताया कि पोलिंग पार्टियां आम तौर पर परिषदीय स्कूलों में ही ठहरेंगी। जिन जगहों पर पंखे की व्यवस्था नहीं थी वहां इसकी व्यवस्था की जा रही है। विद्युतीकरण कराया जा रहा है, जिससे गर्मी में मतदान कर्मियों को मुसीबत का सामना न करना पड़े। मतदान कर्मियों के ठहरने वाले स्कूलों के परिसर व शौचालय की साफ सफाई मतदान के एक दिन पहले तथा मतदान के दिन अच्छे ढंग से सुनिश्चित कराई जाएगी। इसमें लापरवाही मिली तो संबंधित पर कठोरतम कार्रवाई होगी। मतदान कर्मियों को तौलिया, साबुन आदि भी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्हें भोजन इंतजाम के लिए किसी के सहारे न रहना पड़े, इसलिए संबंधित विद्यालय के रसोइयों को निर्देशित किया गया है कि वे कर्मचारियों से जरूरी राशि लेकर भोजन व नाश्ते का प्रबंध करें।



Browse By Tags



Other News