नीरव मोदी के लिए आर्थर रोड जेल तैयार, बैरक नंबर 12 में रखने की तैयारी
| Rainbow News - Jun 11 2019 4:48PM

अगर भारत सरकार की कोशिशों कामयाब रही तो देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के मास्टरमाइंड नीरव मोदी भारत में सलाखों के पीछे रहेगा। अगर ब्रिटेन से नीरव मोदी का प्रत्यर्पण भारत होता है तो उसे मुंबई के ऑर्थर रोड जेल में रखा जा सकता है और इसकी तैयारी भी पूरी कर ली गई है। महाराष्ट्र जेल विभाग ने केंद्र सरकार को बताया है कि नीरव मोदी के लिए मुंबई की आर्थर रोड जेल का बैरक नंबर 12 तैयार है। बैरक में लाइट, पानी, हवा और दवा की उचित सुविधा उपलब्ध करा दी गई है।

आपको बता दें कि केंद्र सराकार देश के भगोड़े में देश के सबसे बड़े बैंकिंग घोटाले के मास्टरमाइंड नीरव मोदी को वापस भारत लाने के लिए कड़ी मशक्कत में जुटी है। पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों  का चूना लगाने वाला भगोड़ा नीरव मोदी इस समय लंदन की जेल में बंद है। उसने चौथी बार जमानत की अर्जी दाखिल की है  जिसपर इंग्लैंड एंड वेल्स की उच्च न्यायालय आज सुनवाई करेगी। वेस्टमिंस्टर मैजिस्ट्रेस कोर्ट ने तीन बार उसकी जमानत याचिका को खारिज किया है। गौरतलब है कि इसी अदालत में नीरव मोदी को भारत प्रत्यर्पित करने के मामले की सुनवाई चल रही है अगर आज फैसला उसके खिलाफ जाता है प्रत्यर्पण की संभावना और बढ़ जाएगी।

आपको बता दें कि 13 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के मामले में लंदन की अदालत आज नीरव मोदी की जमानत याचिका पर फिर सुनवाई करेगी। ये लगातार चौथा मामला है, जब नीरव मोदी की जमानत याचिका पर सुनवाई होगी। लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में नीरव मोदी की जमानत याचिका पर सुनवाई करेंगी। यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है कि नीरव मोदी को कोर्ट में पेश किया जाएगा या जेल से ही वीडियोलिंक के जरिए उसकी पेशी होगी। मार्च में हुई गिरफ्तारी के बाद से ही 48 वर्षीय भगोड़ा कारोबारी दक्षिण-पश्चिम लंदन स्थित वैंड्सवर्थ जेल में बंद है। इससे पहले नीरव मोदी की 3 जमानत याचिकाएं खारिज हो चुकि है।

वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने 8 मई को नीरव मोदी की तीसरी जमानत अर्जी को खारिज कर दिया था। कोर्ट ने कहा कि पंजाब नेशनल बैंक जालसाजी और मनी लांड्रिंग मामले का मुख्य आरोपित भगोड़ा हीरा कारोबारी समर्पण करने में विफल रह सकता है। गौरतलब है कि स्कॉटलैंड यार्ड अधिकारियों ने सेंट्रल लंदन बैंक ब्रांच से नीरव मोदी को उस वक्त गिरफ्तार किया था जब वह वहां नया बैंक खाता खोलने के लिए पहुंचा था। सबसे पहले डिस्टि्रक जज मैरिए माल्लोन ने 20 मार्च को जमानत देने से इन्कार किया था। गिरफ्तारी के बाद से वह एचएमपी वैंड्सवर्थ जेल में बंद है।



Browse By Tags



Other News