ए.आर.टी.ओ. के.एन. सिंह: ....शम्भु भयो जगदीश
| Rainbow News Network - Jun 18 2019 5:02PM

ए.आर.टी.ओ. कैलाश नाथ सिंह

हिन्दू धर्म की पौराणिक कथाओं के अनुसार- देव-दानवों द्वारा किए गए समुद्र मंथन में 14 रत्न प्राप्त हुए थे, जिसका बंटवारा आपस में देव और दानव ने किया परन्तु मंथन के दौरान प्राप्त हुआ हलाहल स्वीकारने का साहस किसी में नहीं हुआ। तब देवाधि देव महादेव ने उसका पान किया और सुर-असुर को द्विविधा की स्थिति से उबारा। इस घटना के उपरान्त विष पान करने से भगवान शिव का कंठ नीला हो गया जिससे वे नीलकंठ कहलाये। 

ठीक इसी तरह के व्यक्ति का जिक्र हम यहाँ कर रहे हैं जिसे भगवान शिव की तरह ही कहा जा सकता है। वह एक ऐसे महकमे का जिला स्तरीय मुखिया है जो सर्वाधिक अपनी नकारात्मकता के लिए जाना जाता है। यह ऐसा विभाग है जिसके बारे में कहीं भी किसी भी स्तर पर बात की जाए तो हर कोई अगला यही कहेगा कि इससे अधिक भ्रष्टाचार किसी विभाग में नहीं है। कुछ भी हो जब सरकारी सेवा में आ ही गए हैं तब हर तरह से सेवा अवधि पूरी ही करनी है। चाहे भ्रष्टाचार का माहौल हो या फिर ईमानदारी का........। 

कहा जाता है कि कुछ ऐसे भी मानव प्राणी होते हैं जो कड़ुवा-कड़ुवा थू और मीठा-मीठा गप्प.........पर चलते हैं। परन्तु महकमे का नीलकण्ठ बना अधिकारी कड़ुवा और मीठा दोनों का अर्थ बखूबी समझता है और उसका प्रयास यही रहता है कि महकमे का वह काला धब्बा जो भ्रष्टाचार के रूप में चला आ रहा है समाप्त हो जाए। इसी प्रयास में रहने वाले इस अधिकारी को कतिपय लोगों द्वारा की जाने वाले अनापेक्षित/नकारात्मक टिप्पणियाँ सुननी पड़ती होंगी। बावजूद इसके अपने में मस्त अभीष्ट का ध्यान रख सरकारी/विभागीय सेवा ईमानदारी से करने का लक्ष्य बनाकर नित्य-नियमित चलने वाला व्यक्ति अपने नाम की सार्थकता को सिद्ध कर रहा है। 

उत्तर प्रदेश का जिला है अम्बेडकरनगर, जिसमें स्थापित सहायक संभागीय परिवहन कार्यालय के प्रमुख के रूप में तैनात हैं वरिष्ठ, अनुभवी परिवहन अधिकारी ए.आर.टी.ओ. कैलाश नाथ सिंह। जिनका शॉर्ट फार्म है के.एन. सिंह..........। वर्ष 2017 से अब तक लगभग 2 वर्ष के अपने सेवा कार्यकाल में ए.आर.टी.ओ. सिंह ने विभागीय राजस्व में उत्तरोत्तर बढ़ोत्तरी की है, जिसका परिणाम यह रहा है कि जिले में कोई भी ऑटो वाहन अवैध अथवा डग्गामार नहीं हैं। अपने अथक प्रयास व श्रम दायित्व से कैलाश नाथ सिंह ने विभाग हित को सर्वोपरि रखा। कोई ऐसा दिन/दिवस नहीं रहता है जब अनका कोई अभियान न चलता हो। प्रदेश सरकार द्वारा सम्मान प्राप्त और जनपद के जिला मजिस्ट्रेट द्वारा अपने कर्म फल के एवज में प्रशस्ति-पत्र पाने वाले कैलाश नाथ सिंह का नाम प्रबुद्धवर्गीय जुबान पर रहता है।

सड़क सुरक्षा सप्ताह शुभारम्भ के दौरान

जिला, मण्डल एवं प्रदेश स्तर पर सम्मानित किए गए ए.आर.टी.ओ. सिंह को नीलकण्ठ या फिर जगदीश क्यों न कहा जाए...................इन्होंने परिवहन महकमें के कार्यालय परिसर में साफ-सफाई (स्वच्छता), पौधरोपण जैसा महत्वपूर्ण कार्य करने के साथ-साथ सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत लोगों को जागरूक करने का भी काम बखूबी किया है, जो अब भी जारी है। बीते वर्षों एन.जी.ओ. के साथ मिलकर जन-जागरण का काम करने वाले के.एन. सिंह ने जिले के लगभग सभी ग्राम्य एवं शहरी क्षेत्रों के विद्यालयों एवं महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्थलों पर भीड़ एकत्र करके जनजागरण किया था। यह कार्य इनके द्वारा अब भी किया जा रहा है।

एक नहीं अनेकों खूबियों वाले दिखावे में अक्खड़ स्वभाव के स्वामी ए.आर.टी.ओ. के.एन. सिंह अपनी जिजीविषा को लेकर अवश्य ही याद आया करते हैं क्योंकि इनको जो भी कार्य सौंपा जाता है उसको गम्भीरता एवं जिम्मेदारी से लेकर तत्परता से करते हैं। चाहे वह कष्टकारी हो अथवा सुविधाजनक........। लक्ष्य से अधिक राजस्व वसूली व अन्य उत्कृष्ट विभागीय कार्यों के लिए मण्डल और प्रदेश स्तर पर सम्मान पाने वाले ए.आर.टी.ओ. सिंह को बीते दिनों निवर्तमान जिलाधिकारी सुरेश कुमार द्वारा लोकसभा चुनाव-2019 के दौरान पोलिंग पार्टियों हेतु वाहन उपलब्ध कराने जैसे महत्वपूर्ण कार्य को बखूबी करने पर प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया। 

प्रत्येक बुधवार को जिले में हेलमेट चेकिंग जैसे अभियान को गम्भीरता से लेकर कार्य करने वाले के.एन. सिंह ने विभागीय कार्यालय को चुस्त-दुरूस्त करने का काम किया है, और कर रहे हैं। समय से आना और कार्य सम्पन्न होने के उपरान्त ही वापस घर को जाना उनकी आदत में शुमार है और जब ऐसी आदत विभाग के मुखिया की होगी तो जाहिर है कि अन्य महकमा मुलाजिम भी वैसा ही करेंगे। वर्क इज वर्शिप को मूलमन्त्र मानकर कार्य करने वाले कैलाश नाथ सिंह ने अपने महकमा के सभी कारीन्दों को एक ऐसी सीख दिया है जिस पर चलने से भ्रष्टाचार रूपी कलंक अवश्य ही साफ होता नजर आएगा। 

इस समय जब जिले का पारा 45 डिग्री के आस-पास है तब सड़क सुरक्षा सप्ताह के आयोजन को लेकर ए.आर.टी.ओ. सिंह काफी गम्भीर और सक्रिय हैं। 17 जून को नवागत जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र जो जिला सड़क सुरक्षा समिति के अध्यक्ष हैं के निर्देश पर सचिव के.एन. सिंह ने आयोजन को सफल बनाने के लिए हर सम्भव प्रयास किया और परिणाम यह रहा कि आयोजन के शुभारम्भ के दिन तमाम आमंत्रियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और विचारों का आदान-प्रदान किया। जिलाधिकारी के निर्देश पर ए.आर.टी.ओ. के.एन. सिंह ने अतिक्रमण हटाओ अभियान का नेतृत्व भी बखूबी किया। तात्पर्य यह कि इन्हें जो भी कार्य उच्चाधिकारियों द्वारा सौंपा जाता है उसे यह अपनी क्षमता व आदत अनुसार अवश्य ही पूरा करते हैं। 

अपने सीनियर्स का सम्मान करने वाले स्पष्टवादी, मेहनती के.एन. सिंह जनपद स्तरीय अधिकारियों के बीच होने वाले चर्चा के केन्द्र बिन्दु होते हैं। यही नहीं अनधिकृत रूप से वाहन स्वामी और चालक गण भी इनका नाम लेना नहीं भूलते हैं। कब, कौन सी जगह, किस सड़क मार्ग पर के.एन. सिंह नमूदार होकर वाहन चेकिंग शुरू कर दें इसे कोई भी नहीं बता सकता। इनके बारे में बेहतर जानना हो तो सड़क पर खड़े हो जाइए, किसी वाहन में बैठ जाइए और ए.आर.टी.ओ. का जिक्र भर कर दीजिए.....लोगों के मुँह से निकलने वाले शब्द, वाक्य, टिप्पणियाँ अपने आप इनका परिचय बता देंगी। 

चोर जब कहे कि थानेदार बड़ा सख्त है, आजकल धन्धा मन्दा है तब समझा जाए कि उसके कथन में सच्चाई यह है कि वर्दी अफसर कड़क स्वभाव का है। यही कारण है कि चोरी जैसे छोटे अपराध को अंजाम देने वाले चोर द्वारा उसके बारे में उक्त बातें कही जा रही हैं। ठीक उसी तरह जब वाहन चालक यह कहे कि भाई कायदे से बैठो, लटको मत, ओवरलोड मत हो वरना ए.आर.टी.ओ. चालान कर देगा या फिर हेलमेट पहनो, वाहन चलाने के लिए अधिकृत लाइसेन्स रखो, वाहन के फिटनेस की एन.ओ.सी. लो वरना चालान के साथ-साथ जुर्माना भी देना होगा, तो समझा जा सकता है कि परिवहन अधिकारी कितना सख्त है। ठीक इसी अन्दाज में अम्बेडकरनगर जिले के परिवहन महकमा मुखिया ए.आर.टी.ओ. के.एन. सिंह द्वारा विभागीय हित में कार्य किया जा रहा है। 

एक विशेष गुण के स्वामी के.एन. सिंह.........................टिट फॉर टैट............यानि जैसे को तैसा.................सठे साठ्यम समाचरेत्................इनकी सफलता का मुख्य स्लोगन है। इनके बारे में पूर्व में ही ‘नीलकण्ठ’ शब्द का इस्तेमाल किया गया है नीलकण्ठ यानि जगदीश...........भगवान भोले भण्डारी..........भगवान शिव शंकर। यदि अम्बेडकरनगर परिवहन महकमे के मुखिया ए.आर.टी.ओ. के.एन. सिंह के बारे में नीचे लिखी पंक्तियाँ इस जिले के संदर्भ में कही जाएँ तो गलत नहीं होगा....................। 

‘‘मान सहित विष खाइके शम्भु भयो जगदीश। बिना मान अमृत पिये, राहू कटायो सीस।।’’

अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान



Browse By Tags



Other News