पाई-पाई को मोहताज पाकिस्तान अब मुर्दों से भी करेगा टैक्स वसूली
| Rainbow News - Jul 18 2019 2:48PM

आईएमएफ से कर्जे की मंजूरी के बाद पाकिस्तान सरकार ने जनता पर टैक्स का बेइन्ताह टैक्स लाद दिये हैं। पाकिस्तान के व्यापारी और जनता इन टैक्स के खिलाफ लामबंद हैं। इमरान सरकार के इस कदम के खिलाफ पाकिस्तान के बाजार बंद भी रहे। पाकिस्तान की सरकार को इस समय भारी विरोध और तंगहाली के दौर से गुजरना पड़ रहा है। जहां एक तरफ टैक्स के बोझ के खिलाफ विपक्षी दलों ने पाकिस्तान सरकार के खिलाफ हल्ला बोल रखा है।

वहीं दूसरी तरफ इमरान खांन के सामने आमदनी बढ़ाने का दबाव है। इमरान खान ने सभी सरकारी संस्थाओं से अपने आय के स्रोत बढ़ाने के निर्देश दिये हैं। शायद इसी निर्देश का असर है कि अब पाकिस्तान मेंआमदनी बढ़ाने के लिए अब मुर्दों से भी टैक्स वसूलने की तैयारी की जा रही है। जी हां , यह मजाक नहीं सच्चाई है। पाकिस्तान में अब वो मुर्दा ही दफ्न किया जा सकेगा जिसका टैक्स वहां की लोकल बॉडी के खजाने में जमा कर दी गयी होगी।

एक मुर्दे पर तकरीबन 100 अमेरिकी डॉलर का टैक्स निर्धारित किया गया है। मुर्दों से टैक्स वसूली का काम का लाहौर से शुरू होने वाला है। पाकिस्तानी इलाके वाले पंजाब सूबे की सरकार को लाहौर में मुर्दों को दफन करने के लिए बनने वाली नई कब्रों पर एक हजार से पंद्रह सौ पाकिस्तानी रुपये (तकरीबन एक सौ डॉलर) वसूलने का प्रस्ताव दिया गया है। 

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, लाहौर नगर निगम ने अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले कब्रिस्तानों में नई कब्रों पर टैक्स लगाने के प्रस्ताव पारित किया है और इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए सरकार को भेजा है।  प्रस्ताव के पक्ष में यह दलील दी गई है कि टैक्स से वसूली जाने वाली रकम का इस्तेमाल कब्रिस्तानों की देखभाल के लिए किया जाएगा जिससे इनकी व्यवस्था और बेहतर होगी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अभी आम तौर से कब्रिस्तान में जगह और मुर्दे को दफन करने में लगभग दस हजार रुपये का खर्च आता है। अगर टैक्स लगाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल गई तो  पाकिस्तान में मुर्दों को दफ्न करने का यह खर्च भी दो गुने से ज्यादा बढ़ जायेगा।



Browse By Tags



Other News