शहर में अतिक्रमण फिर लौटा अपने पुराने ढर्रे पर
| Rainbow News Network - Jul 18 2019 4:36PM

अम्बेडकरनगर। बीते महीने जिले में नए हाकिम के आने के तुरन्त बाद अकबरपुर व शहजादपुर नपा क्षेत्र में मुख्य सड़क मार्ग पर हुए अतिक्रमण को अभियान चलाकर 2-3 दिन तक हटवाया गया। सड़क पर से अतिक्रमण हटने के साथ ही नगर की सड़कें चौड़ी दिखाई पड़ने लगीं और जाम की समस्या से भी कुछ राहत मिली, परन्तु.............

अकबरपुर और शहजादपुर दोनों उपनगरों में रक्तबीज की तरह अतिक्रमणकारियों ने पुनः सड़कों पर अपना कब्जा जमाना शुरू कर दिया। इस बावत कहा जा रहा है कि नगर पालिका के कतिपय पुराने व दबंग ओहदेदारों द्वारा इन अतिक्रमणकारियों से धनउगाही करके उन्हें अभयदान दे दिया गया। परिणाम यह है कि हटवाये गए अतिक्रमण से मुक्त हुई सड़कें पुनः अपना अस्तित्व खोने लगी। 

अकबरपुर के पुराने डाकबंगला और नये सर्किट हाउस की पश्चिमी दीवार से सटकर लोगों ने गुमटी, ठेला एवं जमीन पर चाय, जल-पान, पान-तम्बाकू, सिगरेट, चाट के ठेले लगाना शुरू कर दिया। कमोवेश यही हालत बस स्टेशन के निकट मुख्य सड़क की दोनों पटरियों की है। लोक निर्माण विभाग कार्यालय की पश्चिमी दीवार व मुख्य प्रवेश मार्ग टाण्डा रोड स्थित सर्किट हाउस के मुख्य द्वार के दोनों तरफ जहाँ आवारा पशु टहलते रहते हैं वहीं सड़क और दीवार के बीच में बेतरतीब दर्जनों रिक्शा खड़े रहने की वजह से उक्त स्थान पर पैदल चलना दूभर हैं। 

पी.डब्ल्यू.डी. कार्यालय के मुख्य द्वार की बाईं तरफ अवस्थित एक विशाल वृक्ष के नीचे कई अतिक्रमणकारियों द्वारा टी-स्टाल खोला गया है। तात्पर्य यह कि सर्किट हाउस व लोक निर्माण विभाग कार्यालय की पश्चिमी दीवार पर पुनः अतिक्रमण किया जाने लगा है। इस अतिक्रमण से लो.नि.वि. कार्यालय एवं सर्किट हाउस भवन विलुप्त सा नजर आने लगा है। शाम से ही यहाँ अराजकतत्वों का जमावड़ा लग जाता है। शराब व गांजे तथा अन्य प्रकार के नशे में धुत लोगों की हरकतें शान्तिप्रिय नगरवासियों विशेषकर महिलाओं के लिए कष्टकारी साबित होने लगी हैं। 



Browse By Tags



Other News