ऐसे तत्वों से बचकर रहने में ही भलाई
| Rainbow News - Jul 18 2019 4:48PM

अम्बेडकरनगर। अकबरपुर थाना/कोतवाली क्षेत्र में युवा अराजकत तत्वों की भरमार होने से नगरजन त्राहि-त्राहि करने लगे हैं। अकबरपुर-शहजादपुर में स्वच्छन्द विचरण करने वाले ये तत्व अकारण झगड़ा-फसाद करते देखे जा सकते हैं। इनकी हरकतों से महिलाएँ, बुजुर्ग और शान्तिप्रिय नगरजन हलकान होकर रह गए हैं। आम एवं खास के लिए सिरदर्द साबित होने वाले इन युवा वर्गीय अराजकतत्वों पर नियंत्रण लगाये जाने की नितान्त आवश्यकता है। 

विवरण अनुसार युवा वर्गीय निरंकुश लड़के अपने-अपने घरों से निकलकर दोनों उपनगरों में मोटर बाइक व चार पहिया लग्जरी वाहनों पर बैठकर विचरण करते करते रहते हैं। शोरगुल करना इनका शगल है। इनकी तीव्र ध्वनि वार्तालाप बड़ी अससंदीय और अश्लील होती है। ये मनबढ़ और नशे के आदी बताये जाते हैं। दोनों उपनगरों में सुबह से लेकर देर रात तक स्वच्छन्द विचरण करने वाले ये तत्व बेढंगे किस्म के परिधान और दाढ़ी, बाल एक अलग स्टाइल में बढ़ाये रहते हैं। सड़कों पर संचालित होने वाले शाकाहारी/मांसाहारी रेस्तराओं, फास्टफूड की दुकानों व शराब की दुकानों/ठेकों के इर्द-गिर्द इनका जमावड़ा रहता है। 

किसी को भी बेवजह अपमानित करना, गालियाँ देना इनकी हरकतों में शुमार है। इनके बारे में कहा जाता है कि ये लोग कॉलोनियों में आवास बनकर रहने वाले पैसे वालों की सन्तानें हैं जो निकम्मे, निठल्ले व मनबढ़ हो गये हैं। इनमें नशा की आदत होती है, साथ ही ये फिल्मी स्टाइल में दबंगई करते हैं। माँ-बाप और वरिष्ठजनों के मान-अपमान की चिन्ता किए बगैर युवा पीढ़ी के ये तत्व दिशाहीन होकर आपराधिक गतिविधियों में भी संलिप्त होने लगे हैं। 

खबरदार! गलती से इन्हें नसीहत न दें क्योंकि ये आपके लिए नुकसानदेय साबित हो सकता है। इन तत्वों की सोच, क्रिया-कलाप और हरकतों से ऐसा नहीं प्रतीत होता कि इन्हें सामाजिक रिश्तों का महत्व और उनकी पवित्रता के बारे कुछ भी ज्ञान है। बकौल इन्हीं के इनके लाइफ का फण्डा ही कुछ दूसरा है। ‘खाओ, पीयो, मौज करो’ को मूल-मंत्र मानो और अपनी धुन में मस्त रहो। अच्छा करोगे तो भी और बुरा करोगे तो भी............किसी प्रकार का मेडल नहीं मिलने वाला है।



Browse By Tags



Other News