जौनपुर में मना जड़ी-बूटी दिवस
| Rainbow News - Aug 5 2019 1:15PM

जौनपुर। योग गुरू बाबा रामदेव के सहयोगी के रूप में योग के साथ आयुर्वेद को भी आधुनिक तकनीकी के साथ वैश्विक पटल पर एक विशिष्ट पहचान दिलाने वाले आयुर्वेद शिरोमणि आचार्य बालकृष्ण का जन्मदिवस पतंजलि योग परिवार के साधकों द्वारा जड़ी बूटी दिवस के रूप में मनाया गया। इसके अन्तर्गत 3 सौ से अधिक योग की कक्षाओं में जड़ी बूटियों को वितरित करने के साथ जन-जन को औषधि गुणों को लिये हुये नीम, गिलोय, तुलसी, हल्दी जैसे पौधों को रोपित करने के लिये जागरूक भी किया गया। इस मौके पर भारत स्वाभिमान के जिला प्रभारी शशिभूषण ने बताया कि पर्यावरण को सन्तुलित रखने के लिये योग शिक्षकों को 5 हजार पौधों को इस पखवाड़ा में रोपित करने का लक्ष्य रखा गया है।

आचार्य संजीव के निर्देशानुसार वीरेन्द्र योगी को आचार्य कृष्णमुरारी आर्य द्वारा पतंजलि योग समिति तहसील शाहगंज का दायित्व सौंपा गया। साथ ही तहसील शाहगंज के 60 योग साधकों को भारत सरकार द्वारा प्रदत्त योग शिक्षक का प्रमाण पत्र देते हुये पतंजलि योग समिति के प्रान्तीय सह प्रभारी अचल हरीमूर्ति द्वारा सभी योग शिक्षकों को निःशुल्क योग की कक्षाओं को संचालित करने के संकल्पित किया। इस अवसर पर आचार्य कृष्णमुरारी आर्य, डा. राघवेन्द्र प्रताप सिंह, ओम प्रकाश चौबे, शिवकुमार, श्रीप्रकाश, मनोज योगी, वीरेन्द्र योगी, डा. हेमन्त, ममता भट्ट, संजय कुमार, डा. ध्रुवराज, शम्भूनाथ, नन्द लाल, प्रेमचन्द, सुरेन्द्र, कड़ेदीन, संतोष, सिकन्दर, रामकुमार, लाल बहादुर, डा. चन्द्रसेन, राजेश सहित तमाम साधक उपस्थित रहे है।

योग कक्षा कचहरी व सरदार बल्लभ भाई योग कक्षा में भी आचार्य जी का जन्मदिन मनायागया। इस मौके पर विभिन्न औषधि पौधौ के गुणों के बारे में चर्चा की गयी। साथ ही उनके जीवन पर प्रकाश डाला गया। इस अवसर पर शशि, डा. हेमन्त, डा. केबी यादव, शिवपूजन, डा. राजेश, कृष्ण कुमार, दयाराम, डा. ओपी यादव, मुन्ना सहित तमाम लोग उपस्थित रहे। अन्त में डा. ध्रुवराज योगी जिला मंत्री पतंजलि योग समिति ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।

पूर्वांचल विश्वविद्यालय परिसर में स्थित मुक्तांगन में पतंजलि परिवार द्वारा पतंजलि विश्वविद्यालय हरिद्वार के कुलपति आचार्य बाल कृष्ण का जन्मदिन जड़ी बूटी दिवस के रूप में मनाया। इस पुनीत अवसर पर दिव्य औषधि गुणों से परिपूर्ण घृतकुमारी (एलोवेरा), श्वेतार्क, नागदौन, पर्णबीज (पाषाण भेद) आदि पौधों का रोपण किया गया। तत्पश्चात् प्रो. विक्रमदेव आचार्य, मदन मोहन भट्ट, डा. संजय श्रीवास्तव, ममता भट्ट सहित अन्य लोगों ने उनके जीवन पर प्रकाश डाला। वहीं आचार्य विक्रमदेव आचार्य ने जड़ी बूटियों की महत्ता एवं उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुये कुछ खास जड़ी-बूटियों को अपने आवास पर लगाने, सेवा, सेवन करने हेतु लोगों को प्रेरित किया। इस अवसर पर तमाम लोगों की उपस्थिति रही।



Browse By Tags



Other News