सपाजनों ने धरना-प्रदर्शन कर योगी सरकार को घेरा
| Rainbow News - Aug 9 2019 2:26PM

भाजपा सरकार का सफाया तय: राम मूर्ति 

अम्बेडकरनगर। (रेनबोन्यूज नेटवर्क) लोक सभा चुनाव- 2019 के बाद जिले में समाजवादी पार्टी द्वारा पहली बार किसान, बेरोजगार, अल्पसंख्यक, छात्र, महिला उत्पीड़न के खिलाफ सरकार विरोधी धरना-प्रदर्शन शुक्रवार 9 अगस्त 2019 को किया गया। इसमें पार्टी के तमाम समर्थक और स्थानीय, क्षेत्रीय नेताओं का जमावड़ा देखने को मिला। राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर जिले के सपा जनों की भीड़ देखकर प्रतीत हुआ कि पार्टी और कार्यकर्ताओं में वर्तमान सरकार के विरूद्ध आक्रोश है। कलेक्ट्रेट के निकट स्थित डॉ अम्बेडकर की प्रतिमा के समक्ष सपाजनों का पूर्व मंत्री राम मूर्ति वर्मा के नेतृत्व में विशाल धरना-प्रदर्शन हुआ, और राज्यपाल को सम्बोधित अपनी मांगों का एक ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा। 

प्रस्तुत है सौरभ यादव की विस्तृत रिपोर्ट:- 

सपा कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट के निकट धरना-प्रदर्शन किया। राष्ट्रीय आह्वान पर क्रान्ति दिवस मनाते हुए सपा नेताओं ने प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगाया और कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह बेपटरी हो चुकी है। रायबरेली में उन्नाव कांड पीड़िता के साथ हुए हादसे की निन्दा करते हुए कहा गया कि आरोपी विधायक को प्रदेश के बाहर दूसरे राज्य की जेल में भेजा जाए। प्रदेश में बढ़ते अपराध के चलते आमजन खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। सपा नेताओं ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वेष भावना से काम कर रही है। जिस प्रकार जौहर विश्व विद्यालय पर कार्रवाई की जा रही है और सांसद आजम खान पर फर्जी केस दर्ज करा उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है यह काफी निन्दनीय है। 

उक्त धरना प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री राम मूर्ति वर्मा ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। चौतरफा जंगलराज फैला हुआ है। योगी सरकार पूर्णतया विफल है। अपराधी जेलों में रहकर अपराध को अंजाम दे रहे हैं। भ्रष्टाचार व प्रशासनिक मनमानापन चरम पर है। उन्होंने कहा कि अब भाजपा सरकार का सफाया तय है, जनता सरकार के कार्यों से ऊब चुकी है। आगामी चुनाव हमारा है।

धरना-प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए पूर्व काबीना मंत्री सपा के कद्दावर लीडर राम मूर्ति वर्मा ने कहा कि सरकार उन्नाव रेप काण्ड में आरोपी को बचाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि खाद, बीज व कीटनाशक दवाओं के साथ-साथ बिजली दर में हो रही बढ़ोत्तरी के चलते किसान आत्महत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। नौजवान व मजदूर बेरोजगारी का दंश झेल रहे हैं, उनकी सुधि लेने वाला कोई नहीं है। उन्होंने कहा कि गन्ना किसानों का बकाया भुगतान अब तक नहीं हो सका है। गौ आश्रयस्थल के नाम पर धन का बंदरबांट किया जा रहा है, जबकि छुट्टा साड़ों/गायों का आतंक और उनकी मौत का सिलसिला अभी भी जारी है। 

वक्ताओं में पूर्व सांसद शंखलाल मांझी, पूर्व विधायक जयशंकर पाण्डेय ने भी योगी सरकार की विफलता पर अपने आक्रामक तेवर दिखाये। धरना प्रदर्शन में उपस्थित नेताओं ने कहा कि यदि सपा कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न नहीं बन्द हुआ तो पार्टी और वे लोग सड़क पर उतरने को विवश होंगे। धरना प्रदर्शन में प्रमुख रूप से सर्वश्री विशाल वर्मा, पूर्व विधायक भीम प्रसाद सोनकर, सुभाष रॉय, मलखान सिंह, उत्तर चौधरी, विद्या सिंह भारती, रणविजय सिंह, अंकुर मांझी आदि उपस्थित रहे। धरना प्रदर्शन की अध्यक्षता पार्टी के जिला उपाध्यक्ष वरिष्ठ लीडर विधानचन्द्र चौधरी और संचालन छात्र सभा जिलाध्यक्ष जंगबहादुर यादव ने किया। 



Browse By Tags



Other News