अकबरपुर बस स्टेशन का यह क्षेत्र बना डैन्जर-जोन, सड़क पटरी बनी जानलेवा
| Rainbow News Network - Sep 3 2019 4:33PM
  • उसरहवा कॉलोनी मोड़ से लेकर इल्तिफातगंज रोड मोड़ पर पैदल चलना दूभर
  • नालियों पर रखी क्षतिग्रस्त पटिया बन रही है हादसों का सबब
  • नगर की नालियों पर पटिया रखकर स्थाई/अस्थाई दुकानदारों ने किया अतिक्रमण

अम्बेडकरनगर। जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में सड़कों व गलियों में अतिक्रमण के चलते लोगों का पैदल चलना दूभर हो गया है। घनी आबादी हो या फिर बाजार की मण्डी कहीं भी इतनी सी जगह नहीं है कि एक व्यक्ति पैदल सड़क या उसकी पटरी पर चल कर सुरक्षित गन्तब्य तक पहुँच सके। अतिक्रमण की चपेट में आकर मुख्यालयी शहर अकबरपुर और उससे सटे शहजादपुर की सड़कें ऐसी हो गई हैं जैसे गाँव व खेतों की पगडण्डियाँ। जिन पर चलना दुरूह होता है। प्रायः खबरें देखने, पढ़ने व सुनने को मिलती हैं कि अकबरपुर/शहजादपुर में जाम की समस्या आम, जिसका कारण सड़क के किनारे बनी पटरियों पर बढ़ता अतिक्रमण है। अतिक्रमणकर्ता स्थाई और अस्थाई पटरी दुकानदार हैं। 

बाजार में स्थाई रूप से दुकानों में सामान रखकर व्यवसाय करने वालों ने सड़क की पटरी पर बनी नालियों को ढक दिया है, जिस पर उनकी आधी दुकान सजती है और एकाध पट्टी पर से ग्राहक उनकी दुकानों में प्रवेश कर खरीददारी करते हैं। अकबरपुर-बस स्टेशन के पश्चिम तरफ उपरिगामी सेतु है। इसके दोनों तरफ की बची हुई सड़क जिसे पटरी ही कहा जाएगा को यातायात के लिए इस्तेमाल किया जाता है। वन वे यातायात होने के बाद भी ये पटरियाँ इतनी संकरी हो गई हैं कि पैदल चलने वाले चौपहिया वाहनों से बचते-बचाते स्थाई/अस्थाई दुकानों के सामने नालियों पर रखी हुई पटियों पर से मजबूरन गुजरते हैं और कमजोर और छोटे आकार की पटिया टूटने पर सीधा नालियों में गिरकर चोटिल होते रहते हैं।  

अकबरपुर बस स्टेशन से इल्तिफातगंज रोड मोड़ तक दुकानों के सामने बनी नगर पालिका की नाली पर कमजोर व लघु आकार की पटिया रखकर दुकानदार अपना व्यवसाय तो बड़े मजे में कर रहे हैं परन्तु पैदल चलने वाले और इन दुकानों पर प्रवेश कर खरीददारी करने वाले ग्राहक उनमें गिरकर अपना पैर, हाथ और शरीर के बाह्य अंग असमय ही भंग कराकर अस्पतालों के बिस्तर पर पड़कर लाखों रूपए का इलाज करा रहे हैं। इस तरह के हादसे नित्य पेश आते हैं, परन्तु पटरी व स्थाई दुकानदारों की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ रहा है। जब भी कभी हादसे से बचाव की बात कही जाती है तो इनका जवाब होता है कि हम लोग अपना धन्धा करें कि परोपकार। मतलब जिस ग्राहक को हादसों से बचना हो, नालियों में गिरकर अपना अंग-भंग न करवाना हो वह स्वयं अपना बचाव करे, या फिर अपने साथ एक सहयोगी रखे जो राह चलने व दुकान में प्रवेश करने में मदद कर सके। जिस किसी के साथ पटिया से ढकी नाली में गिरकर अंग-भंग जैसा हादसा हो वह इसके लिए नगर पालिका/स्थानीय प्रशासन से शिकायत करे। 

टाण्डा रोड बस स्टेशन के पश्चिम तरफ के सड़क पटरी पर स्थित उसरहवा कॉलोनी गली मोड़ से लेकर इल्तिफातगंज रोड मोड़ तक काफी भीड़-भाड़ रहती है और सड़क पटरी के संकरा होने से यातायात का दबाव कुछ ज्यादा ही बढ़ जाता है परिणाम यह होता है कि सड़क पर जाम की स्थिति उत्पन्न हो जाती है। ऐसे में बड़े वाहनों से बचकर गुजरने वाले राहगीर अतिक्रमण की चपेट में आई नगर पालिका की नालियाँ जिनको पटिया रखकर ढका गया है पर से आवागमन करते हैं। वे लोग प्रायः पटिया टूटने से गन्दी नाली में गिरकर चोटिल होते रहते हैं।

बताना जरूरी है कि गैर कानूनी ढंग से सड़क पटरी के किनारे स्थित स्थाई व अस्थाई दुकानदारों ने नगर पालिका की नालियों पर पटिया रखकर अपने व्यावसायिक लाभ के लिए अतिक्रमण कर रखा है। अकबरपुर-बसस्टेशन का उसरहवा मोड़ से लेकर इल्तिफातगंज रोड मोड़ तक सड़क पटरी डैन्जर जोन बनकर हादसों का सबब बन रही है। अकबरपुर बसस्टेशन डैन्जर जोन से प्रायः आवागमन करने वाले और हादसों के भुक्तभोगी पीड़ितों का कहना है कि यदि यहाँ की जल-निकासी नाली पर नगर पालिका द्वारा मजबूत पटिया न रखवाई गई तो इसी तरह अंग-भंग जैसे हादसे होते रहेंगे। यह हादसे जानलेवा भी हैं। 

अधिशाषी अधिकारी सुरेश कुमार मौर्य

इस बावत अकबरपुर नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी सुरेश कुमार मौर्य से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मई/जून 2019 में अतिक्रमण हटाने के दौरान नालियों से पटिया हटवा दी गई थी, और दुकानदारों को सख्त हिदायत दी गई थी कि वे लोग अतिक्रमण न करें। रही बात नाली पर रखी गई छोटे आकार एवं टूटे फूटे टुकड़ों में रखी पटिया की तो नगर पालिका जब भी पटिया रखवायेगी तो उसका आकार और स्थिति दोनों मानक के अनुरूप होगा। टूटी-फूटी पटिया दुकानदारों ने स्वयं नाली पर रखा होगा। इससे अधिक अधिशाषी अधिकारी ने कुछ भी नहीं कहा।

बहरहाल कुछ भी हो यदि बस स्टेशन के पश्चिम तरफ उसरहवा कॉलोनी मोड़ से लेकर इल्तिफातगंज रोड मोड़ तक बने डैन्जर जोन में निर्मित जल निकासी नाली के ऊपर रखी कमजोर व क्षतिग्रस्त पटिया हटवाकर मजबूत, मानक के अनुरूप पटिया न रखवाई गई तो अंग-भंग हादसे पेश आते रहेंगे। इसके लिए नगर पालिका प्रशासन और स्थानीय प्रशासन को ध्यान देने की आवश्यकता है। 



Browse By Tags



Other News