स्वामी ब्रह्मनंद के 35वें परिनिर्वाण दिवस पर किया विचार गोष्ठी का आयोजन 
| Rainbow News Network - Sep 14 2019 2:41PM

आगरा। अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के तत्वाधान में शिक्षा के सागर स्वामी ब्रह्मानंद की 35वें परिनिर्वाण दिवस के उपलक्ष्य में राधे मोहन रिसोर्ट अमरपुरा में विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर ज़रूरत मंद बच्चों को शिक्षण सामग्री वितरित की गयी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद लोधी रहे। कार्यक्रम की शुरुआत अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्य अतिथि आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद की तस्वीर पर माल्याअर्पण कर की।

बैठक की अध्यक्षता ज़िलाअध्यक्ष अभिषेक लोधी व संचालन डॉ सुनील राजपूत व अमित बघेल ने संयुक्त रूप से किया। विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद के जीवन पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि स्वामी जी अंधविश्वास, अशिक्षा जैसी कुरितियों का जीवन भर विरोध करते रहे। उनका जन्म साधारण किसान परिवार में बुंदेलखंड के हमीरपुर जिले में हुआ था।24 वर्ष की अल्पआयु में परिवार का मोह त्याग कर उन्होंने सन्यास लिया।

स्वतंत्रता आंदोलन में उन्होंने बढ़चढ़ कर भाग लिया। देश की आज़ादी के बाद 1966 में गौ हत्या निषेद क़ानून के लिए लाखों लोगों के साथ संसद का घेराव किया, तब स्वामी जी को पकड़ कर जेल भेज दिया। तब स्वामी जी ने प्रण लिया कि अब जनता की आवाज़ संसद के अंदर उठायेंगे, ओर 1967 में हमीरपुर से सांसद चुनकर संसद पहुँच गौ हत्या के विरोध में एक घंटे तक संसद में एतिहासिक भाषण दिया। सम्पूर्ण उत्तर भारत में शिक्षा की अलख जागने को उन्होंने हमीरपुर में महाविधालय की स्थापना की। जो आज भी शिक्षा का प्रकाश सम्पूर्ण बुंदेलखंड में फैला रहा है।

अखिल भारतीय लोधी युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद लोधी ने स्वामी ब्रह्मानंद की जयंती पर बुंदेलखंड विश्वविध्यालय का नाम स्वामी ब्रह्मानंद विश्वविध्यालय करने की माँग उत्तर प्रदेश सरकार से की। इसके लिए अखिल भारतीय लोधी महासभा का प्रतिनिधि मंडल उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री व राज्यपाल को मिलकर ज्ञापन सौंपेगी। ज़िला मंत्री भाजपा डॉ सुनील राजपूत ने कहा कि स्वामी ब्रह्मानंद ने सर्व समाज के लिए अपना सब कुछ त्याग कर जीवन पर्यांत लोगों को सामाजिक क़ुरितीयों व शिक्षा के लिए जागरूक करते रहे। ऐसे महान व्यक्तित्व के पद चिन्हों पर चलकर ही युवा राष्ट्र व समाज को नयी दिशा दे सकते है। रजत लोधी ने कहा कि देश के उपेक्षित व पिछड़े इलाक़ों में शिक्षा का प्रसार कर व गौ रक्षा पर सामाजिक व विधायी स्तर पर सकारात्मक कार्य ही उनको सच्ची श्रद्धाजली होगी।

प्रमुख रूप से डॉ सुनील राजपूत,पवन चौधरी,रजत लोधी, अमित बघेल, विष्णु मुखिया, यशपाल लोधी, मनोज बघेल,प्रदेश महामंत्री हरिओम लोधी ,नरेश राजपूत, राकेश लोधी, जितेंद्र राजपूत, भगवानसिंह, राधा किशन लोधी, राहुल लोधी, आकाश राजपूत, दीपक राजपूत, विष्णु, यशपाल लोधी, गौरव राजपूत, चौब सिंह राजपूत, महेश लोधी, पूरन सिंह, चंदू राजपूत, बाबूराम लोधी, धनिराम राजपूत, घनश्याम लोधी, बच्चू सिंह लोधी, लखन राजपूत, पतिराम लोधी, डॉ अतर सिंह, पूरन लोधी, अमित राजपूत, प्रेमचन्द लोधी,मालती राजपूत, अजय लोधी, पंकज राजपूत, रोशन सिंह, दीपक लोधी, मूलचंद लोधी, कोमल सिंह लोधी, देशराज लोधी, कमलेश राजपूत आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।



Browse By Tags



Other News