नये मोटर अधिनियम के नाम पर लोगों का हो रहा शोषण : अंजनी सिंह
| Rainbow News Network - Sep 15 2019 7:12PM

चंदौली (धानापुर)। बीते कुछ दिनों पहले सड़क हादसा सुरक्षा के नाम केंद्र धानापुरमें बैठी मोदी सरकार ने देश में नया मोटर अधिनियम लागू किया जिसकी चर्चा आजकल हर चट्टी चौराहे गाँव की गलियों नुक्कड़ पर खूब देखने एवं सुनने को मिल रही। हालांकि नये मोटर अधिनियम संशोधन के बारे सही मायने में बात किया जाय तो उसमें बढ़े हुए जुर्माने के अलावा नया कुछ भी नहीं है। सारी बातें व्यवस्थाएं पुरानी ही हैं।

 रहा सवाल मोटर अधिनियम व अन्य किसी अधिनियम कि तो मेरी नजर में देश के वो सारे कानून देश में पूर्णतया निष्पक्षता एवं सख्ती से लागू होने चाहिये क्योंकि कानून का सम्मान सर्वोपरी है। हालांकि मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं कि आजादी के वर्षों से लेकर गरीबों कि हितैषी बनने का स्वांग रचने वाली मोदी सरकार के अब तक के कार्यकाल को जोड़कर देखा जाय तो किसी भी सरकारों ने देश में कानून को उचित सम्मान देने का काम नहीं किया उल्टा अपने हित अपने सहूलियत के हिसाब से इस्तेमाल किया।

उक्त बातें किसान युवा शक्ती के मासिक बैठक में समाजवादी चिंतक अंजनी सिंह ने शनिवार को खड़ान गाँव में लोगों को संबोधित करते हुए कहा। उन्होंने कहा कि जिसका खामियाजा यह हुआ कि देश का कानून जो देश के आम गरीब मजलूम कमजोर नागरिकों के हितों कि सुरक्षा के लिये बनाया गया था जिसमें देश का हर आम नागरिक लोकतंत्र के स्वामित्व का अधिकार रखता था जिसे अपनी अभिव्यक्ति को कहीं भी कभी भी व्यक्त करने कि संवैधानिक स्वतंत्रता थी वही कानून आज गरीब कमजोर लोगों को सजा देने वाला प्राविधान मात्र बनकर रह गया है। 

आज भारत के हर गरीब कमजोर आम जनता के दुःख दर्द पुकार को सुनने वाला कोई कार्यालय नहीं बचा। जहाँ देश का शरीफ औऱ गरीब जाकर अपनी फरियाद सुना सके औऱ उनकी फरियाद सुनने वाला कोई हो आम जन कि आजादी एवं स्वतंत्रता को सरकार ने हमेशा दबाने कुचलने का घिनौना प्रयास किया जिससे आज भारत के विशेष रूप से सभी समुदाय के गरीब कमजोर लोगों सहित आम शरीफ जन बुरी तरह पीड़ित हैं औऱ अब सरकार के दमनकारी रवैये से देश का मजबूत चौथा स्तम्भ पत्रकारों को भी झूठे उल्टे मुकदमे में फाँस कर डरा दबा रही है। 

सरकार गरीबों के नाम मीठी मीठी बातें करके सड़क सुरक्षा औऱ हादसे के नाम पर भारी भरकम महंगे चालान जबरिया वसूली के रूप में गाँवों में गरीबी रेखा के नीचे जीवन गुजर बशर करने वाले गरीब किसान मजदूर एवं उनके बच्चों पर थोप दिया। सरकार को सही मायने में गरीबों से कोई सरोकार नहीं अपनी गलतियों कि भरपाई सरकार जबरन वसूली से कर रही। बैठक में जामवंत सिंह, शिवम सिंह, बिट्टू सिंह, विजय नारायण सिंह, जगदीश शर्मा, हरिचरन गोंड़, विकास, राहुल यादव, संजू बिंद, सियाराम विश्वकर्मा, सरकार शर्मा, सतीश फौजदार खरवार सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

-एम. अफसर खान ‘सागर’



Browse By Tags



Other News