विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर काव्य गोष्ठी का आयोजन
| Rainbow News Network - Sep 19 2019 5:13PM

जौनपुर। नगर के फैजबाग स्थित एक पैलेश में विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर भारतीय मजदूर संघ के तत्वावधान में अखिल भारतीय काव्य मंच के बैनर तले काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठ शायर एवं कवि डा. पीसी विश्वकर्मा ने किया। उनके काव्य पाठ ‘हाल गुलशन का तुम जानना चाहो तो, बुलबुलों की सुनो बोलियां आजकल’ को लोगों ने खूब सराहा। मुख्य अतिथि उस्ताद शायर असीम मछलीशहरी ने ‘तारों के साथ-साथ संवरते जमीन पर, देखा है मैंने चांद उतरते जमीन पर... रचना प्रस्तुत किया।

वहीं डा. अजय विक्रम सिंह ने ‘कितना बड़ा शहर है कहीं प्यार नहीं है, भूखा है कौन सोया सरोकार नहीं है’ और डा. प्रमोद वाचस्पति ने ‘आपके वास्ते मुस्कुरा देंगे हम, गम जहां के हजारों भुला देंगे हम’ प्रस्तुत किया। गिरीश कुमार गिरीश ने ‘कभी गैरों के सर का बोझ अपने सर उठाया क्या, तुम्हारी जिंदगी का पल किसी के काम आया क्या’ सुनाया। श्रीमती दमयंती सिंह ने ‘जिस देश में नारी की पूजा होती है हम उस देश के वासी हैं’ पढ़ा।

राजेश पांडेय एडवोकेट ने ‘इस जहां में तू चाहे जहां जाओगे, इक जमी एक ही आसमा पाओगे’ सुनाया। इसी क्रम में आशुतोष पाल आशु, कारी जिया, सुभाष चंद्र श्रीवास्तव, आशिक जौनपुरी, रामजीत मिश्र आदि ने अपनी रचनाएं प्रस्तुत की। आभार भारतीय मजदूर संघ के जिलाध्यक्ष फूलचंद भारती ने व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन अखिल भारतीय काव्य मंच के संस्थापक डा. प्रमोद वाचस्पति ने किया।



Browse By Tags



Other News