लोगों को रूला रही है प्याज
| Rainbow News Network - Sep 24 2019 1:47PM

मंहगाई की मार झेल रहे आम इंसान को पिछले कई दिनों से प्‍याज के दाम भी खूब रुला रहा हैं। थाली में प्याज का तड़का लोगों को कुछ महीनों तक अब महंगा पड़ेगा। सभी राज्यों में प्याज के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं। बेंगलुरु, दिल्ली, उत्तर प्रदेश समेत सभी राज्यों में प्‍याज 60 से 80 रुपये प्रति किलो बिक रही है। माना जा रहा हैं कि इसके दाम में अभी और बढ़ोतरी होने की संभावना है। वहीं दिल्ली के मुख्‍यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली में 24 रुपये किलो प्‍याज बेचने का ऐलान कर दिया है। ऐसे में क्या बाकी राज्यों में सरकारें सस्‍ती प्‍याज बेचे इसकी उम्मीद आम इंसान लगाए बैठा हैं।

प्‍याज के बढ़े दामों का बड़ा कारण नासिक और राजस्थान, कर्नाटक, महाराष्‍ट्र समेत अन्‍य राज्यों में आयी बाढ़ से आवक का कम होना है। बारिश के चलते प्याज का स्टॉक खराब हो चुका है और जो उपलब्ध हैं वो भारी बारिश के चलते आंध्र प्रदेश और कर्नाटक से प्याज की नई खेप मंडियों तक पहुंची ही नहीं है। महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश के किसानों के पास पहले के जो स्टॉक उनके घरों में है, वही स्टॉक मंडियों में आ रहे हैं। इसलिए कीमतों में पिछले कुछ दिनों से बढ़ोतरी हो रही है।करीब दो-तीन महीनों तक प्याज की कीमतों में कमी के आसार नहीं दिख रहे हैं।

3 महीने तक कम नहीं होगी कीमत

ऑनियन मर्चेंट एसोसिएशन के प्रेसिडेंट राजेंद्र शर्मा ने कहा कि दक्षिण भारत के राज्यों में भारी बारिश के कारण प्याज की फसल खराब होने व नई फसल की तैयारी में विलंब हो जाने की आशंकाओं से प्याज की कीमतों को और सपोर्ट मिल रहा है। इनके अनुसार प्याज की सप्लाई काफी कम है। इस मौसम में नई फसल का स्टॉक आंध्र प्रदेश और कर्नाटक से आती है। लेकिन, बारिश के चलते प्याज का स्टॉक खराब हो चुका है। इससे इन दोनों राज्यों से प्याज न के बराबर आ रहा है। मंडियों में नासिक, अलवर और मध्य प्रदेश से आए हुए प्याज के पुराने स्टॉक हैं। प्याज की डिमांड अधिक है। इसके चलते ही कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है। महाराष्ट्र और राजस्थान से प्याज की नई खेप नवंबर तक आएगी। करीब दो-तीन महीनों तक प्याज की कीमतों में कमी के आसार नहीं दिख रहे हैं। व्यापारियों का कहना है कि देश के ज्यादातर हिस्सों में अभी भंडारण वाला प्याज बेचा जा रहा है। खरीफ या गर्मियों की फसल नवंबर से बाजार में आएगी।

केंद्र सरकार ने प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कई कदम उठाए है। इसके बावजूद प्याज के दाम चढ़ रहे हैं। एक सूत्र ने कहा, सरकार ने पिछले कुछ सप्ताह के दौरान घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों पर अंकुश के लिए कई कदम उठाए हैं। लेकिन पिछले दो-तीन दिन में उत्पादक राज्यों में भारी बारिश की वजह से आपूर्ति प्रभावित होने से प्याज की खुदरा कीमतों में भारी इजाफा हुआ है। सूत्रों के अनुसार आपूर्ति में यह बाधा सीमित समय के लिए है । यदि अगले दो-तीन दिन में स्थिति सामान्य नहीं होती है तो सरकार व्यापारियों के लिए गंभीरता से भंडारण की सीमा तय करने पर विचार कर रही है। मौसम विभाग के अनुसार प्रमुख प्याज उत्पादक क्षेत्रों विशेषरूप से महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, गुजरात, पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी मध्य प्रदेश में पिछले दो दिन में अत्यधिक बारिश हुई है।



Browse By Tags



Other News