शहीद सरदार भगत सिंह की जयंती पर विचार गोष्ठी व मिष्ठान वितरण 
| Rainbow News Network - Oct 1 2019 12:37PM

आगरा। जाट युवा संगठन के तत्वावधान में देशभक्त स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शहीद सरदार भगत सिंह की 112वीं जयंती के उपलक्ष्य में पश्चिमपुरी स्थित लष्मनपुरी कॉलोनी में विचार गोष्ठी का आयोजन एंवम मिष्टान वितरण का आयोजन किया गया। कार्यक्रम संयोजक चौ.रूपेश खिरवार रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता पवन चौधरी व संचालन रवि फौजदार ने किया। कार्यक्रम का शुभारंभ शहीद भगत सिंह चित्र पर पुष्प अर्पित ओर दीप प्रज्वलित कर किया।

विचार गोष्ठी को सम्बोधित करते पवन चौधरी ने बताया कि शहीद भगत सिंह को उन्हें भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के सबसे प्रभावशाली क्रांतिकारियों में से एक माना जाता है। उनका जन्म 28 सितम्बर 1907 को पंजाब के लायलपुर के बाबली गांव में हुआ था। यह अब पाकिस्तान का हिस्सा है। महज 23 वर्ष 5 माह और 23 दिन के अल्पकालीन जीवन में उन्होंने देशभक्ति के मायने बदलकर रख दिए और मातृभुमि के प्रति कर्तव्य कैसे निभाया जाता है, इसकी अद्भुत मिसाल दी।

हम भगत सिंह को हमेशा याद रखे और उनके विचार धारा पर चलने का संकल्प लेते है उन होने देश को आजाद करने में अपनी एहम भूमिया निवायी है महान क्रांतिकारी भगत सिंह को श्रद्धा पूर्वक नमन किया। भगत सिंह अन्याय के खिलाफ संघर्ष के प्रतीक थे। उन्होंने क्रांति का जो बिगुल फूंका,उसके चलते ही हमे 1947 में आजादी मिली। उनका बलिदान हमे हमेशा प्रेरणा देता रहेगा। शहीदो के रास्ते पर चलकर ही हम उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते है।

चौ.रूपेश खिरवार ने कहा कि भगत सिंह शहीद भले ही एक अरसा बीत चुका है पर अभी भी उनके विचार उतने प्रासांगिक है यह विचार वक्ताओं निराला भगत सिंह के विचार आज का समय और हमारी जिम्मेदारी विषय पर विचार गोष्ठी में कही। रवि फौजदार ने बताया कि भारत जब भी अपनी आजादी याद करते है हुए गर्व महसूस करता है तो उसका सिर उन शहीदों के लिए जरूर झुकता है जिन्होंने देश के लिए अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया है।

विचार गोष्ठी में चौ.रूपेश खिरवार, रवि फौजदार, पवन चौधरी, लोकपाल सिंह चाहर, शिवम चौधरी, पंकज फौजदार, अतुल चौधरी, रोहित फौजदार, नीरज चौधरी, विकास चाहर, कन्हिया परिहार, निशांत परिहार, अजीत चाहर, विकास चाहर, सौरव खिरवार, रनवीर खिरवार, तनु खिरवार, हरदेव चौधरी, अभिषेक चौधरी, रोहित छौकर, सिशान्त चौधरी, मोहित खिरवार चौधरी काफी संख्या में लोग मौजूद रहे।

रिपोर्ट - ब्रम्हानन्द राजपूत



Browse By Tags



Other News