यूपी के इस शहर में हुई कैसिनो और 'मुजरे' की मांग
| Agency - Oct 5 2019 1:10PM

आगरा से 40 किमी दूर 16 वीं शताब्दी के फतेहपुर सीकरी महल में आने वाले लोग एक 'चौपर' (पासा का खेल) देखते हैं, जिसमें फर्श पर उत्कीर्ण 25 लाल और सफेद चौकोर खंड होते हैं और बीच में एक उभरा हुआ पत्थर होता है। ऐसा कहा जाता है कि मुगल बादशाह अकबर खेल के शौकीन थे। उन्होंने अपने मंत्रियों के साथ इसे खेला था। वह डाइस संख्या पर चौकों के लिए दरबारियों या दासों का उपयोग करते थे। अब पर्यटन व्यापारी फिर से इस चौपर खेल की मांग कर रहे हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार पर्यटन व्यापार से जुड़े अरुण डांग कहते हैं कि जुआ खेल के प्रति लोगों के विरोध के कारण प्रस्ताव विफल हो गया था। लेकिन अब, पर्यटकों की घटती संख्या से चिंतित, विशेष रूप से विदेशियों की, आगरा के पर्यटन व्यापारी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए कैसिनो की मांग कर रहे हैं। ये लोग ताज के शहर में पर्यटकों को अधिक समय तक ठहराने के लिए बेताब हैं। पर्यटन व्यापारी चाहते हैं कि उनका शहर रात को भी जीवंत बना रहे और इसलिए कसीनो, डिस्कोथेक और यहां तक ​​कि 'मुजरा' केंद्र लोगों को आकर्षित करने के लिए कुछ उपायों में से एक हैं। वर्तमान में पर्यटकों के ठहरने की औसत अवधि एक दिन से भी कम है, भारत आने वाला हर चौथा पर्यटक ताजमहल की यात्रा करना ही पसंद करता है।

शहर के बुजुर्ग पुराने दिनों को याद करते हैं, जब ताजमहल रात में भी खुला रहता था। लेकिन अस्सी के दशक में खालिस्तान आंदोलन के कारण आतंकी खतरे के बाद, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने ताजमहल को रात के समय जनता के लिए बंद करने का फैसला किया था। केवल ताज ही नहीं, अन्य एएसआई पर्यटक स्थल भी सूर्यास्त के बाद बंद होने लगे। ताज महल की टाइमिंग पर प्रतिबंध से पर्यटन व्यापार को झटका लगा था और होटल मालिकों ने भी इसकी शिकायत की थी।

आगरा फोर्ट में एक लाइट एंड साउंड शो शुरू हुआ, खासकर पर्यटकों के मनोरंजन के लिए, लेकिन कुछ समय बाद बंद कर दिया गया। आगरा पर्यटन विकास फाउंडेशन के अध्यक्ष संदीप अरोड़ा कहते हैं, 'हम पास के धार्मिक गंतव्य, मथुरा से अलग हैं, और इस प्रकार हमें पर्यटकों के लिए आधुनिक और ऐतिहासिक आकर्षण चाहिए, मुख्यतः विदेशी लोगों के लिए। नेपाल और गोवा की तरह, हम केवल विदेशियों के लिए कैसिनो स्थापित कर सकते हैं। हमारे पास मुजरा केंद्र भी हो सकते हैं, पारंपरिक कला के रूप में विदेशी पर्यटकों को वापस लाने के लिए डिस्कोथेक भी हो सकता है। नहीं तो एक रात रुककर ही लोग लौट जाते हैं।'

अरोड़ा कहते हैं, 'पर्यटक, मुख्य रूप से विदेशी, दिन में ताजमहल देखने आते हैं और शाम को जयपुर या दिल्ली जाते हैं। तीन विशेष रेलगाड़ियां - गातिमान एक्सप्रेस, शताब्दी एक्सप्रेस और ताज एक्सप्रेस - दिल्ली से सुबह आती हैं और शाम को लौटती हैं और इसलिए सुबह आने वाले पर्यटक और शाम को रवाना हो जाते हैं।' इसके अलावा, यमुना एक्सप्रेसवे और लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर्यटकों को शाम तक आगरा छोड़ने की सुविधा प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा, 'हमें वर्तमान समय के अनुसार लेजर शो, लाइट और साउंड शो जैसे सांस्कृतिक उत्सवों की आवश्यकता है, ताकि पर्यटक आगरा में वापस आएं।'



Browse By Tags



Other News