इस्लाम चौक का चेहल्लुम गमगीन माहौल में सम्पन्न, उमड़ा जनसैलाब
| Rainbow News Network - Oct 21 2019 12:33PM

जौनपुर। शीराज-ए-हिन्द जौनपुर का ऐतिहासिक चेहल्लुम शनिवार को गमगीन माहौल में मनाया गया जहां मातमी नौहा गूंजता रहा। इसके पहले शुक्रवार की रात बाजार भुआ स्थित इस्लाम चौक पर ताजिया रखा गया जहां जिरायत के लिये पूरी रात अकीदतमंदों की भीड़ उमड़ी रही। इसके पहले आयोजित मजलिस में मौलाना कैसर नवाब ने खेताब फरमाया तथा अलविदाई मजलिस को मौलाना बिलाल हसनैन ने खेताब करते हुये कहा कि इमाम हुसैन को बेकफन दफन किया गया था।

लूटे कुनबे को जगह-जगह घुमाने के साथ यजीद ने चेहल्लुम तक नहीं मनाने दिया था। उधर अंजुमनों ने रात भर नौहा मातम किया जहां दहकते जंजीरों का मातम गुलशने इस्लाम ने किया तो लोगों की आंखें नम हो गयीं। शनिवार को आयोजित मजलिस को मौलाना नदीम रजा जैदी फैजाबादी ने खेताब किया। बाद खत्म मजलिस इमामबाड़े से फूलों से लदी तुरबत निकाली गयी जिसे देखकर लोग रोने लगे। तुरबत व ताजिये का जुलूस अंजुमन गुलशने इस्लाम के हमराह क्षेत्र भ्रमण करते हुये बेगमगंज स्थित सदर इमामबाड़े में खत्म हुआ।

सूर्यास्त होते ही सैकड़ों ताजियों के साथ इस्लाम चौक का ताजिया एवं तुरबत को दफन कर दिया गया। इस मौके पर चेहल्लुम कमेटी के संयोजक असगर हुसैन जैदी ने बताया कि प्रत्येक वर्ष इस्लाम की चौक का चेहल्लुम एक दिन पूर्व ही मनाया जाता है जिसमें देश भर से जायरीन शामिल होते हैं।

कार्यक्रम का संचालन अकबर हुसैन जैदी एडवोकेट ने किया। इस अवसर पर नजमुल हसन जैदी, कबीर जैदी, मौलाना सफदर हुसैन जैदी, लाडले जैदी, शाहिद जैदी, पूर्व एमएलसी सिराज मेंहदी, कमर जौनपुरी, शिया जागरण मंच के अध्यक्ष मौलाना हसन मेंहदी, नजमुल हसन नजमी, शाहिद जैदी सहित तमाम लोग उपस्थित रहे। अन्त में असगर हुसैन जैदी ने सभी के प्रति आभार जताया।



Browse By Tags



Other News