सेक्स से जुड़े 7 बड़े ही अजीबोगरीब रिवाज
| Agency - Oct 26 2019 4:13PM

ज्यादातर लोग मौजूदा समय में सेक्स ट्रेंड्स जैसे स्टीलथिंग, पेगिंग और पैनसेक्शुअलिटी के बारे में जानते है। लेकिन बहुत कम लोग ही इस बात को जानते हैं कि सेक्स के अजीबोगरीब रिवाज जैसे 21वीं सदी तक ही सीमित नहीं थी। बल्कि सदियों पहले भी तरह के रिवाज पाए जाते है। तो चलिए आज हम आपको सेक्स से जुड़े कुछ ऐसे ही अजीबोग़रीब रिवाज के बारे में बताते है।

आपको बता दें कि प्राचीन मिस्र में लिपस्टिक लगाने का मतलब होता था कि आप ओरल सेक्स के लिए पूरी तरह से तैयार है। दरअसल मिश्र की दरबारी वेश्याएं अपनी ओरल सेक्स पार्ट को दिखावा करने के लिए लिपस्टिक लगाती थी। वहीं से लिपस्टिक और ओरल सेक्स का कनेक्शन सामने आया था।

15 सदी में सब ज्यादा जूतों का चलन था। उस समय इस बात को माना जाता था। जिसका जूता सबसे ज्यादा नुकीला होगा। उसके पीनस का साइज भी उतना ही ज्यादा बड़ा होगा। गर्मी के मौसम में हैती के निवासी एक जलप्रपात में जाकर नंगा नहाते थे और प्रेम की देवी की पूजा करते थे। कुछ ज्यादा धार्मिक लोग बलि दिए गए जानवरों के खून से सेक्स करने को अच्छा मानते थे।

आयरलैंड में एक द्वीप था आइनिस बीग। इस बीच जहां के निवासियों का मानना था कि सेक्स उनकी सेहत के लिए सही नहीं है। अगर वह सेक्स करेंगे सेक्स करने से उनकी सेहत खराब हो सकती है।आज के समय में रेप्टाइल डिसफंक्शन के बहुत से इलाज है। लेकिन सातवीं शताब्दी में ऐसा नहीं था उस समय लोग इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए कई अजीबोगरीब तरीकों को अपनाते थे। जिनमें सांस को थोड़ी देख लिए रोके रखना होता था।

रूस के जार शासन ने महारानी खासतौर पर जरीना को खुश करने के लिए ऐसे व्यक्ति होते थे जो उनकी संतुष्टि के लिए फूट टिकलर्स यानी पैरों में गुदगुदी लगाने वाले का काम करते थे। फुट टिक्लर्स जारिना को खुश करने के लिए गंदे गाने गाता था।



Browse By Tags



Other News