अब जिसके हाथ में गुलाब का फूल समझो वही है बिजली चोर व बकाएदार
| Rainbow News - Jun 2 2017 2:55PM

अम्बेडकरनगर। मौजूदा समय में बिजली विभाग द्वारा की जा रही सख्ती के बावजूद भी बिजली चोरी नहीं रूक पा रही है। जिससे निजात पाने के लिए विभाग ने अब नई पहल शुरू की है। इस नई पहल के अन्तर्गत अकबरपुर/शहजादपुर में 1 जून 2017 से उपभोक्ताओं को विभाग के कर्मचारियों द्वारा गुलाब का फूल भंेट कर न सिर्फ उन्हें शर्मिंदा किया जा रहा है बल्कि कनेक्शन लेने और क्षमता बढ़ाने के लिए प्रेरित भी किया जा रहा है। इस क्रम में अकबरपुर व शहजादपुर में तेज-तर्रार युवा अवर अभियन्ता रमेश मौर्या के नेतृत्व में कर्मचारियों ने अभियान चलाया जिसके तहत घर-घर जाकर लोगों को क्षमता बढ़ाने और कनेक्शन लेने के लिए प्रेरित किया गया। कुछ कहने से पूर्व गुलाब का फूल भेंट कर उन्हें शर्मिंदा भी किया गया।

आजकल अकबरपुर व उसके जुड़वा उपनगर शहजादपुर में अकबरपुर विद्युत उपकेन्द्र पर तैनात क्षेत्रीय अवर अभियन्ता रमेश मौर्या एवं उनकी टीम द्वारा किया जा रहा कार्य जहाँ चर्चा का विषय बना हुआ है वहीं प्रबुद्ध वर्गीय सोच का सबब भी बन गया है। कई वरिष्ठ प्रबुद्धजनों ने कहा कि अकबरपुर विद्युत विभाग द्वारा इस तरह शर्मिन्दा किए जाने का कार्य अत्यन्त शोचनीय है। उनके अनुसार यदि शर्मिन्दा करने की गरज से ये विद्युत कर्मी नगरजनों को गुलाब का फूल दे रहे हैं तो जाहिर सी बात है कि इसमें विद्युत चोर और पंजीकृत विद्युत उपभोक्ता में कोई अन्तर नहीं रखा जा रहा है। कई प्रबुद्धजनों के अनुसार इस तरह का कार्य विद्युत कर्मियों की तानाशाही कही जाएगी।

ऐसा कार्य करने वालों को यह नहीं मालूम कि ढाई दशक पूर्व जब उत्तर प्रदेश में भाजपा के कल्याण सिंह सरकार के मुखिया थे तब उन्होंने कर्जदारों की भूमि नीलामी सूचना का प्रकाशन कर सार्वजनिक किए जाने पर रोक लगा दी थी। परिणाम यह हुआ कि भूमि विकास बैंक की सभी शाखाओं द्वारा पहले से पारम्परिक रूप से चली आ रही भूमि नीलामी सूचना का प्रकाशन बन्द हो गया और इससे किसानों का मनोबल एवं मोराल किसी भी तरह से क्षतिग्रस्त होने से बचने लगा। बैंक कर्मियों ने उन किसानों जो उक्त बैंक के कर्जदार रहे से विनम्रता पूर्वक धन वसूली करने में अपनी सक्रियता दिखाई, और कहीं से भी बैंक व कर्जदारों के बीच किसी भी प्रकार की खटास नही उत्पन्न हुई। बैंकों के पैसे भी मिले और किसानों की भूमि भी नीलाम होने से बची साथ ही उन्हें सार्वजनिक रूप से शर्मिन्दा भी नहीं होना पड़ा।

अब जब प्रचण्ड बहुमत वाली पार्टी भाजपा की सरकार है और सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ है तब ऐसे में कौन सा ऐसा आदेश जारी कर दिया गया जिससे हर आम खास उपभोक्ता को विद्युत कर्मियों द्वारा गुलाब का फूल देकर शर्मिन्दा किया जाना शुरू कर दिया गया है।

अशोक कुमार

मुख्य अभियन्ता, फैजाबाद जोन

इस बावत रेनबोन्यूज ने जब मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लि. के फैजाबाद जोन के मुख्य अभियन्ता अशोक कुमार से वार्ता किया तो उन्होंने कहा कि यह पहल उनके द्वारा ही शुरू करवाई गई है। ऐसा लखनऊ आदि जैसे बड़े शहरों में पहले से होता आया है। इस पहल के पीछे जो उद्देश्य छिपा है वह यह कि इससे बकाएदार व विद्युत चोर आसानी से चिन्हित होंगे साथ ही विद्युत बकाएदारों का विद्युत कनेक्शन विच्छेदन करके उन्हें किसी तरह की पीड़ा न देकर प्यार से बकाया वसूल किया जाए।

इसके अतिरिक्त अनधिकृत रूप से विद्युत उपभोग करने वाले लोगों को कनेक्शन लेने के लिए बाध्य किया जाए। उनका कहना है कि यदि यह पहल कामयाब रही तो साँप भी मर जाएगा और लाठी भी नहीं टूटेगी यानि विद्युत देयों की वसूली, विद्युत भार व कनेक्शन की वृद्धि भी होगी साथ ही इस पहल में चिन्हित अनधिकृत विद्युत उपभोक्ता विद्युत कनेक्शन लेकर विभाग की नजरों में सम्मानित उपभोक्ताओं की श्रेणी में शुमार हो जाएँगे।

उनका मानना है कि ऐसा करने से बकाया विद्युत राजस्व वसूली में आसानी होगी साथ उपभोक्ता भी विभाग से खुश रहेगा। उनकी बात से लगा कि उनकी सोच एक विशुद्ध सुलझे व्यवसाई की तरह है जो विद्युत उपभोक्ताओं को अपना देवतुल्य ग्राहक मानता है। ‘‘ग्राहक देवो भव’’ को मूल मंत्र मानते हुए मुख्य अभियन्ता एम.वी.वी.एन.एल. फैजाबाद जोन अशोक कुमार द्वारा यह पहल शुरू करवाया गया है। अशोक कुमार ने कहा कि मीडिया को भी चाहिए कि वह उनके इस पहल के उद्देश्य को तोड़-मरोड़ कर न प्रस्तुत करे, और उसके सकारात्मक पहलू को ही प्रकाशित/प्रसारित करे जिससे जनता में एक अच्छा संदेश जाए।

यह तो रही मुख्य अभियन्ता अशोक कुमार की पहल देखना यह है कि यह पहल कितना चिर स्थाई होगी और विद्युत कर्मियों व उपभोक्ताओं के बीच इससे कितना मैत्रीपूर्ण भाव कायम होगा। 

-रीता विश्वकर्मा

8765552676



Browse By Tags



Other News