महिला स्वास्थ्य पर कार्यक्रम आयोजित
| Rainbow News Network - Nov 26 2019 2:30PM

गाजीपुर। राजकीय महिला महाविद्यालय, गाजीपुर में हजारो छात्राओं के बीच माहवारी सुरक्षा एवं महिला स्वास्थ्य तथा पॉलीथीन मुक्त समाज पर विशाल कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में जीवन सुरक्षा फाउन्डेशन ट्रस्ट एवं महिला कल्याण स्टोर  द्वारा उपलब्ध कराये गये सेनेटरी वेंडिंग मशीन और सेनेटरी डिस्पोजल मशीन का उद्घाटन करते हुये कार्यक्रम की मुख्य अतिथि मा0 सरिता अग्रवाल, अध्यक्ष, नगर पालिका परिषद्, गाजीपुर ने सेनेटरी पैड के महत्व एवं माहवारी के दौरान साफ सफाई एवं भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे स्वच्छ भारत मिशन के बारे में विस्तार पूर्वक बताया। कार्यक्रम में उपस्थित विशिष्ट अतिथि एवं प्राचार्या. प्रो0 सविता भारद्वाज ने छात्राओं को सेनेटरी पैड के महत्व को समझाते हुये दैनिक जीवन में स्वच्छता के महत्व को बताया। 

जीवन सुरक्षा फाउन्डेशन ट्रस्ट के प्रधान ट्रस्टी श्री ध्रुव नारायण जी ने घोषणा किया कि जल्दी ही  सेनेटरी वेंडिंग मशीन और सेनेटरी डिस्पोजल मशीन की मैन्यूफैक्चरिंग युनिट लगाया जायेगा जिससे इस क्षेत्र की हजारो महिलाओं को अर्न्तराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च 2020 तक  रोजगार दिया जा सके। मुख्य ट्रस्टी ने कहा कि पहले भी इस क्षेत्र में महिला कल्याण स्टोर के माध्यम से उनके स्वस्थ जीवन एवं रोजगार के लिये कार्य किया गया है।

इस अवसर पर प्रबन्ध ट्रस्टी  श्री कृष्ण कान्त ने बताया कि भारतीय माहवारी स्वच्छता संगठन के एक अनुमान के अनुसार वर्तमान समय में भारत में कुल 336 मिलियन महिलाओं को सेनेटरी पैड की जरुरत पड़ती है। जिसमें से केवल 36 प्रतिशत महिलायें यानी केवल 121 मिलियन महिलाओं को ही सेनेटरी पैड उपलब्ध है, अर्थात 215 मिलियन युवतियों एवं महिलाओं तक सेनेटरी पैड की पहुॅच नहीं है। ऐसे में इस संस्था के माध्यम से कुछ हद तक यह प्रयास किया जा रहा है कि सेनेटरी नैपकिन पैड की उपलब्धता में अपनी अधिक से अधिक भागीदारी और महिलाओं  को इसके माध्यम से स्वच्छ सेनेटरी नैपकिन एवं रोजगार उपलब्ध कराया जा सके।

कार्यक्रम के दौरान महिला कल्याण स्टोर की प्रबन्धक एवं जीवन सुरक्षा फाउन्डेशन ट्रस्ट की समन्यवक श्रीमती विद्यावती जी ने बताया कि 12 से 51 साल के बीच लगभग 38 वर्ष महिलाओं को पीरियड से गुजरना पड़ता है। इस बीच सामान्यतः 456 पीरियड से 2280 दिन इस पीरियड का सामना करना पड़ता है। इन पीरियड के दिनों में महिलाओं एवं युवतियों को रक्तस्राव व दर्द का भी सामना करना पड़ता है, इन दिनों में वे बहुत असहज एवं परेशान रहती हैं। हम सबको मालूम है कि ग्रामीण महिलायें रूपये-पैसे के लिये पुरूषों पर निर्भर रहती हैं। ये अपने स्तर से माहवारी सुरक्षा तो करती ही हैं, पर पुरूषों की भी उतनी ही जिम्मेदारी बनती है।

चूंकि अधिसंख्य महिलायें / युवतियाँ घरों के अन्दर ही रहती हैं इसलिये पुरूषों की सबसे पहले जिम्मेदारी बनती है कि उन्हें हर महीनें समय से स्वच्छ सेनेटरी नैपकिन पैड उपलब्ध करायें। स्वच्छ सेनेटरी नैपकिन पैड के महत्व को समझाते हुये उन्होने बताया कि सेनेटरी वेंडिंग मशीन द्वारा सिर्फ पाँच रूपये में एक अनियन युक्त एवं पॉलीथीन मुक्त सेनेटरी पैड उपलब्ध होगा। उन्होने स्वच्छ भारत अभियान के तहत 8 मार्च 2020 विश्व महिला दिवस तक गाजीपुर के प्रत्येक ब्लाक एवं ग्राम सभा स्तर पर  सेनेटरी वेंडिंग मशीन और सेनेटरी डिस्पोजल मशीन उपलब्ध कराने की बात कही जिससे ग्राम स्तर पर सम्पूर्ण सेनेटरी हाईजीन उपलब्ध हो सके। ट्रस्ट की पी.आर.ओ. सुश्री रीना राज ने सेनेटरी वेंडिंग मशीन की कार्यप्रणाली के बारे में बिस्तार पूर्वक बताया एवं मशीन से सेनेटरी पैड निकाल कर प्रदर्शित भी किया।

Report- रीना राज



Browse By Tags



Other News