बड़े पैमाने पर नकली, मिलावटी नमकीन का हो रहा है उत्पादन व बिक्री
| - Rainbow News Network - Jan 9 2020 3:09PM

अम्बेडकरनगर। जिले में बड़े पैमाने पर ब्राण्डेड नाम की नकल कर मिलावटी नमकीन का उत्पादन व बिक्री की जा रही है, जिसके सेवन से लोगों का स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है। कम पैसा इन्वेस्ट कर ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाने की गरज से इस व्यापार में अनगिनत लोग जुड़े बताये जाते हैं। इन्हें जनस्वास्थ्य से कोई सरोकार नहीं है। यदि कहा जाये कि ये लोगों के जान के दुश्मन हैं और जनस्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं तो गलत नहीं होगा। 

अम्बेडकरनगर जनपद की सभी पाँचों तहसीलों और मुख्यालयी शहर अकबरपुर व उसके जुड़वा उपनगर शहजादपुर के कई इलाकों में नकली, जानलेवा, घटिया किस्म की नमकीन उत्पादन की जा रही है। इस तरह के कारखाने बगैर किसी लाइसेन्स के संचालित किए जा रहे हैं ऐसा बताया जाता है। इन नमकीन कारखानों में निर्मित की जा रही नमकीन में घटिया किस्म का बेसन व नॉन एडिबुल ऑयल का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस तरह की घटिया, कम गुणवत्ता वाली नमकीन के सेवन से जनस्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है। सेवन करने वाले लोग विभिन्न प्रकार की बाह्य एवं आन्तरिक शारीरिक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। 

बताया जाता है कि इस व्यापार में लगे लोग नमकीन बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाले चना, मटर, मूंग, मसूर, मूंगफली के साथ ही बेसन, मसाले व ऑयल आदि घटिया किस्म के होते हैं। यही नहीं इस तरह की उत्पादित नमकीनों को ब्राण्डेड व इससे मिलते-जुलते नाम वाली पैकेटों में भरकर बाजारों में बेंचा जा रहा है। जिले के गाँव, कस्बा, बाजारों, शहर की दुकानों पर बिकने वाली इन नमकीन के सेवन से लोग पेट व चमड़ी की बीमारियों की चपेट में आकर चिकित्सकों की शरण में इलाज हेतु पहुँच रहे हैं। 

यकृत, चमड़ी व गुर्दे होते हैं प्रभावित-

घटिया, मिलावटी तेलों के प्रयोग से बनने वाली नमकीनों व अन्य खाद्य सामग्रियों के सेवन से लीवर, त्वचा व किडनी पर असर पड़ता है। विशेषज्ञ चिकित्सकों के अनुसार इस तरह के मिलावटी व घटिया स्तर की खाद्य सामग्रियों व नमकीन के सेवन से बचना चाहिए। 



Browse By Tags



Other News