उत्तर प्रदेश में अब जाम छलकाना पड़ेगा महंगा
| Agency - Jan 22 2020 1:22PM

उत्तर प्रदेश में अब लोगों को जाम छलकाना महंगा पड़ सकता है। यूपी में अप्रैल से शराब पीने और पिलाने वाले लोगों की जेब पर असर पड़ सकता है। योगी सरकार ने वित्तीय वर्ष 2020-21 की आबकारी नीति में शराब और बीयर की दुकानों की लाइसेंस फीस और एक्साइज ड्यूटी बढ़ाने का फैसला लिया है। दरअसल मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को कैबिनेट बैठक हुई। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। कैबिनेट ने शराब बेसिक लाइसेंस फीस में बढ़ोतरी का फैसला किया है। वित्तीय वर्ष 2020-21 की आबकारी नीति के तहत देसी मदिरा , बीयर और विदेशी मदिरा के बेसिक लाइसेंस फीस में क्रमशः 10, 15 और 20 फीसदी की बढ़ोतरी का प्रस्ताव पारित किया है। 

योगी सरकार के इस फैसले से यूपी में फुटकर शराब  और बीयर  बेसिक लाइसेंस फीस बढ़ने के कारण पहली अप्रैल से बीयर के केन और बोतल के मूल्य में 10 रुपये की बढ़ोत्तरी हो जाएगी। देसी शराब के पउवे पर पहली अप्रैल से 5 रुये ज्यादा अदा करने होंगे। मीडियम रेंज की अंग्रेजी शराब 500 रुपये तक की बोतल पर 40 से 80 और क्वार्टर पर 10 से 20 रुपये बढ़ जाएंगे। प्रीमियम ब्रांड यानि 500 रुपये से अधिक मूल्य की बोतल पर 80 से 160 रुपये और क्वार्टर पर 20 से 40 की बढ़ोत्तरी होगी। यह फैसला मंगलवार को प्रदेश कैबिनेट की बैठक में किया गया।

पूरे प्रदेश में शराब की दुकानों का नवीनीकरण पूरी तरह से ऑनलाइन होगा और उन्हें एक साथ ऑनलाइन किया जाएगा। इस अलावा एक शख्स एक जनपद में सिर्फ 2 दुकानों के लिए लाइसेंस रख पाएगा। ब्रांड और लेबल अप्रूवल सिर्फ सिंगल स्टेज पर होगा। वहीं ट्रेड मार्क रजिस्ट्रेशन जरूरी कर दिया गया है। माइक्रो ब्रेवरी में एक्साइज ड्यूटी कम कर दी गई है। इसके अलावा बीयर शॉप पर अब वाइन की बिक्री भी की जा सकेगी।



Browse By Tags



Other News