किछौछा दरगाह से तीन महिला चेन स्नेचर गिरफ्तार, माल बरामद
| - RN. Network - Feb 28 2020 3:37PM

अम्बेडकरनगर। धीरेन्द्र कुमार ‘धीरू’। पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी के निर्देशन में जनपद में अपराध की रोकथाम व अपराधियों के विरूद्ध निरन्तर की जा रही कार्यवाही के क्रम में गुरूवार 27 फरवरी 2020 को थाना बसखारी पुलिस टीम ने तीन महिला चेन स्नेचरों को दरगाह किछौछा शरीफ से धर दबोचा साथ ही उनके पास से छीना गया चेन भी बरामद कर लिया। किछौछा शरीफ में इस तरह की घटनाओं की शिकायते काफी समय से मिल रही थीं, जिनमें दरगाह किछौछा शरीफ में ज़ियारत के लिए आने वाली महिला जायरीनों के कीमती आभूषणों की छिनैती सिद्धहस्त चेन स्नेचरों द्वारा किया जाता रहा।

इस तरह की घटनाओं को गम्भीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक ने तेज-तर्रार पुलिस उपनिरीक्षकों, आरक्षियों को सक्रिय कर रखा था। एस.पी. के सख्त निर्देश का परिणाम यह रहा कि बीते दिवस चेन स्नेचिंग की शिकार एक महिला की तहरीर पर बसखारी थाने की पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए चेन छीनने वाले गिरोह की तीन महिलाओं को धर दबोचा। 

विवरण अनुसार बसखारी थाना क्षेत्र के किछौछा शरीफ दरगाह में गुरूवार 27 फरवरी 2020 को गोरखपुर जिले के थाना पीपीगंज अन्तर्गत राजावाड़ी जसवल बाजार निवासी विजय की पत्नी प्रेमलता जियारत के लिए आई थी। भीड़ का फायदा उठाते हुए महिला चैन स्नेचरों ने अपनी चैन स्नेचिंग कला का प्रदर्शन करते हुए प्रेमलता के गले से सोने की चेन पार कर दिया। जिसकी कीमत 45000 बताई गई। पीड़िता/वादिनी ने उक्त आशय की एक तहरीर थाना बसखारी में दिया जिस पर थाने में मु0अ0सं0-58/250 धारा 379 भा0द0वि0 पंजीकृत कर लिया। और सक्रिय पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए तीन महिला स्नेचरों को छिनैती की गई चेन के साथ पकड़ लिया। 

पकड़ी गई महिलाओं का नाम सुनीता पत्नी राजेश निवासी मुड़ियार थाना फूलपुर, जिला आजमगढ़, रिंकू पत्नी अजय निवासी कुन्दौली, थाना मइल, जनपद देवरिया तथा रूबी पत्नी मधु निसासी दुबौलिया, थाना दूधारी जिला सन्तकबीर नगर बताया गया। इन महिलाओं में से सुनीता नामक महिला अभियुक्त ने पुलिस को बताया कि वह अपने महिला साथियों रिंकू व रूबी के साथ दरगाह में रहकर भीड़-भाड़ वाले क्षेत्र में बाहर से आने वाली महिला जायरीनों का चेन काट लेती है जिसको बेंचकर हम हिस्सा बांटकर अपने परिवार का खर्चा चलाते हैं। 

सुनीता ने बताया कि चेन काटने से पहले भीड़-भाड़ वाली जगह में महिला शिकार की पहचान कर ली जाती है। इसके बाद उनका एक साथी महिला शिकार को धक्का देता है, दूसरा चेन काटता है और तीसरे साथी को चैन देकर वहाँ से भगा दिया जाता हैं। सुनीता ने बताया कि मौके पर यदि चेन काटते कोई पकड़ा भी जाता है तो उनके पास से चेन नहीं मिलती है, जिस पर लोग उन्हें छोड़ देते हैं। इस तरह हम लोग भीड़ से बच जाते थे और अपने ठिकाने पर पहुँच जाते थे। 

27 फरवरी 2020 को जिले के थाना बसखारी पुलिस को एक बड़ी सफलता हाथ लगी। बताया गया कि तीन महिलाएँ एक स्थान पर बैठकर आपस में बात कर रही थीं, इसी बीच महिला जायरीन प्रेमलता और पुलिस टीम वहाँ पहुँची। पीड़िता जायरीन प्रेमलता ने महिलाओं को पहचान लिया, उसके इशारा करते ही पुलिस टीम ने इन तीनों को भागने का मौका दिये बिना ही धर-दबोचा। पुलिस टीम में शामिल महिला आरक्षी ने महिला चेन स्नेचरों की तलाशी लेकर उनके पास से चेन भी बरामद कर लिया। जिसकी कीमत 45000 रूपए बताई गई।

उक्त जानकारी पुलिस अधीक्षक कार्यालय में शुक्रवार 28 फरवरी 2020 को आयोजित एक प्रेसवार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने देते हुए पत्रकारों को बताया कि महिला चेन स्नेचरों को गिरफ्तारकर्ता टीम में वरिष्ठ उपनिरीक्षक वीरेन्द्र कुमार राय, उपनिरीक्षक अभय कुमार, आरक्षी सुनील यादव, आरक्षी काशीनाथ यादव व महिला आरक्षी रेखा रानी शामिल रहे। पुलिस अधीक्षक ने चेन स्नेचर गिरफ्तारकर्ता पुलिस टीम को 5 हजार रूपए का नकद पुरस्कार देने की बात कही।    

Report- धीरेन्द्र कुमार ‘धीरू’



Browse By Tags



Other News