कोरोना वायरस को लेकर कागजों में चल रहे सरकारी इंतजाम
| - RN. Network - Mar 14 2020 4:01PM

आलापुर–अम्‍बेडकरनगर। (अखिलेश जायसवाल)। प्रदेश में कोरोना वायरस के बढते प्रकोप को देखते हुए सरकार ने भले ही पूरे प्रदेश को महामारी की श्रेणी में रखते हुए एडवाइजरी जारी कर दिया है परन्‍तु स्‍थानीय तहसील क्षेत्र में कोरोना वायरस के सरकारी इंतजाम नाकाफी साबित हो रहा है। स्‍वास्‍थ्‍य महकमा जनपद मुख्‍यालय पर ही आइसोलेशन वार्ड के सहारे कोरोना वायरस से निपटने के लाख दावे तो कर रहा है परन्‍तु तहसील क्षेत्र के स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों पर एलर्ट के अलावा विभागीय इंतजाम महज कागजी साबित हो रहे है। जबकि प्रदेश में कोरोना वायरस के कई मामले सामने आने पर सरकार ने 22 मार्च तक के लिए सभी स्‍कूल–कालेजों को बंद रखने का निर्देश दिया है।  

बता दें कि प्रदेश में कोरोना वायरस के बढते प्रकोप को देखते हुए महज जनपद मुख्‍यालय पर ही आइसोलेशन वार्ड बनाया है। जबकि कुषक व मजदूर बाहुल्‍य तहसील क्षेत्र आलापुर की आबादी 9 लाख से अधिक है जिनके इलाज के लिए क्षेत्र में दो सीएचसी और करीब आधा दर्जन पीएचसी केन्‍द्र संचालित है। बावजूद इसके इन स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों पर सामान्‍य रोगों के इलाज के अलावा ईलाज की कोई अन्‍य विशेष सुविधा उपलब्‍ध नहीं है। यहॉ तक की सीएचसी केन्‍द्रों को छोडकर अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों पर एक्‍सरे व अन्‍य जांच की सुविधायें भी मौजूद नहीं है। जबकि सीएचसी केन्‍दों जहांगीरगंज व आलापुर की एक्‍सरे मशीनें वर्षो से खराब पडी धूल फांक रही है। ऐसे में सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्‍वास्‍थ्‍य महकमा कोरोना वायरस से निपटने के लिए कितना तैयार एवं गम्‍भीर है। 

आलापुर तहसील क्षेत्र के किसी भी सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों पर कोरोना वायरस के पीडितों के इलाज के लिए न तो कोई वार्ड बनाया गया है और न ही विशेषज्ञ चिकित्‍सकों की तैनाती ही हुई है। हलांकि तहसील क्षेत्र में कोरोना वायरस का कोई केस अभी तक सामने नहीं आया है। तहसील क्षेत्र के एक गांव निवासी थाईलैण्‍ड के बैंकाक से बीते 4 मार्च को घर वापस आया युवक स्‍वास्‍थ्‍य महकमें की निगरानी में बताया जा रहा है। हलांकि कोरोना वायरस की पुष्‍टि नहीं हुई। बताया जाता है कि विदेश से आने वाले लोगों को 28 दिनों तक स्‍वास्‍थ्‍य महकमा अपनी निगरानी में रख रहा है। विदेश से आ रहे व्‍यक्‍तियों पर सरकार व स्‍वास्‍थ्‍य महकमा विशेष नजर बनाये हुए है। इसके साथ ही कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश सरकार ने जिला प्रशासन के लिए एडवायजरी जारी करके सभी स्कूल कॉलेजों को 22 मार्च तक के लिए बंद रखने का निर्देश दिया है। 

इस बाबत जहांगीरगंज सीएचसी के स्‍वास्‍थ्‍य अधीक्षक डा0 उदयचन्‍द यादव और आलापुर सीएचसी के स्‍वास्‍थ्‍य  अधीक्षक डा0 एम एल निगम का कहना है कि क्षेत्र में अभी तक एक भी कोरोना वायरस के मरीज की पुष्‍टि नहीं हुई है। कोरोना वायरस की गंभीरता को देखते हुए स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र पर मौजूद सुविधाओं में यहतियात बरती जा रही है।

कोविड-19 से निपटने की है पूरी तैयारी: डॉ. अशोक कुमार 

नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 से निपटने की तैयारियों के बावत अम्बेडकरनगर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अशोक कुमार ने रेनबोन्यूज को बताया कि नोबल कोरोना वायरस कोविड-19 से निपटने की पूरी तैयारी कर ली गई है। इसके लिए जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 10-10 बेडो का स्पेशल वार्ड बनाया गया है। साथ ही जिले की सभी सीएचसी व पीएचसी पर एक-एक कमरे की व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा रैपिड टीम बनाई गई है जो पूरे जिले में सक्रिय होकर संदिग्ध संक्रमित मरीजों पर अपनी नजर रखे हुए है। इस टीम में विशेषज्ञ चिकित्सक शामिल हैं। वायरस संक्रमित मरीजों का समुचित उपचार जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज अस्पताल में किये जाने की व्यवस्था है। जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र संदिग्ध मरीजों के लिए संदर्भित करने के केन्द्र हैं।



Browse By Tags



Other News