अम्बेडकरनगर के जलालपुर क्षेत्र में हुआ जोरदार रहस्यमयी धमाका
| - RN. Network - Mar 19 2020 4:43PM

जोरदार धमाके को लेकर लोग दहशत में, चर्चाओं का बाजार गर्म

तीव्र धमाका जरूर हुआ, परन्तु जान-माल का कोई नुकसान नहीं: महेन्द्र पाल सिंह

जितने लोग, जितने मुँह, उतनी बातें.......। बातें ठीक उसी तरह जैसे स्कूली बच्चों को प्राथमिक कक्षाओं के स्तर की अंग्रेजी किताब के पाठ में........लिखा पढ़ाया जाता है कि- रन अवे द स्काई इज फालिंग.......। और किरदार हम्पटी, डम्पटी के इतना कहने मात्र से पूरे जंगल के जानवर बगैर वास्तविकता ‘जाने भागो, भागो आसमान गिर रहा है’ कहते हुए जंगल में दौड़ लगाने लगे थे। हुआ क्या था यह भी जान लें कि हम्पटी-डम्पटी नामक एक खरगोश जंगल में किसी पेड़ के नीचे बैठा आराम कर रहा था, तभी हवा के झोंके से टूटकर पका हुआ फल उसके सिर पर गिरता है, अर्द्ध निद्रा में आराम फरमा रहा खरगोश अकस्मात फल गिरने से चौंक गया और उसे लगा कि आसमान गिर रहा है। यही सब सोचकर वह बैठने के स्थान से भागने लगा और जंगल के जानवरों को आगाह करने लगा कि भागो-भागों आसमान गिर रहा है। 

ठीक इसी तरह इस समय जबकि पूरे विश्व में नोबेल कोरोना वायरस का कहर जारी है और भारत देश में इसको महामारी घोषित कर दिया गया है। इससे बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ अपील की जा रही है कि लोग सतर्क रहें, घबराये नहीं और अफवाहों पर ध्यान न दें। इसी बीच यदि सोशल मीडिया जैसे सर्वसुलभ प्रचार माध्यम पर कुछ ऐसे समाचार वायरल हों जिनका सम्बन्ध कोरोना जैसे प्राणघातक महामारी से अनावश्यक रूप से जोड़ा जाये तब बात अवश्य ही शोचनीय हो जाती है। 

इसी तरह की एक खबर हमें गुरूवार 19 मार्च 2020 को अपरान्ह पढ़ने को मिली जो सोशल मीडिया और व्हाट्सएप्प पर वायरल हो रही थी। उसके अनुसार उत्तर प्रदेश सूबे के जनपद अम्बेडकरनगर की तहसील जलालपुर क्षेत्र में पूर्वान्ह 11 और 12 बजे के बीच एक धमाका हुआ, जिसके चलते घरों की खिड़की-दरवाजों के शीशे, दीवारें हिल गईं। इस धमाके को आकाशीय धमाका बताने वाले सोशल मीडिया पर सक्रिय लोगों के अनुसार जलालपुर क्षेत्र के तमाम मकान, शेड, पेड़ों के हिलने की बात कही। उनके अनुसार क्षेत्र के लोगों में धमाके को लेकर तरह-तरह की चर्चाएँ हुईं, साथ ही दहशत का माहौल भी देखा गया। सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही इस खबर में बताया गया कि तेज धमाका और भूकम्पन से सड़़क पर चलने वाले राहगीर और मोटर बाइक असंतुलित होकर गिर पड़े। हकीकत क्या जिसको देखो वही वायरल हो रही इस खबर की सच्चाई के बावत जानने को उत्सुक हो गया। 

वायरल खबर के अनुसार उक्त धमाका इतना तीव्र था कि जलालपुर तहसील मुख्यालय से 25 किलोमीटर की परिधि में पड़ने वाले जलालपुर, बसखारी, मालीपुर, भियाँव, जैतपुर आदि क्षेत्रों में इसको महसूस किया गया। उसी खबर के अनुसार दरवाजे टूटे, खिड़कियों के शीशों से धड़ाम की आवाज आई, दीवारें हिल गईं आदि...........कोरोना से सम्बन्धित तरह-तरह की अफवाहों के अलावा..........अनेकानेक अनहोनी घटनाओं से सम्बन्धित चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया। 

भारत संचार निगम लिमिटेड की मोबाइल व लैण्ड लाइन सेवाओं के ध्वस्त होने की वजह से त्वरित रूप से इस धमाके के बारे में कोई जानकारी स्पष्ट रूप से नहीं मिल पाई। जितने मुँह, उतनी बातें। हमने बीएसएनएल के अलावा अन्य सेवा प्रदाता कम्पनियों के मोबाइल सिम धारकों से सम्पर्क कर गुरूवार की दोपहर खबर वायरल होने के तुरन्त बाद पता लगाना शुरू किया तो सभी ने अपने-अपने तरीके से उक्त रहस्यमयी जोरदार धमाके के बारे में बताया। एक ने कहा कि गुम्मी जहाज (जेट प्लेन) ब्लास्ट किया, एक ने कहा कि क्षेत्र में कोरोना वायरस न फैले इसलिए गैस भरा गुब्बारा आसमान में ब्लास्ट कराया गया। 

एक ने बताया कि गोरखपुर में जेट प्लेन उड़ाने का प्रशिक्षण पायलटों को दिया जाता है, उसी क्रम में गोरखपुर से जलालपुर, अयोध्या आकाशीय मार्ग से उड़कर उक्त जेट प्लेन को गोरखपुर वापस होना था। उसी में पीछे धुँआ फेंकने वाले उपकरण में ब्लास्ट हुआ, जिससे जोरदार धमाके की आवाज आई। इन सभी ने अपने-अपने तरीके से उक्त धमाके के बावत जानकारी दी, परन्तु किसी ने भी यह नही स्वीकारा कि क्षेत्र में जान-माल का नुकसान हुआ है। सब कुछ सामान्य सा चल रहा है। तेज धमाके की वजह से लोग थोड़ा दहशत में हैं। ऊपर से वायरल होने वाली खबर ने दहशत में और भी इजाफा कर दिया है। 

अन्ततः अपरान्ह लगभग ढाई बजे बीएसएनएल सेवा बहाल होते ही हमने खबर की पुष्टि के लिए उपजिलाधिकारी जलालपुर और एस.एच.ओ. थाना जलालपुर से दूरभाषीय सम्पर्क किया। एस.डी.एम. महेन्द्र पाल सिंह ने बताया कि यह घटना 11.30 बजे पूर्वान्ह की है। धमाका तेज था। हमने पुलिस व राजस्व टीम के साथ क्षेत्र भ्रमण कर धमाके का पता लगाने के लिए क्षेत्र भ्रमण किया और कई गाँवों में जाकर लोगों से बात किया। हमें क्षेत्र में किसी भी तरह के जान-माल के नुकसान की कोई जानकारी नहीं मिली।

क्षेत्र के लोगों ने धमाका तेज होने की बात कही। उपजिलाधिकारी महेन्द्र पाल सिंह ने कहा कि कोई घबराने वाली बात नहीं है। हमारी नजर हर तरफ और हर पहलू पर है। हमने क्षेत्र के लोगों से सम्पर्क कर उनसे अपील किया कि किसी भी अफवाह पर ध्यान न दें। कोरोना जैसी महामारी के प्रति सतर्क रहें। उन्होंने लोगों से कहा कि क्षेत्र में धमाके की आवाज तो जरूर सुनी गई थी, लेकिन जानमाल के नुकसान की कोई खबर नहीं है, और न ही उनके निरीक्षण के दौरान ऐसा कुछ मिला। धमाका कैसे हुआ, इसका क्या कारण रहा होगा पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि स्पष्ट रूप से कुछ भी कहना मुश्किल है। 

एस.डी.एम. जलालपुर से वार्ता के पूर्व एस.एच.ओ. थाना जलालपुर प्रदुम्न कुमार सिंह जो रहस्यमयी धमाके का पता लगाने के लिए क्षेत्र में एस.डी.एम. जलालपुर महेन्द्र पाल सिंह के साथ गये थे ने कहा कि धमाका तो हुआ, उसकी तीव्रता भी अधिक थी, परन्तु जान-माल की कोई हानि नहीं हुई है। 

एक जानकार ने बताया कि वायरल हो रही खबर के साथ जो आकाशीय धमाके की कथित फोटो वास्तविक नहीं लगती। प्रतीत होता है कि यह कृत्रिम और इन्टरनेट गूगल के जरिये लिया गया है। इसकी सच्चाई पर इस लिए प्रश्न चिन्ह लग रहा है कि धमाका अचानक हुआ, ऐसे में कैसे ज्वलंत तरीके से फोटो खीची जा सकती है। साढ़े 11 बजे की घटना के बाद से सिर्फ चर्चाएँ ही हो रही हैं। पुलिस और प्रशासन द्वारा जलालपुर क्षेत्र समेत पूरे जनपद में स्थिति सामान्य एवं शान्तिपूर्ण होने का दावा किया गया।  

बहरहाल कुछ भी हो। जलालपुर क्षेत्र में गुरूवार का दिन और पूर्वान्ह साढ़े 11 बजे का समय...........होने वाला जोरदार धमाका, जिसे लोगों द्वारा तरह-तरह की चर्चाओं के बीच आकाशीय कहा जा रहा है इसके रहस्य पर से पर्दा उठाया जाना आवश्यक है, तभी लोगों की उत्सुकता समाप्त होगी। 

-रीता विश्वकर्मा, 8423242878



Browse By Tags



Other News